खबरें आपकी

मेडिकल एजेंसी के स्टाफों ने चोरी कर बेच डाली दी दस लाख की दवा

Scroll down to content

शहर के जेल रोड स्थित एलाइड मेडिकल एजेंसी की घटना

एजेंसी के स्टाफ सहित पांच गिरफ्तार, दवा भी बरामद

आरा(डॉ के कुमार/दिलीप ओझा)। शहर के जेल रोड स्थित एक मेडिकल एजेंसी से करीब दस लाख रुपये दवा चोरी कर बेच डाली गयी। चोरी की इस बड़ी घटना में मेडिकल एजेंसी के स्टाफों की मिलीभगत सामने आयी है। इस मामले में पुलिस ने स्टाफ सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि एक आरोपित अभी फरार है। पकड़े गये लोगों की निशानदेही पर चोरी गयी दवा भी बरामद की गयी है। जानकारी के अनुसार गिरफ्तार लोगों में राजू कुमार, राहुल कुमार, सुनील कुमार वर्मा, रमेश सिंह व धर्मेंद्र सिंह शामिल हैं। इनमें रमेश सिंह क्लब रोड स्थित एक मेडिकल हॉल के मालिक हैं। इन पर चोरी की दवा बेचवाने में मदद करने का आरोप लगा है। इसे लेकर एजेंसी मालिक कृष्ण कुमार गुप्ता के बयान पर आरा नगर थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। इनमें छह लोगों को आरोपित किया गया है। पुलिस के अनुसार पूछताछ में गिरफ्तार पांचों द्वारा अपना गुनाह कबूल कर लिया गया। इसके बाद पांचों आरोपितों को जेल भेज दिया गया। वहीं फरार आरोपित राजकुमार की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

  छात्रों की मांग सुनने की बजाय उनपर लाठीचार्ज कराना हिटलरशाही है- सबीर

स्टॉक के मिलान पर चोरी का हुआ खुलासा

आरा। सतघरवा निवासी मेडिकल एजेंसी के मालिक के अनुसार पिछले दिनों स्टॉक का मिलान करने पर दवा कम पायी गयी। इस पर चोरी की आशंका हुई। इसके बाद दुकान में लगे सीसीटीवी की जांच की गयी, तो शक यकीन में बदल गया। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दुकान के तीन स्टाफों को पकड़कर पूछताछ की। तब तीनों ने चोरी की बात स्वीकार कर ली। क्लब रोड स्थित मेडिकल हॉल को दवा बेचने की भी बात कही।

साढ़े चार हजार की पगार पर खरीदी लाख रुपये की बाइक

आरा। एजेंसी में काम करने वाला खेताड़ी मोहल्ला निवासी युवक को साढ़े चार हजार की पगार मिलती थी। उसकी मां दाई का काम करती है। इसके बावजूद राजू ने लाख रुपये की बाइक खरीद ली। इससे एजेंसी मालिक का शक गहरा गया। उन्होंने बताया कि स्टॉक में दवा कम मिलने के बाद से स्टाफों पर चोरी का संदेह था। इस बीच राजू ने महंगी बाइक खरीद ली। इस पर उनका शक गहरा गया। इसके बाद निगरानी बढ़ायी, तो पूरा मामला सामने आ गया।

  बालू के अवैध खनन व ओवरलोडिंग पर लगानी होगी रोक

चोरी में एजेंसी के पूर्व स्टाफ की भूमिका अहम

आरा। एजेंसी मालिक की मानें तो चोरी में पूर्व स्टाफ राजकुमार की भूमिका अहम है। उन्होंने बताया कि राजकुमार कुछ दिनों पहले काम छोड़ दिया था। उसकी दुकान के स्टाफ राजू कुमार, राहुल व सुनील से मिलीभगत थी। चारों की सांठगांठ से घटना को अंजाम दिया गया।

जिसे दी रोजगार, उसी ने की दगाबाजी

आरा। एजेंसी मालिक ने जिसे रोजगार दी, उसने ही दगाबाजी कर दी। एजेंसी की इस घटना विश्वासघात की कहानी बयां कर रही है। एजेंसी मालिक के अनुसार उन्होंने खेताड़ी मोहल्ला निवासी राजू कुमार, शीतल टोला निवासी सुनील कुमार वर्मा व राहुल कुमार को काम पर रखा था। सभी चार से पांच हजार रुपये की पगार देते थे। इसके बावजूद सभी ने चोरी की घटना को अंजाम दिया है।
…..






error: Content is protected !! खबरें आपकी,डॉ कृष्णा जी,दिलीप ओझा,रवि।
LATEST NEWS
भोजपुर: आरा सदर अस्पताल में पंजीयन स्लिप नहीं रहने से मरीजों को हो रही परेशानी भोजपुर: आरा शहर के विभिन्न इलाकों में ट्रैफिक जाम से लोग हलकान भोजपुर: पेड़ से टकराई ईमादपुर पुलिस की गश्ती जीप, जमादार समेत पांच जख्मी भोजपुर:एमसीसी की धमकी के बाद पंचायत सरकार भवन का निर्माण कार्य बंद, इलाके में दहशत भोजपुर: भाजपा कार्यकर्ताओं से मारपीट मामले में मुफस्सिल थानाध्यक्ष सस्पेंड प्रज्ञा ठाकुर व अल्पसंख्यकों के खिलाफ जहर उगलनेवाले कोअलग करने की दृढ़ता दिखा पाएँगे प्रधानमंत्री.?-शिवानन्द भोजपुर: बेकाबू कार चाय दुकान में घुसी, दर्जनभर लोग घायल, एक की मौत महाजीत के बाद सेंट्रल हॉल से महानायक नरेंद्र मोदी लाइव भोजपुरः करंट से दवा दुकानदार की मौत, हंगामा भोजपुर: नाच के विवाद में दो पक्षों में मारपीट व रोड़ेबाजी, पुलिस की गश्ती जीप क्षतिग्रस्त
Copied!