खबरें आपकी

मेडिकल एजेंसी के स्टाफों ने चोरी कर बेच डाली दी दस लाख की दवा

Scroll down to content

शहर के जेल रोड स्थित एलाइड मेडिकल एजेंसी की घटना

एजेंसी के स्टाफ सहित पांच गिरफ्तार, दवा भी बरामद

आरा(डॉ के कुमार/दिलीप ओझा)। शहर के जेल रोड स्थित एक मेडिकल एजेंसी से करीब दस लाख रुपये दवा चोरी कर बेच डाली गयी। चोरी की इस बड़ी घटना में मेडिकल एजेंसी के स्टाफों की मिलीभगत सामने आयी है। इस मामले में पुलिस ने स्टाफ सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि एक आरोपित अभी फरार है। पकड़े गये लोगों की निशानदेही पर चोरी गयी दवा भी बरामद की गयी है। जानकारी के अनुसार गिरफ्तार लोगों में राजू कुमार, राहुल कुमार, सुनील कुमार वर्मा, रमेश सिंह व धर्मेंद्र सिंह शामिल हैं। इनमें रमेश सिंह क्लब रोड स्थित एक मेडिकल हॉल के मालिक हैं। इन पर चोरी की दवा बेचवाने में मदद करने का आरोप लगा है। इसे लेकर एजेंसी मालिक कृष्ण कुमार गुप्ता के बयान पर आरा नगर थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। इनमें छह लोगों को आरोपित किया गया है। पुलिस के अनुसार पूछताछ में गिरफ्तार पांचों द्वारा अपना गुनाह कबूल कर लिया गया। इसके बाद पांचों आरोपितों को जेल भेज दिया गया। वहीं फरार आरोपित राजकुमार की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

  कोइलवर में सोन नदी में डूबने से बच्ची की मौत

स्टॉक के मिलान पर चोरी का हुआ खुलासा

आरा। सतघरवा निवासी मेडिकल एजेंसी के मालिक के अनुसार पिछले दिनों स्टॉक का मिलान करने पर दवा कम पायी गयी। इस पर चोरी की आशंका हुई। इसके बाद दुकान में लगे सीसीटीवी की जांच की गयी, तो शक यकीन में बदल गया। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दुकान के तीन स्टाफों को पकड़कर पूछताछ की। तब तीनों ने चोरी की बात स्वीकार कर ली। क्लब रोड स्थित मेडिकल हॉल को दवा बेचने की भी बात कही।

साढ़े चार हजार की पगार पर खरीदी लाख रुपये की बाइक

आरा। एजेंसी में काम करने वाला खेताड़ी मोहल्ला निवासी युवक को साढ़े चार हजार की पगार मिलती थी। उसकी मां दाई का काम करती है। इसके बावजूद राजू ने लाख रुपये की बाइक खरीद ली। इससे एजेंसी मालिक का शक गहरा गया। उन्होंने बताया कि स्टॉक में दवा कम मिलने के बाद से स्टाफों पर चोरी का संदेह था। इस बीच राजू ने महंगी बाइक खरीद ली। इस पर उनका शक गहरा गया। इसके बाद निगरानी बढ़ायी, तो पूरा मामला सामने आ गया।

  चचेरे भाइयों को लाठी-डंडे से पीटा

चोरी में एजेंसी के पूर्व स्टाफ की भूमिका अहम

आरा। एजेंसी मालिक की मानें तो चोरी में पूर्व स्टाफ राजकुमार की भूमिका अहम है। उन्होंने बताया कि राजकुमार कुछ दिनों पहले काम छोड़ दिया था। उसकी दुकान के स्टाफ राजू कुमार, राहुल व सुनील से मिलीभगत थी। चारों की सांठगांठ से घटना को अंजाम दिया गया।

जिसे दी रोजगार, उसी ने की दगाबाजी

आरा। एजेंसी मालिक ने जिसे रोजगार दी, उसने ही दगाबाजी कर दी। एजेंसी की इस घटना विश्वासघात की कहानी बयां कर रही है। एजेंसी मालिक के अनुसार उन्होंने खेताड़ी मोहल्ला निवासी राजू कुमार, शीतल टोला निवासी सुनील कुमार वर्मा व राहुल कुमार को काम पर रखा था। सभी चार से पांच हजार रुपये की पगार देते थे। इसके बावजूद सभी ने चोरी की घटना को अंजाम दिया है।
…..






खबरें आपकी Copy protect दिलीप ओझा,डॉ कृष्ण, रवि
LATEST NEWS
आरा प्रखंड के जमीरा गांव में आग लगने से जलकर मवेशी की मौत भोजपुर जिले के भीमपुरा में आयोजित हुआ होली मिलन सह सम्मान समारोह होली की खरीदारी करने निकले छात्र की ट्रेन से गिरकर मौत छज्जा निकालने को ले दो पक्षों में हिंसक झड़प, दर्जन भर जख्मी मोबाइल झपट्टा मार गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार सोन नदी से मिला तीर्थंकर ऋषभदेव की बेशकीमती मूर्ति नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने देश एवं राज्यवासियों को रंगों के त्योहार होली की बधाई एवं शुभकामनाएं दी सदर अस्पताल में होली मिलन समारोह का हुआ आयोजन बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का सोशल मिडिया द्वारा सख्त हिदायतों के साथ लाइव आदेश हेमलेट भी नहीं बची जान, हमलावरों ने गर्दन में मार दी गोली
Copied!