खबरें आपकी

गोलीबारी के आरोपितों को जेल भेजे जाने से परिजनों ने रोका, हंगामा

Scroll down to content

आरोपितों को पुलिस गाड़ी से जबरन उतारा, चाबी भी निकाली

सदर अस्पताल में परिजनों व पुलिस के बीच नोकझोंक

पुलिस पर एकपक्षीय कार्रवाई का लगाया आरोप

बागर मेले में जलेबी के विवाद में हुई थी मारपीट

आरा। भोजपुर जिले के सिकरहट्टा थाना क्षेत्र के बागर गांव में एक युवक को गोली मारे जाने के आरोपितों को जेल भेजे जाने को लेकर सोमवार की शाम खूब तमाशा हुआ। आरा सदर अस्पताल में इलाज करा रहे आरोपितों को जेल भेजने पहुंची सिकरहट्टा थाना की पुलिस का परिजनों ने जोरदार विरोध किया। इस दौरान उनके परिजनों ने हंगामा किया और जेल भेजने से रोक दिया गया। दोनों आरोपितों को जबरन पुलिस वाहन से उतार लिया गया। पुलिस गाड़ी की चाबी भी निकाल ली गयी। इसे लेकर पुलिस व आरोपितों के परिजनों के बीच नोकझोंक भी हुई। आरोपितों के परिजन पुलिस पर एकपक्षीय कार्रवाई करने का आरोप लगा रहे थे। उनका कहना था कि बिना मामले की जांच किये दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। उनकी प्राथमिकी भी दर्ज नहीं की जा रही है। परिजनों में डॉक्टरों के खिलाफ भी परिजनों में नाराजगी देखी गयी। कहना था कि आखिर डॉक्टरों ने इलाज के बीच में ही डिस्चार्ज कैसे कर दिया? इसके कारण सदर अस्पताल में काफी देर तक अफरा-तफरी रही। हंगामें की सूचना पर अस्पताल अधीक्षक डॉ. सतीश कुमार सिन्हा भी पहुंचे और समझाने में जुटे रहे। बाद में पुलिस ने उनका बयान दर्ज किया। इसके बाद ही मामला शांत हो सका। बता दें कि बागर गांव में शुक्रवार को दो पक्षों में मारपीट के बाद एक युवक को गोली मार दी गयी थी। इस मामले में बागर गांव निवासी मनीष कुमार व उसके रिश्तेदार अनुप कुमार की ग्रामीणों ने पकड़कर जमकर पिटाई कर दी थी। बाद में दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया गया था। गिरफ्तारी के बाद दोनों का पुलिस की देखरेख में सदर अस्पताल में इलाज कराया जा रहा था। सोमवार को सिकरहट्टा थाना की पुलिस दोनों को जेल भेजने अस्पताल पहुंची थी।

  सांस्कृतिक कार्यक्रम में कुँवर व्यास एवं सुदर्शन यादव के बीच हुआ मुकाबला आनंद में झूमें श्रोता

आरोपितों के परिजन बोले-बंधक बना की गयी मारपीट

आरा। फायरिंग के आरोपित मनीष व अनुप के परिजन दूसरे पक्ष पर साजिश के तहत दोनों को फंसाने का आरोप लगा रहे थे। उनका कहना था कि पहले दोनों के साथ मारपीट की गयी और फिर गोली मारने का आरोप लगा दिया गया। परिजनों का गोली उसी पक्ष द्वारा चलायी गयी थी। पुलिस ने भी बिना जांच-पड़ताल किये दोनों को पकड़ लिया। हद तो यह कि प्राथमिकी भी नहीं ली जा रही है। परिजनों का कहना था कि दूसरे पक्ष के लोगों द्वारा मनीष व अनुप को घर में बंधक बनाकर पिटाई की गयी। घर की दो महिलाओं से भी मारपीट की गयी। इसमें सभी को गंभीर चोटें आयी है। इसके बावजूद उनकी प्राथमिकी नहीं ली जा रही है।

दूसरे पक्ष पर मारपीट व फायरिंग की प्राथमिकी दर्ज

आरा। हंगामे व विरोध के बाद पुलिस ने मनीष के पक्ष की ओर से भी प्राथमिकी दर्ज कर ली। इस मामले में बागर गांव जख्मी रीता देवी ने पुलिस के समक्ष फर्द बयान दिया है। इसमें गांव के ही नौ लोगों पर मारपीट व फायरिंग करने का आरोप लगाया गया है। इन आरोपितों में मिथिलेश पासवान, विश्राम पासवान, प्रमोद पासवान, धनजी पासवान, त्रिभुवन पासवान, सरोज पासवान, लक्ष्मण पासवान, बहादुर पासवान व भानु पासवान शामिल हैं। फर्द बयान में महिला ने कहा है कि आरोपित उसके पुत्र मनीष व उसके संबंधी को पीट रहे थे। वह बचाने के लिए दौड़ी तो उसे भी मारपीट किया गया। इस दौरान उसकी पुत्री उर्मिला भी जख्मी हो गई। इसके बाद आरोपित फायरिंग करते हुए भाग निकले।

  गेसिंग के अड्डे पर छापेमारी, छह सट्टेबाज गिरफ्तार

बागर मेले में जलेबी के विवाद में हुई थी मारपीट

आरा। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर बागर स्थित बनास नदी के किनारे मेला लगा था। उसमें बागर गांव निवासी मनीष कुमार व मिथिलेश पासवान के बीच जलेबी खरीदने को लेकर विवाद हुआ था। इसे लेकर दोनों पक्षों में मारपीट भी हुई थी। तब मौके पर मौजूद लोगों ने मामले को शांत करा दिया था। बाद में दोनों पक्षों के लोग गांव में भी भिड़ गये। इसी क्रम में गोली भी चली थी। इसमें राजू पासवान नामक एक युवक को गोली लग गयी थी। इसके बाद लोगों ने मनीष व अनुप को पकड़ लिया और जमकर धुनाई कर दी गयी थी।






खबरें आपकी Copy protect दिलीप ओझा,डॉ कृष्ण, रवि
LATEST NEWS
गांव में हिंसक झड़प व रोडेबाजी के बाद अस्पताल में भी भिड़े दो पक्ष थाना परिसर से पुलिस को चकमा देकर भाग निकला आरोपित बैंक से पैसे निकाल घर लौट रहे मैकेनिक की सड़क दुर्घटना में मौत आर के सिंह ने किया बिहियां के गांवों में जनसंपर्क अभियान, लोगो दिया आशीर्वाद फिर एकबार मोदी सरकार संविधान की आत्‍मा और सेक्‍यूलर ताकतों पर हमला करने वाली भाजपा की फॉसीवादी सरकार को उखाड़ फेकें:-राजू यादव क्या प्रज्ञा ठाकुर के लिए भी वोट मांगेंगे नीतीश-शिवानंद विषाक्त चाय पीने से एक की मौत, 4 की तबीयत बिगड़ी वाराणसी में सम्मानित हुए आरा के गुरु बक्सी विकास पीड़ित मानवता की सेवा के लिए तत्पर रहते हैं डॉ. केएन सिन्हा जेल से सिम बरामदगी में कुख्यात बूटन चौधरी के खिलाफ प्राथमिकी
Copied!