खबरें आपकी

रेलवे पुल के नीचे से मिला सीतामढ़ी के छात्र का शव

Scroll down to content

दानापुर-डीडीयू रेलखंड पर चालीसवां पुल के समीप की घटना

बुधवार को ही पटना से आरा आ रहा था छात्र, गुरुवार को मिला शव

रेल पुलिस ट्रेन से गिरने से मौत होने की आशंका जता कर रही छानबीन

खबरें आपकी 15 मार्च आरा। दानापुर-डीडीयू रेलखंड के आरा व जमीरा के बीच चालीसवां पुल के नीचे गुरुवार को सीतामढ़ी निवासी एक छात्र का शव बरामद किया गया है। उसका सर पीछे से फटा है और पेट सहित शरीर के अन्य हिस्सों पर खरोंच के निशान पाये गये हैं। वह बुधवार को ही पैसेंजर ट्रेन से पटना से आरा आ रहा था। मृत छात्र सीतामढ़ी के रीगा थाना क्षेत्र अंधारी गांव निवासी स्व. देवेंद्र सिंह का 19 वर्षीय पुत्र शिवेश कुमार है। वह बीए पार्ट वन का छात्र था और प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करता था। उसकी जेब से पटना से आरा तक का रेल टिकट व टाॅफी बरामद की गयी है। हालांकि छात्र का मोबाइल गायब है। गुरुवार की सुबह ट्रैक किनारे शव होने की सूचना पर जीआरपी पहुंची। उसके बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया। जानकारी के अनुसार शिवेश कुमार अपनी बहन बबीता देवी के घर देहरादून में रहकर पढ़ाई करता था। बुधवार को वह अपनी बड़ी बहन चंदा देवी के घर सहार थाना क्षेत्र के पेरहाप गांव जाने के लिए निकला था। इसके लिए वह पटना से पैसेंजर ट्रेन से आ रहा था। यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि वह ट्रेन से गिरा है या धकेला गया। हालांकि रेल पुलिस चलती ट्रेन से गिरने से मौत की बात कह रही है।

झपटामार गिरोह से बचने में ट्रेन से गिरने की चर्चा

आरा। सीतामढ़ी के छात्र की ट्रेन से गिरने को ले सस्पेंश बना हुआ है। यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि वह ट्रेन से कैसे गिरा। वहीं झपटा मार गिरोह के हमले से बचने में छात्र के गिरने की भी चर्चा चल रही है। सूत्रों की मानें तो चालीसवां पुल के समीप ट्रैक किनारे बैठे झपटा मार गिरोह के सदस्यों द्वारा मोबाइल छीनने के लिए डंडे से हमला कर दिया गया। इससे ट्रेन के गेट पर खड़े छात्र का मोबाइल हाथ से छुटकर गिर पड़ा। इस हमले से बचने में वह ट्रेन से नीचे गिर पड़ा। वहीं सर के पीछे लगी चोट के आधार पर कुछ लोगों द्वारा छात्र को धक्का दिये जाने की भी आशंका जता रहे हैं। बहरहाल रेल पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है। इसके लिए छात्र के मोबाइल की सीडीआर भी खंगाली जा रही है। बताया जाता है कि चालीसवां पुल के समीप झपटा मार गिरोह के सदस्यों द्वारा अक्सर इस तरह की घटना को अंजाम दिया जाता है। पिछले साल भी उस पुल के समीप इसी तरह की एक वारदात हुई थी। उसमें भी मोबाइल बचाने में ट्रेन से गिरकर एक छात्र की जान चली गयी थी।

  फैंसी क्रिकेट मैच में कोर्ट एवेंजर्स ने वारियर्स को दी शिकस्त

कोईलवर तक छात्र की अपने भांजे से हुई थी

आरा। शिवेश के गांव आने की सूचना पर उसका भांजा आदित्य कुमार बुधवार को उसे रिसिव करने आरा रेलवे स्टेशन आ था। तब उसकी मामा से दोपहर डेढ़ बजे तक बात हुई थी। उस समय शिवेश ने बताया था कि ट्रेन कोईलवर आ गयी है। ट्रेन आरा से गुजर जाने के बाद भी शिवेश नहीं आया, तो आदित्य परेशान हो गया। वह शाम चार बजे तक शिवेश के मोबाइल पर कॉल करता रहा। इस दौरान लगातार घंटी बजती रही, लेकिन बात नहीं हो सकी। बाद में मोबाइल भी बंद हो गया। इसके बाद आदित्य मामा की खोज में उसके रिश्तेदार के घर गुण्डी चला गया। लेकिन वहां भी कुछ पता नही चला। गुरुवार की सुबह वह गुमशुदगी का रपट दर्ज कराने रेल थाना पहुंचा। तब चालीसवां पुल के समीप एक शव पड़े होने की सूचना मिली। बाद में वह परिजनों के साथ घटनास्थल पर पहुंचा और शव की पहचान की।

  पचास हजार के इनामी खुर्शीद सहित अन्य के खिलाफ जल्द होगी चार्जशीट इमरान हत्याकांड

घर का इकलौता चिराग था शिवेश

आरा। बीए का छात्र शिवेश अपने माता-पिता का इकलौता चिराग था। उसके पिता कृषक थे और कुछ वर्ष पहले मौत हो चुकी थी। विधवा मां मीना कुंवर गांव पर ही रहती है। चार बहन चंदा देवी, बबीता देवी, कविता देवी व शिवानी देवी की शादी हो चुकी है। होली के छुट्टी में वह अपने गांव आया था। इस दौरान वह अपनी बड़ी बहन चंदा देवी से मिलने के लिए पेरहाप जा रहा था। तभी यह घटना घटी।

शव को ले जाया गया बुआ के घर

आरा। छात्र शिवेश की मौत के बाद उसके शव को बुआ के घर कृष्णगढ़ थाना क्षेत्र के गुंडी गांव ले जाया गया। परिजनों के मुताबिक मृतक के परिवार में उसकी विधवा मां है। ऐसे में शव को सीतामढ़ी ले जाना संभव नहीं है। परिजनों ने बताया कि शव को बुआ के घर गुंडी ले जाया जा रहा है। वहीं पर सलाह मशविरा के बाद उसका अंतिम संस्कार गंगा नदी तट किया जाएगा।



https://youtu.be/3fNDAiYnoT0


error: Content is protected !! खबरें आपकी,डॉ कृष्णा जी,दिलीप ओझा,रवि।
LATEST NEWS
Copied!