खबरें आपकी

सोन नदी से मिला तीर्थंकर ऋषभदेव की बेशकीमती मूर्ति

Scroll down to content

नदी में स्नान करने गए लड़को ने दी पुलिस को मूर्ति की दी जानकारी

मूर्ति को पुलिस ने कब्जे के लेकर छानबीन शुरू कर दी

खबरें आपकी 20 मार्च आरा। भोजपुर के सहार सोन नदी के बालू से मंगलवार की अहले सुबह करीब डेढ़ सौ साल पुरानी जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की बेशकीमती मूर्ति बरामद की गई। इन्हें ऋषभदेव भी कहा जाता है। बरामद मूर्ति पुलिस को सुपुर्द कर दी गई है। पुलिस मूर्ति को अपनी निगरानी में लेकर छानबीन कर रही है। ग्रामीण बरामद मूर्ति को अष्ट धातु का बता रहे है। हालांकि, पुलिस के अनुसार जांच के बाद ही सही पता चल सकेगा। बरामद मूर्ति के आरा के किसी जैन मंदिर से चोरी होने की संभावना जताई जा रही है।

  दूसरी शादी रचा रहे दूल्हे को पहली पत्नी ने हवालात भेजवाया

गौरतलब हो कि तीन साल पहले भी बड़हरा के गंगा नदी से लावारिस हालत में भगवान महावीर की मूर्ति बरामद की गई थी। मिली जानकारी के अनुसार सहार सोन नदी में सहार गांव निवासी रामकृपाल चौधरी का पुत्र मालिक चौधरी मंगलवार की सुबह दोस्तों के साथ नहाने गया हुआ था। जहां बालू में मूर्ति का ऊपरी भाग दिखाई पड़ा। इसके बाद उसे बाहर निकाला गया। मूर्ति मिलने की खबर पूरे क्षेत्र में फैल गई। जिसे देखने के लिए काफी संख्या में ग्रामीण इकट्ठा हो गए। सूचना पर सहार पुलिस मूर्ति को अपने कब्जे में लेकर जांच पड़ताल कर रही है।

  जमीनी विवाद में युवक को मारी गोली

जानकार सूत्रों की मानें तो बरामद मूर्ति जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की है। जिसका वजन करीब आठ से दस किलोग्राम आंका जा रहा है। जिस पर वर्ष 1883 और आरा नगर अंकित है। इसको लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। थानाध्यक्ष हरेंद्र कुमार ने बताया कि मूर्ति की जांच के बाद ही पता चलेगा की वह किस धातु की है।

  सीसीटीवी फुटेज में दिखे हथियार लुटेरों के चेहरे





error: Content is protected !! खबरें आपकी,डॉ कृष्णा जी,दिलीप ओझा,रवि।
LATEST NEWS
Copied!