खबरें आपकी

शाहपुर रेफरल अस्पताल में निजी एंबुलेंस चालकों का है कब्जा

Scroll down to content

एंबुलेंस चालक मरीजों के परिजनों से मनमाना किराया वसूलते हैं

आरा सदर हॉस्पिटल तक 30 किलोमीटर के सफर के लिए दो हजार रुपए तक वसूल लेते हैं।

खबरें आपकी,आरा/शाहपुर :- शाहपुर रेफरल अस्पताल में निजी एंबुलेंस संचालकों का दबदबा कायम है। उन्होंने एम्बुलेंस रेफरल अस्पताल परिसर एवं नगर पंचायत द्वारा बनवाये गये रैन बसेरा के कमरा पर कब्जा जमा रखा है और मरीजों से मनमाना किराया वसूल रहे हैं। नियमानुसार परिसर में केवल सरकारी एंबुलेंस ही खड़ी हो सकती है।निजी एंबुलेंस को अस्पताल परिसर के अन्दर अपने वाहन खड़े करने और मरीजों को ढूंढने की इजाजत नहीं है। लेकिन काफी समय से यहां निजी एंबुलेंस वाले सक्रिय हैं जो रेफरल अस्पताल के कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत से अपना धंधा चमका रहे हैं। लोगों की मानें तो जैसे किसी मरीज को बाहर रेफर होने की जरूरत पड़ती है तो अस्पताल के ही कुछ कर्मचारी मरीज के परिजनों को समझा बुझाकर उन्हें प्राइवेट एम्बुलेंस संचालकों के हवाले कर देते हैं। इसके बाद फिर एंबुलेंस चालक मरीजों के परिजनों से मनमाना किराया वसूलते हैं। बताते हैं कि आरा सदर हॉस्पिटल तक 30 किलोमीटर के सफर के लिए दो हजार रुपए तक वसूल लेते हैं। बता दें कि इन एंबुलेंस में पर्याप्त सुविधाएं भी नहीं हैं। न तो लाइफ सपोर्ट सिस्टम है और न ही अन्य किसी प्रकार की सुविधा है, जिसकी वजह से मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। एक ओर शासन जहां लाइफ सपोर्ट सिस्टम वाली बड़ी एंबुलेंस सेवा संचालित कर रही है तो वहीं निजी एंबुलेंस वाले ओमनी जैसी छोटी गाड़ियों के माध्यम से मरीजों के परिजनों से मनमाना किराया वसूल कर एम्बुलेंस सेवा दी जा रही है।

  एनएसयूआई जिलाध्यक्ष के चाचा व चचेरे भाई समेत तीन गये जेल फायरिंग कांड


This slideshow requires JavaScript.




Don`t copy text! सम्पर्क करें डॉ कृष्ण कुमार,दिलीप ओझा,रवि
LATEST NEWS