खबरें आपकी

तिलक समारोह में गये मजदूर की हत्या, रोड जाम व आगजनी

Scroll down to content

कृष्णागढ़ थाना क्षेत्र के जगतपुर गांव की रात की वारदाततिलक समारोह में गये मजदूर की हत्या, रोड जाम व आगजनी

कृष्णागढ़ थाना क्षेत्र के जगतपुर गांव की रात की वारदात

रात से गायब मजदूर का बुधवार की सुबह गांव के स्कूल से मिला शव

मुआवजे व गिरफ्तारी की मांग को ले लोगों ने तीन रास्तों को किया अवरूद्ध

हत्या का कारण स्पष्ट नहीं, छानबीन में जुटी पुलिस

आरा। भोजपुर जिले के कृष्णगढ़ थाना क्षेत्र के जगतपुर गांव में मंगलवार की रात एक मजदूर की धारदार से हत्या कर दी गयी। उसका शव बुधवार की सुबह गांव स्थित अपग्रेड मिडिल स्कूल के प्रांगण से बरामद किया गया। मृतक जगतपुर गांव निवासी धर्मेंद्र कुशवाहा है। वह मंगलवार की रात गांव में एक तिलक समारोह में गया था और रात एक बजे से गायब था। सुबह उसका शव मिलने से लोग आक्रोशित हो उठे और जमकर हंगामा किया। गुस्साये लोगों ने शव के साथ प्रदर्शन किया व तीन मार्गों को जाम कर दिया। इस दौरान सरैया-सलेमपुर, सारसिवान-महुली और सारसिवान-धोबहां मुख्य पथ के सारसिवान समेत जगह-जगह बांस-बल्ला लगा और टायर जला प्रदर्शन किया गया। पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की गयी। पुलिस को शव उठाने से भी रोक दिया। सड़क जाम कर रहे लोग मुआवजे व हत्या में शामिल लोगों की जल्द पहचान कर गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। सूचना मिलने पर थानाध्यक्ष मनोज कुमार पहुंचे, पर लोग एसपी को बुलाने की मांग करने लगे। बाद में सदर एसडीपीओ पंकज कुमार मौके पर पहुंचे और समझाकर लोगों को शांत कराया। इसके बाद आवागमन बहाल हुआ और शव का पोस्टमार्टम कराया गया।

  व्यवसायियों पर लगातार हो रहे हमले के खिलाफ निकाला मशाल जुलूस

घटनास्थल से मिला खून से सना चप्पल, चापाकल पर लगे थे खून के धब्बे

आरा। जगतपुर गांव निवासी सोनू कुश्वाहा ने बताया कि रात में गांव में एक तिलक आया था। उसके चाचा धर्मेंद्र मजदूरी करने तिलक समारोह में गये थे। रात बारह बजे तक उनको तिलक में देखा गया। उसके बाद उनका पता नहीं चला। रात में खोजबीन भी की गयी, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। सुबह साढ़े बजे कुछ लोग स्कूल की ओर गये तो चाचा को खून से लथपथ देखा। जानकारी मिलने पर वे लोग भी गये। तब उन्हें मृत पाया गया। सूचना पर पुलिस भी पहुंची और छानबीन की। इस क्रम में घटनास्थल से पुलिस ने खून सना एक चप्पल भी बरामद किया। स्कूल के चापाकल पर भी खून के धब्बे मिले।

  आरा शहर में विलेन बना कोर्ट से फरार 'हीरो' तीन जगहों पर बरसायी थी गोलियां

हत्यारों ने खून से लिखे दो शब्द, पर पढ़े नहीं जा सके

आरा। धर्मेंद्र की हत्या के बाद कातिलों ने उसके खून से घटनास्थल पर दो कुछ लिखने का प्रयास भी किया गया है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो सका कि क्या लिखा गया है? मौके पर मौजूद लोगों व पुलिस ने भी उसे पढ़ने का प्रयास किया। लेकिन शब्द पढ़े नहीं जा सके।

मजदूर की हत्या के बाद घर मचा कोहराम

आरा। मजदूर की हत्या के बाद घर में कोहराम मच गया। बुजुर्ग पिता शिवकुमार कुशवाहा, बड़ा भाई विधा सागर कुशवाहा और परिजनों के दहाड़ मार कर रोने से उपस्थित लोग भी फफक-फफक रो पड़े। पिता शिवकुमार कुशवाहा ने कहा कि मैं बहुत ही बदकिस्मत वाला हूं। बुढ़ापे में जवान बेटे का अर्थी उठाना पड़ेगा। धर्मेंद्र पर ही पूरा घर का पोषण का कार्य चलता था। मृतक मजदूर दो भाई था। दोनों भाइयों में मजदूर छोटा था।






खबरें आपकी Copy protect दिलीप ओझा,डॉ कृष्ण, रवि
LATEST NEWS
सावधान! चुनाव के दौरान सोशल मीडिया की निगेहबानी करेगा आयोग बस के धक्के से ससुराल जा रही बाइक सवार महिला की मौत ट्रक ने स्कूटी सवार दो युवको को रौंदा, एक की मौत सोने की चेन के लिए विवाहिता की गला घोंट हत्या, देवर गिरफ्तार हथकड़ी के साथ फरार शराब तस्कर ने किया सरेंडर मतदान करने हेतु मतदाताओं के लिए फोटोयुक्त मतदाता पहचान-पत्र के अतिरिक्त 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेज भी मतदाता पहचान-पत्र के रूप में होगें मान्य स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप अपराधियों पर कसेगी नकेल सड़क हादसे में जख्मी चाय दुकानदार की मौत मोस्ट वांटेड नइम मियां की गिरफ्तारी पुलिस के लिए बनी चुनौती आरा रेलवे स्टेशन दोहरे हत्याकांड का वांटेड दो साथियों संग दबोचा गया
Copied!