सरकारी विश्राम गृह व आवासों को किसी दल विशेष का एकाधिकार नही

सरकारी विश्राम गृह व आवासों को किसी दल विशेष का एकाधिकार नही

सरकारी परिसर में नही खुलेगा पार्टियों का कार्यालय

सभी को मिलेगा निश्चित कानूनी दायरे में उपयोग की अनुमति

खबरें आपकी,आरा। विश्राम गृह, डाक बंगला या अन्य सरकारी आवासों पर सत्तारूढ़ दल या उसके प्रत्याशियों का एकाधिकार नहीं रहेगा। साथ ही अन्य दलों और प्रत्याशियों को निष्पक्ष ढंग से आवासों का उपयोग करने की अनुमति दी जाएगी। कितु किसी भी दल अथवा प्रत्याशी को सरकारी आवास या उसके परिसर को चुनाव कार्यालय अथवा निर्वाचन प्रचार-प्रसार के लिए उपयोग करने की अनुमति नहीं होगी। इसके विपरीत जाकर कार्य करना चुनाव आदर्श आचार संहिता के दायरे में आएगा और संबंधित के विरुद्ध चुनाव आदर्श आचार संहिता की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।

जिला प्रशासन जिले में चुनाव आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद आचार संहिता पर अपनी कड़ी नजर बनाए हुए है। जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी संजीव कुमार ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में आयोग के दिशा-निर्देशों का अक्षरश: पालन करने का निर्देश जारी किया है। बता दें कि जिले में सातवें चरण में लोकसभा का चुनाव होना निर्धारित हुआ है। चुनाव आदर्श आचार संहिता को अक्षरश: पालन करने के लिए जिले में चुनाव आदर्श आचार संहिता कोषांग बनाया गया है। इस कोषांग के नोडल पदाधिकारी श्रम अधीक्षक राकेश रंजन को बनाया गया है। अब तक जिले भर में चुनाव आदर्श आचार संहिता उल्लंघन करने के दर्जन भर से ज्यादा मामले अलग-अलग थानों में दर्ज किए जा चुके हैं।






Don`t copy text!
LATEST NEWS