खबरें आपकी

मोस्टवांटेड हीरो को संरक्षण देने में हथियार के साथ एक अपराधी गिरफ्तार

Scroll down to content

हथियार के बारे में अपराधी से पुलिस कर रही पूछताछ

हीरो के जब्त मोबाइल से शागिर्दों व संरक्षण देने वालों के चेहरे बेनकाब

आरा। मोस्टवांटेड मनीष सिंह उर्फ हीरो के मारे जाने के बाद अब पुलिस की निगाहें उसके शागिर्दों व संरक्षण देने वालों पर टिक गयी है। वैसे लोगों की पहचान करते हुए धरपकड़ की कार्रवाई शुरू कर दी गयी है। इस क्रम में पुलिस ने किसी नंदजी यादव को गिरफ्तार किया है। वह चौरी थाना क्षेत्र के बहुआरा गांव का रहने वाला है। उसके पास से एक हथियार भी बरामद होने की बात कही जा रही है। नंदजी यादव पर हीरो को संरक्षण देने का आरोप है। वह काफी दिनों से फरार चल रहा था। पुलिस उससे हथियार व हीरो के शागिर्दों के बारे में पूछताछ कर रही है। हालांकि पुलिस इस मामले में जानकारी देने से परहेज कर रही है। बताया जा रहा है कि पुलिस को मनीष सिंह उर्फ हीरो का मोबाइल हाथ लग गया है। उस मोबाइल के कान्टेक्ट लिस्ट में बहुत लोगों के नाम व नबंर मिले हैं। इसमें हीरो के शागिर्द व संरक्षण देने वाले भी शामिल हैं। पुलिस ने इन लोगों की सूची बना ली है। लिस्ट में जिले के कुछ कुख्यात के नाम भी हैं। पुलिस इनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी में जुट गयी है। कहा जा रहा कि कुछ लोगों द्वारा पुलिस से संपर्क कर सफाई भी दी जा रही है। एसपी आदित्य कुमार ने बताया कि हीरो के शागिर्द व संरक्षण देने वालों की पहचान व धरपकड़ की जा रही है। इसके लिए टीम लगी है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जायेगा।

  यौन शोषण के मामले में तीनों आरोपितों का पुलिस को मिला रिमांड

नंदजी यादव के दो बेटे भी हीरो को बचाने में जा चुके हैं जेल

आरा। पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया कुख्यात मनीष उर्फ हीरो का ठिकाना बहुआरा गांव में था। वह अक्सर बहुआरा गांव निवासी नंदजी यादव के घर पनाह लेता था। कुछ दिनों पहले हीरो की तलाश में पुलिस ने नंदजी यादव के घर छापेमारी भी की थी। तब नंदजी यादव के बेटों की वजह से हीरो की गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी। इस मामले में पुलिस ने नंदजी यादव के दो बेटों को गिरफ्तार कर लिया था। दोनों पर पुलिस से दुर्व्यहार करने व सरकारी काम में बाधा डालने का आरोप लगा था। इसमें एक जेल में और दूसरा रिमांड होम में है। मंगलवार को भी पुलिस मुठभेड़ के दौरान बहुआरा गांव का संजय यादव हीरो के साथ था। वह भागने में सफल रहा था।

  आरा के नवादा थानाध्यक्ष व ट्रैफिक इंचार्ज सहित चार इंस्पेक्टरों के स्थानांतरण पर रोक

फायरिंग में फरार चल रहा था नंदजी यादव

आरा। चौरी थाना क्षेत्र के बहुआरा गांव निवासी नंदजी यादव फायरिंग के मामले में फरार चल रहा था। उसके खिलाफ सिकरहट्टा थाना में फायरिंग का मामला दर्ज है। जानकारी के अनुसार जमीन व मकान को ले नंदजी यादव की इमादपुर के लचछुडीह गांव निवासी लालबाबू यादव से विवाद था। इसे ले अगस्त माह में मोपती बाजार में जमकर फायरिंग हुई थी। दोनों पक्षों के बीच लगातार दो दिन फायरिंग हुई थी। दूसरे दिन की फायरिंग में बहुआरा गांव के एक दुकानदार की मौत हो गयी थी। तीन लोग जख्मी भी हो गये थे। पहले दिन की फायरिंग के बाद नंदजी यादव के लोगों द्वारा दूसरे पक्ष के लोगों से राइफल भी छीन ली गयी थी। इसे ले दोनों पक्षों द्वारा प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी। तब नंदजी यादव के पुत्र व भाई गिरफ्तार किये गये थे। लालबाबू यादव पूर्व जिप सदस्य लालबिहारी यादव का भाई है।


खबरें आपकी Copy protect दिलीप ओझा,डॉ कृष्ण, रवि
LATEST NEWS
Copied!