खबरें आपकी

सीनेट की बैठक में छात्रों की ओर से प्रतिनिधि क्यों नहीं, विवि प्रशासन जवाब दो- शिवप्रकाश रंजन

Scroll down to content

कॉलेजों और विवि में बुनियादी सुविधाओं का है घोर अभाव- पप्पू

छात्रों की मांग सुनने की बजाय उनपर लाठीचार्ज कराना हिटलरशाही है- सबीर

आरा। छात्र संगठन आइसा ने विवि में होने वाली सीनेट की बैठक का घेराव किया। आइसा कार्यकर्ताओं ने सैकड़ो की संख्या में पूरे विवि में मार्च निकाला और अंत मे विवि के विज्ञान भवन पहुंचकर सभा की। इस दौरान पुलिस के साथ हल्की नोंकझोक भी हुई। मार्च के दौरान कार्यकर्ताओं ने सीनेट मुर्दाबाद के नारे लगाए।


सभा को सम्बोधित करते हुए आइसा के बिहार राज्य सचिव शिवप्रकाश रंजन ने कहा कि सीनेट की बैठक में विवि के अधिकारियों समेत राज्य सरकार के प्रतिनिधि भी शामिल होते है। लेकिन इसके बावजूद कि उस बैठक में छात्र- छात्राओं के भविष्य तय होता है, वहां छात्रों की ओर से कोई प्रतिनिधी नहीं होता है। ये सीनेट के तमाम अधिकारी सीनेट की बैठक को छात्रों से लूटने का मंच बना देना चाहते है इसलिए इतने महत्वपूर्ण बैठक में छात्र प्रतिनिधियों को शामिल नहीं होने देना चाहते। छात्र संगठन आइसा ने हर बार सीनेट का घेराव कर छात्रहित से सम्बंधित कई मुद्दे रखता आया है। इस बार भी हमने सीनेट में छात्र प्रतिनिधि की मौजूदगी, एलएलएम और एम.एड की पढ़ाई शुरू करने, सभी कॉलेजों में पीजी स्तर के पाठ्यक्रम शुरू करने, साल में 180 दिन पढ़ाई की गारंटी करने, सासाराम में विवि की क्षेत्रीय शाखा खोलने, समेत कई मांगो को लेकर सीनेट का घेराव किया।

  बहुत कुछ गवाँ कर नीतीश कुमार को शराबबंदी के तालिबानी कानून में संशोधन का ख्याल आया-शिवानंद


आइसा जिलाध्य्क्ष पप्पू ने कहा कि सीनेट की बैठक में हर साल अरबों रुपये का बजट पास किया जाता है लेकिन उसका कोई हिसाब नहीं होता है। सीनेट की बैठक में छात्रों के भविष्य, कॉलेजों एवं विवि की बदहाल स्थिति पर बात नहीं होती है। आज भी कई कॉलेजों में पुस्तकालय, पेयजल और शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाओं का घोर अभाव है। कॉलेजों में वर्ग भवन की भी घोर कमी है। विवि में पढ़ने वाले अधिकतर छात्र देहात क्षेत्रों से आते है लेकिन उनके रहने के लिए छात्रावास भी नहीं है। आइसा ने सीनेट घेराव से पहले भी अपने हर आंदोलनों में इन सभी मुद्दों को गंभीरता से उठाया है। लेकिन स्थिति जस का तस है। आइसा इसे बर्दाश्त नहीं करेगी। आने वाले दिनों में आंदोलन तेज़ करेगी।


आइसा जिलासचिव सबीर ने कहा कि विवि के तमाम कॉलेजों के हालत ख़स्ता है। शिक्षकों और कर्मचारियों की घोर कमी है। विवि में कोई भी सत्र नियमित नहीं है जिसकी वजह से एकेडमिक कैलेंडर जबर्दस्त तरीके से फेल है। सीनेट की बैठक में विवि और कॉलेजों को सुदृढ़ बनाने पर बात नहीं होती है। छात्र छात्राओं के सवालों पर बात नहीं होती है। बात होती है तो सिर्फ अगले साल के लिए लूटने पर। उल्टे छात्र जब अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करते है तो पुलिस लाठीचार्ज का सहारा लेकर आवाज को दबाने की कोशिश होती है। यह कही न कही विवि प्रशासन के हिटलरशाही रवैये को दिखाता है। छात्र संगठन आइसा इस पुलिस लाठीचार्ज की कड़ी निंदा करती है। साथ ही साथ यह चेतावनी देती है कि जब तक छात्र छात्राओं से संबंधित होने वाली सीनेट जैसी बैठकों में छात्रों के प्रतिनिधियों को शामिल नहीं किया जाएगा तब छात्र संगठन आइसा ऐसी तमाम बैठकों का पूरी ताकत के साथ विरोध करते रहेगी।

  मासूम सन्नी के हत्या के नामजद आरोपियों को छोड़े जाने पर बवाल, सड़क जाम


इस कार्यक्रम के दौरान आइसा नेता रंजन, जैन कॉलेज छात्रसंघ अध्यक्ष दृष्टि राज, एसबी कॉलेज अध्यक्ष सुधीर, आइसा नेता रुचि, जयप्रकाश, सुशील, मृत्युंजय, धीरेंद्र, नेहा, रणधीर, सनोज, अंशु, बादल, अनूप, अभिषेक, उज्ज्वल, विकास इत्यादि समेत सैकड़ो आइसा कार्यकर्ता मौजूद थे।






खबरें आपकी Copy protect दिलीप ओझा,डॉ कृष्ण, रवि
LATEST NEWS
सावधान! चुनाव के दौरान सोशल मीडिया की निगेहबानी करेगा आयोग बस के धक्के से ससुराल जा रही बाइक सवार महिला की मौत ट्रक ने स्कूटी सवार दो युवको को रौंदा, एक की मौत सोने की चेन के लिए विवाहिता की गला घोंट हत्या, देवर गिरफ्तार हथकड़ी के साथ फरार शराब तस्कर ने किया सरेंडर मतदान करने हेतु मतदाताओं के लिए फोटोयुक्त मतदाता पहचान-पत्र के अतिरिक्त 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेज भी मतदाता पहचान-पत्र के रूप में होगें मान्य स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप अपराधियों पर कसेगी नकेल सड़क हादसे में जख्मी चाय दुकानदार की मौत मोस्ट वांटेड नइम मियां की गिरफ्तारी पुलिस के लिए बनी चुनौती आरा रेलवे स्टेशन दोहरे हत्याकांड का वांटेड दो साथियों संग दबोचा गया
Copied!