खबरें आपकी

एसपी कर रहे थे क्राइम मीटिंग, इधर बदमाश चला रहे थे गोलियां

Scroll down to content

खेताड़ी मोहल्ले की ओर से आये बदमाश जेल रोड होते भाग निकले

दिनदहाड़े फायरिंग से पुलिस की चुस्ती की खुली पोल, लोगों में दहशत

खबरें आपकी,आरा। जिले में अपराधी अब पूरी तरह बेलगाम हो गये हैं। उनमें पुलिस का खौफ नहीं दिख रहा है। अब तो पुलिस के सामने ही फायरिंग भी की जाने लगी है। बुधवार को जेल गेट के समीप फायरिंग कर अपराधियों ने इसे साबित कर दिखाया। अपराधियों का मनोबल कितना बढ़ा हैं। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक तरफ एसपी क्राइम मीटिंग कर रहे थे। इधर, अपराधी शहर में गोलियां चला रहे थे। मालूम कि बुधवार की दोपहर आरा में एसपी की मासिक क्राइम मीटिंग चल रही थी। उसमें जिले के सभी इंस्पेक्टर व थाना इंचार्ज शामिल थे। इस दौरान एसपी सभी अफसरों को क्राइम कंट्रोल से लेकर अपराधियों की धरपकड़ तक का टास्क दे रहे थे। ठीक उसी समय जेल के सामने बदमाश गोलियां चला रहे थे। यह पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती है। इधर, सरेराह व भीड़-भाड़ वाले इलाके में फायरिंग कर अपराधियों के भाग जाने की घटना से पुलिस की चुस्ती व सक्रियता की पोल खुल गयी है। वहीं शहर के लोगों में दहशत भी पैदा हो गयी है। अब देखना है कि पुलिस अपराधियों की इस चुनौती का किस हद तक जबाव देती है।

  सेक्स रैकेट के मामले में महिला व उसके सहयोगी पर प्राथमिकी दर्ज

आरा में ठीक एक साल बाद जेल गेट पर चली गोलियां

आरा। शहर में अपराधियों द्वारा जेल को पहले से निशाना बनाया जाता रहा है। जेल काफी दिनों से बदमाशों के टारगेट पर है। कभी जेल के गेट पर जवान की हत्या कर दी जाती है, तो कभी अधीक्षक को उड़ाने की धमकी दे दी जाती है। जेल ब्रेक करने का प्रयास भी किया जा चुका है। बुधवार की घटना नयी नहीं है। आज से करीब एक साल पहले आठ जुलाई 2018 की देर शाम जेल के गेट पर समीप फायरिंग की गयी थी। उस समय बदमाशों द्वारा ताबड़तोड़ दो राउंड फायरिंग की गयी थी। इसमें एक गोली जेल के मेन गेट पर लगी है। गोलीबारी की इस घटना में एक जवान बच गयी थी। उसके चार वर्ष पूर्व भी जेल गेट पर ही मंडल कारा के जवान हामिद अंसारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उस मामले में कुख्यात शेरू सिंह का नाम आया था। बताया जाता है कि कभी जेल में बंद शेरू की पिटाई कर दी गयी थी। इसी का बदला लेने के लिए सिपाही को जेल के गेट पर ही गोली मार दी गयी थी। इसी तरह कोर्ट बम कांड के एक आरोपित को दूसरे जेल भेजने से रोकने के लिए एक बंदी द्वारा कुछ दिनों पहले अधीक्षक को ही बम से उड़ा देने की धमकी दे दी गयी थी। इससे करीब दो साल पहले बम मैन के नाम से कुख्यात लंबू शर्मा द्वारा जेल ब्रेक करने की साजिश रची गयी थी। इसके लिए बम बनाने का सामान भी मंगा लिया गया था। हालांकि समय रहते पुलिस को भनक लग गयी और उसकी साजिश कामयाब नहीं हो सकी।

  निरीक्षण में बंद पाया गया आईसीयू व एनसीडी क्लीनिक

फायरिंग में शामिल तीनों बदमाशों की हुई पहचान, एफआईआर दर्ज

आरा। जेल गेट के समीप फायरिंग के मामले में पुलिस ने तीनों बदमाशों को चिन्हित कर लिया गया है। तीनों के खिलाफ पुलिस के बयान पर नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। पुलिस तीनों की गिरफ्तारी में जुट गयी है। इसके लिए एसपी द्वारा एक टीम का गठन किया गया है। साथ ही एसपी खुद मॉनिटरिंग कर रहे हैं। पुलिस के अनुसार सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तीनों की पहचान की गयी है।

  महाधरना के बाद शिक्षक संघ ने आठ सूत्री ज्ञापन BDO को सौपा





Don`t copy text! सम्पर्क करें डॉ कृष्ण कुमार,दिलीप ओझा,रवि
LATEST NEWS