खबरें आपकी

बिहार के मुख्य निर्वाची पदाधिकारी से भाकपा-माले प्रतिनिधि मंडल ने की मांग

Scroll down to content

आयोग से आरा में निष्पक्ष भयमुक्त वोटों की गिनती की गारंटी की मांग

अधिकारियों पर बेवजह दबाव नहीं बनाने दलित-गरीबों के जान-माल की सुरक्षा की गारंटी हेतु तत्काल उचित हस्तक्षेप की मांग

खबरें आपकी,पटना :-भारत की कम्युनिस्ट पार्टी(मार्क्सवादी-लेनिनवादी)लिबरेशन के प्रतिनिधि मंडल सदस्यों ने मुख्य निर्वाची पदाधिकारी बिहार, पटना, से मांग किया कि लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के चुनाव की समाप्ति के उपरांत 32, आरा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार राजकुमार सिंह खुलेआम चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करने हेतु वहां के डीएम व एसपी के साथ गाली-गलौज व अभद्र व्यवहार कर रहे हैं, क्योंकि आरा के डीएम व एसपी ने वहां निष्पक्ष चुनाव की प्रक्रिया को बड़ी कठोरता से लागू करने का काम किया है और चुनाव में आर के सिंह द्वारा हेर-फेर करने की संभावना को निरस्त कर दिया है. इसके कारण राजमार सिंह वहां के डीएम व एसपी पर लगातार दबाब बनाए हुए हैं और उनके साथ अभद व्यवहार कर रहे हैं. आरा-मुफस्सिल के एसएचओ को केवल इसलिए निलंबित कर दिया गया है क्योंकि ये अपने इलाके में निष्पक्ष व भयमुक्त चुनाव की गारंटी पर अड़े हुए थे. यह चुनाव आचार संहिता का घोर उल्लंघन हैं और एक उम्मीदवार के द्वारा अपने पावर का दुरूपयोग करने का भी ठोस उदाहरण है.चुनाव के बाद भोजपुर में सामंती अपराधियों ने दलित-गरीबों के टोलों पर हमला बोल दिया है. सिर्फ इस कारण कि चुनाव में उन्होंने अपनी स्वतंत्र हैसियत का परिचय कराया और अपने पसंद के उम्मीदवार को वोट किया. सामंती ताकतों को दलित-गरीबों की यह दावेदारी बिलकुल भी पसंद नहीं आ रही है, अतीत में भी भोजपुर में अब दलित- गरीबों और पिछड़े समुदाय के लोगों ने बड़े पैमाने पर 1989 में मतदान किया था, तब इन्हीं सामंती ताकतों ने दनवार-बिहटा जैसा जनसंहार रचाया था. एक बार फिर वे भोजपुर में वैसा ही माहौल बना रहे हैं, जबकि अभी वोटों की गिनती बाकि है. आरा में राजकुमार सिंह जिस प्रकार की बोखलाहट दिखलाते हैं, अधिकारियों को धमका रहे हैं, अपने पद का दुरूपयोग करते हुए एसएचओ को सस्पेंड करवा रहे हैं, उसके पीछे एक मात्र वजह यह है कि वे इवीएम और वोटों की गिनती में धांधली करके चुनाव जीतना चाहते हैं. यह लोकतंत्र के लिए बेहद खतरनाक है.अत: हमारी पार्टी का प्रतिनिधिमंडल आपसे मांग करने आया है कि आरा के भाजपा प्रत्याशी द्वारा इवीएम व वोटों की गिनती में धांधली करने के लिए किए जा रहे उपक्रमों पर संज्ञान ले और निष्पक्ष भयमुक्त वोटों की गिनती को गारंटी करे. चुनाव आयोग इस बात को सुनिश्चत करे कि अधिकारियों पर बेवजह दबाव नहीं बनाया जाए तथा साथ ही दलित-गरीबों के जान-माल की सुरक्षा की गारंटी की जाए और इस मामले में तत्काल उचित हस्तक्षेप उठाए जाएं.

  शाहपुर में अज्ञात युवक का शव बरामद





error: Content is protected !! खबरें आपकी,डॉ कृष्णा जी,दिलीप ओझा,रवि।
LATEST NEWS
Copied!