खबरें आपकी

पिता ने दर्ज करायी हत्या की प्राथमिकी, गृहस्वामी ने चोरी का केस किया

Scroll down to content

बेटे को आरा छोड़ मायके गयी थी मां

इकलौते बेटे की मौत से घर में कोहराम

भोजपुर में कानून हाथ में लेने की पहले भी होती रही घटनाएं

खबरें आपकी,आरा। हत्या व चोरी के मामले में टाउन थाना में अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। पहली प्राथमिकी हत्या में करायी गयी है। मृत युवक के पिता पतिराम सिंह द्वारा दर्ज प्राथमिकी में गौसगंज के रहने वाले कमलनाथ माली को नामजद किया गया है। पंद्रह-बीस अज्ञात लोगों को भी आरोपित किया गया है। कहा गया है कि गोविंद गांगी स्थित अपने बहनोई के घर गया था। तभी कमलनाथ माली सहित अन्य लोगों द्वारा चोरी का आरोप लगा पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी। वहीं कमलनाथ माली द्वारा भी चोरी का केस कहा गया है। उसमें कहा गया है कि रात में घर के सभी लोग सोये थे। तभी चोर घर में घुस गये और दस हजार रुपये व जेवर चुरा लिया गया। इसके बाद घर में खटखट की आवाज पर नींद टूटी और शोर मचाने लगे। शोर सुन आसपास के लोग भाग रहे चोर को पकड़ लिया और पिटाई कर दी।

तीन मामलों में चार्जशीटेड था गोविंद

आरा। पुलिस सूत्रो के अनुसार चोरी के आरोप में भीड़ द्वारा गोविंद पेशेवर चोर है। वह चोरी सहित तीन मामलों में चार्जशीटेड था। उसके खिलाफ आयर थाना में चोरी सहित तीन मामले दर्ज हैं। उन तीनों मामले में उसके खिलाफ चार्जशीट हो चुकी है।

  एनएसयूआई जिलाध्यक्ष के चाचा व चचेरे भाई समेत तीन गये जेल फायरिंग कांड

मंगलवार को ही बेटे को आरा छोड़ मायके गयी थी मां

आरा। भीड़ के हाथों मारा गया गोविंद नशेड़ी था और इधर-उधर घूमता रहता था। मंगलवार को ही वह आरा में अपनी मां को छोड़कर चला गया था। बेटे के मौत की सूचना पर आरा सदर अस्पताल पहुंची मां कंचन देवी ने इस बात की जानकारी दी। उसने बताया कि मायके जाने के लिए वह मंगलवार को अपने पति व पुत्र गोविंद सिंह के साथ आरा रेलवे स्टेशन पर आयी थी। वहां से वह ट्रेन पकड़ कर मायके रोहतास जिले के नोखा थाना क्षेत्र के लीलारी गांव चली गई। जबकि उसका बेटा आरा स्टेशन पर ही रह गया। बुधवार की सुबह गांव के ही एक व्यक्ति द्वारा गोविंद का शव आरा सदर अस्पताल में पड़े होने की सूचना दी गयी। इसके बाद वह भागी-भागी आरा पहुंची।

इकलौते बेटे की मौत से घर में कोहराम

आरा। बलिगांव निवासी गोविंद सिंह की हत्या की सूचना पर उसके माता-पिता और छोटी बहन दौड़ी-दौड़ी सदर अस्पताल पहुंची। तीनों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे। बड़ी शादीशुदा बहन अमृता कुछ भी बोलने को तैयार नहीं थी। पिता पतिराम सिंह को मानो काठ मार गया हो। मां भी बिलख रही थी। बताया जाता है कि गोविंद सिंह अविवाहित था। उसे नशे की लत थी। परिजनों के मुताबिक वह एक बार जेल भी जा चुका है। होली के पहले ही वह जेल से जमानत पर बाहर आया था। मृतक एक भाई और एक बहन था।

  शहनाई के पर्याय थे भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्ला खाँ

मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में शव का कराया गया पोस्टमार्टम

आरा। मॉब लीचिंग के शिकार बलिगांव निवासी गोविंद के शव का पोस्टमार्टम दंडाधिकारी की मौजूदगी में करवाया गया। इसके पूर्व पोस्टमार्टम के लिए एक बोर्ड का गठन किया गया। तीन सदस्य बोर्ड द्वारा शव का पोस्टमार्टम किया गया।

डेढ़ माह पूर्व भी चोरी के आरोप में पीट-पीट कर दी गयी थी हत्या

भोजपुर में कानून हाथ में लेने की पहले भी होती रही घटनाएं

पिछले साल भी बिहिया में चोरी के आरोप में की जा चुकी है हत्या

आरा। भोजपुर जिले में भीड़ द्वारा कानून हाथ में लेने की घटनाएं अक्सर होती रही हैं। मंगलवार की रात की घटना पहली व नयी नहीं है। इससे पहले भी भीड़ द्वारा चोरी के आरोप में पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी है। अभी पिछले माह ही मुफस्सिल थाना के जमीरा गांव में चोरी का आरोप लगा एक युवक को लाठी-डंडे से पीटकर मार डाला गया था। उसके नाखून तक उखाड़ लिये गये थे। अभी कुछ रोज पहले भी शहर में अलग-अलग जगहों पर बाइक व गहने चोरी के आरोप में भीड़ द्वारा दो युवकों को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया था। हालांकि तब पुलिस की तत्परता से दोनों की जान बच गयी थी। वहीं पिछले साल भी बिहिया में चोरी के आरोप में पकड़े गये एक युवक को भीड़ द्वारा मौत की बजा दे दी गयी थी। घटना 27 मई 2018 की थी। बिहिया के महथिन रोड के सुधा डेयरी शॉप में ग्रामीणों ने चोरी के आरोप में पीट-पीट कर एक की हत्या कर दी। पुलिस द्वारा मृत चोर के पास से हथियार व चोरी के चार मोबाइल भी बरामद किये गये थे। उससे करीब तीन साल पहले बड़हरा के कशोपुर इलाके में भी घर से चोरी कर भाग रहे दो चोरों को पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी थी।

  सब इंस्पेक्टर मिथिलेश की बहादुरी ही बन गयी उनकी जान की दुश्मन


This slideshow requires JavaScript.




Don`t copy text! सम्पर्क करें डॉ कृष्ण कुमार,दिलीप ओझा,रवि
LATEST NEWS