खबरें आपकी

आर्सेनिकयुक्त पेयजल से मुक्ति को लेकर प्रस्तावित बहुग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना रद्द

Scroll down to content

राजनैतिक महत्वाकांक्षा की भेंट चढ़ गई यह योजना

समर्थकों के निजी स्वार्थ सिद्धि के बीच लाखो जानता की उम्मीदें तारतार हो गई

योजना के क्रियान्वयन में लेटलतीफी के लिए सीएम ने विभागीय अधिकारियों को लगाई फटकार

अब डीप बोरिंग में आर्सेनिक फिल्टर लगाकर शुद्ध पेयजल आपूर्ति का प्रस्ताव

खबरें आपकी,आरा/शाहपुर: जल ही जीवन है लेकिन शाहपुर का जल जानलेवा बन चुका है। भूगर्भीय आर्सेनिकयुक्त पेयजल से निजात दिलाने के लिए वर्षो से प्रस्तावित बहुग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना कैबिनेट से स्वीकृति व राशि आवंटित होने के बावजूद तकनीकी पेंच के कारण रद्द कर दी गई है। जिसके बाद अब क्षेत्र के करीब तीन लाख लोगों के लिए आर्सेनिकमुक्त शुद्ध पेयजल आपूर्ति का सपना टूट कर बिखर गया। साथ ही दशको से आर्सेनिकयुक्त जहरीले पेयजल को उपयोग करने को विवश लोगो के समक्ष जानबूझकर जहर पीना नियति बन गई है। इन लोगो के लिए बहुग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना एक उम्मीद की किरण थी जो अब समाप्त हो चुकी है। जानकारों की माने तो क्षेत्र के वर्तमान विधायक राहुल तिवारी व पूर्व विधायक मुन्नी देवी के राजनैतिक महत्वाकांक्षा की भेंट चढ़ गई यह योजना। अपने-अपने समर्थकों के निजी स्वार्थ सिद्धि के बीच लाखो लोगो की उम्मीदें तारतार हो गई। क्षेत्र के लिए आर्सेनिकमुक्त पेयजल उपलब्ध कराने के लिए करीब 2 अरब 83 करोड़ रुपये की लागत से स्वीकृत मल्टी विलेज वाटर सप्लाई स्कीम फाइलों में ही दम तोड़ गई। उक्त योजना के लिए भूमि अधिग्रहण से मिलने वाली भारी भरकम राशि ही इसके खटाई में होने की सबसे बड़ी समस्या बनी। सरकारों का बदलते रहना भी इसके आड़े आती रही। सरकारे बदलती रही औऱ उक्त योजना की सूरत भी साथ साथ बदलती रही। क्योंकि उक्त योजना के अंतर्गत जो जमीन अधिग्रहित होनी थी उसके एवज में सरकार 8 गुणा मुआवजा राशि निर्धारित थी। जिसके लालच में योजना के लिए कई बार अलग अलग स्थलों का चयन किया जाता रहा। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त योजना के क्रियान्वयन में 8 वर्षो के देरी को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विभागीय अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई। साथ ही शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने को लेकर वैकल्पिक व्यवस्था करने की सख्त हिदायत दी है।

  भोजपुर जिले से पांच चिकित्सक भेजे गए सीतामढ़ी

विधायक ने कहा-

स्थानीय विधायक राहुल तिवारी ने बताया कि पीएचईडी विभाग के अधिकारियों के अनुसार आर्सेनिक फ्री शुद्व पेयजल उपलब्ध कराने के लिए डीप बोरिंग कर उसके आर्सेनिक फिल्टर लगा कर पेयजल आपूर्ति की योजना है। इसके तहत आर्सेनिक प्रभावित गांवों में आर्सेनिक फिल्टर बोरिंग के साथ वाटर टावर निर्माण कर आर्सेनिकमुक्त शुद्ध पेयजल घरो तक पहुंचाया जाएगा।

  देसी शराब के साथ दो गिरफ्तार





Don`t copy text! सम्पर्क करें डॉ कृष्ण कुमार,दिलीप ओझा,रवि
LATEST NEWS