खबरें आपकी

हम के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान के विरुद्घ प्राथमिकी

Scroll down to content

पूर्व डीएम व उनके पिता के खिलाफ भ्रामक खबर वायरल करने का मामला

आरा के कार्यपालक दंडाधिकारी ने नवादा थाने में दर्ज करायी प्राथमिकी

हम प्रवक्ता पर प्रशासन की छवि धूमिल करने का आरोप

प्रशासन का आरोप-हथियार का रद्द लाइसेंस को बहाल करने के लिए प्रवक्ता ने किया ड्रामा

हम प्रवक्ता बोले-डीएम के दबाव पर करायी गयी प्राथमिकी

खबरें आपकी,आरा। भोजपुर के पूर्व डीएम व उनके पिता के खिलाफ आपत्तिजनक खबर पोस्ट करने में हम के राष्ट्रीय प्रवक्ता कानूनी पचड़े में फंस गये। इस मामले में प्रवक्ता दानिश रिजवान के खिलाफ के नवादा थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। आरा सदर अनुमंडल के कार्यपालक दंडाधिकारी विनोद कुमार सिन्हा ने एफआईआर दर्ज करायी है। एफआईआर में हम प्रवक्ता पर जिला प्रशासन की छवि धूमिल करने, वरीय अधिकारी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने व सरकारी कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाया गया है। कहा गया है कि हम प्रवक्ता के खिलाफ जिले में हत्या, रंगदारी व जमीन कब्जे से संबंधित मामले दर्ज हैं। उनकी सांठगांठ अपराधियों व भू-माफियाओं से है। इस कारण उनके हथियार का पिछले साल लाइसेंस कैंसिल कर दिये गये हैं। उस लाइसेंस को फिर से प्राप्त करने के लिए प्रवक्ता द्वारा जिला प्रशासन पर काफी दिनों से दबाव बनाया जा रहा था। साथ ही प्रशासन की छवि धूमिल करने का भी प्रयास किया जा रहा था। इस बीच 29 मई 19 को डीएम का तबादले की अधिसूचना जारी हो गयी। इसके बाद प्रवक्ता उत्साहित हो गये और अन्य अफसरों पर दबाव बनाने में जुट गये। इसी क्रम में उनके द्वारा डीएम के खिलाफ बिना किसी साक्ष्य व प्रमाण के गलत आरोप लगा दिये गये। इससे प्रशासन की छवि धूमिल हो रही है। इधर, हम प्रवक्ता ने प्रशासन की छवि धूमिल करने संबंधी आरोप को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि चर्च की जमीन में गड़बड़ी की शिकायत मिली थी। समाजसेवी होने के नाते इस मामले को लेकर शिकायत की थी। कहा कि पूर्व डीएम संजीव कुमार के दबाव पर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है।

  झारखंड में नौकरी करने वाले के घर चोरी, नकदी समेत लाखों का सामान उड़ाया

डीएम व उनके पिता पर भोजपुर को लुटने का लगाया था आरोप

आरा। हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने गुरुवार को एक व्हाटसएप ग्रुप में पूर्व डीएम संजीव कुमार व उनके पिता के खिलाफ एक खबर पोस्ट की थी। उसमें दोनों पर आरा की चर्च की जमीन में गड़बड़ी करने का आरोप लगाया था। साथ ही यह भी लिखा गया था कि बाप-बेटे ने मिलकर भोजपुर को लूटा। इसके लिए उन्होंने सरकार से मामले की जांच करने की मांग भी की थी। यह खबर पोस्ट होने के बाद भोजपुर जिला प्रशासन में खलबली मच गयी थी।

  गर्भवती महिला को मारी गोली, हालत गंभीर

हम प्रवक्ता ने भ्रष्टाचार के खिलाफ कोर्ट जाने की कही बात

आरा। हम प्रवक्ता ने आईएएस अधिकारी व जिले के पूर्व डीएम संजीव कुमार के भ्रष्टाचार के खिलाफ हाईकोर्ट जाने की बात कही है। कहा कि इस तरह के पदाधिकारी को सजा दिलवा कर रहूंगा। उन्होंने कहा कि पूर्व डीएम उनके पीछे पड़े हैं। उनकी हत्या भी करवायी जा सकती है। इसकी सूचना एसपी और आईजी को भी दी गयी है। कहा कि दो दिन पहले भी कतिरा मोड़ के निकट उनके साथ बदसलूकी की गई थी। अब फर्जी मुकदमा दर्ज कराया गया है। उन्होंने कहा कि मुझे शिकायत मिली थी। डीएम व उनके पिता द्वारा भू-माफ़ियाओं व प्रशासनिक दलालों के साथ मिलकर चर्च और वक्फ की करोड़ों की जमीन को बेचवाकर उनका म्यूटेशन कर दिया गया हैं। इस मामले की शिकायत 20 जून 2018 को लिखित और वाट्सएप के माध्यम से शिकायत दर्ज करवाई थी। इससे आहत होकर डीएम उनके पीछे पड़ें हैं। उन्होंने कहा कि अगर डीएम को लगता था कि यह गलत है, तो खुद सामने आकर केस करते।

  अंडा खाने के विवाद में दिनदहाड़े चलीं गोलियां





error: Content is protected !! खबरें आपकी,डॉ कृष्णा जी,दिलीप ओझा,रवि।
LATEST NEWS
Copied!