खबरें आपकी

भोजपुर जिले के चार दागियों पर सीबीआई की नजर, साथ ले गयी आपराधिक इतिहास

Scroll down to content

बहुचर्चित बरमेश्वर मुखिया हत्याकांड

कातिलों की तलाश में फिर आरा आयी सीबीआई की टीम

प्राथमिकी सहित हत्या से संबंधित अन्य फाइल भी साथ ले गयी सीबीआई

हत्या की जांच करने चौदह दिन पहले भी आरा आयी थी सीबीआई

आरा। रणवीर सेना के सुप्रीम कमांडर बरमेश्वर सिंह उर्फ मुखिया हत्याकांड में सीबीआई की नजर शहर के चार पूर्व के दागियों पर टिक गयी है। इस सिलसिले में सीबीआई की टीम बुधवार को आरा पहुंची। टीम सीधे नवादा थाना पहुंची और चारों दागियों के बारे में जानकारी ली। उन चार लोगों की पूरी आपराधिक कुंडली भी साथ ले गयी। टीम द्वारा थाने में दर्ज प्राथमिकी सहित अन्य फाइल की भी मांग की गयी। इसके बाद सीबीआई की टीम भोजपुर एसपी से भी मिली और हत्याकांड से संबंधित कुछ जानकारियां ली। कुछ महत्वपूर्ण कागजात अपने साथ भी साथ ले गयी। इससे पहले भी एक अगस्त को टीम मामले की जांच करने आरा पहुंची थी। उस समय भी टीम ने हत्याकांड से संबंधित सभी पुरानी फाइलों को खंगाला था। घटना के बाद तैयार मोबाइल डाटा व कुछ नंबरों की सीडीआर की जानकारी ली गयी थी। उसके बाद नवादा थानाध्यक्ष से पूर्व से दागी रहे शहर के चार लोगों की आपराधिक इतिहास की मांग की थी। विदित हो कि 1 जून 2012 की सुबह शहर के कतीरा मोहल्ले में ब्रह्मेश्वर मुखिया की उनके घर के सामने गोली मार हत्या कर दी गयी थी। तब आरा से लेकर पटना तक खूब बवाल मचा था। आरा में तत्कालीन डीजीपी अभ्यानंद के साथ हाथापाई तक की गयी थी। हत्या के बाद मामले की जांच व हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी का गठन किया गया था। तब जांच में जुटी पुलिस ने कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया था। लेकिन हत्या में शामिल लोगों का सुराग नहीं मिल सका। बाद में मुखिया के परिजनों व राजनीतिक दबाव को देखते हुए मामले को सीबीआई के हवाले कर दिया गया था। सीबीआई द्वारा हर एंगल से मामले की तफ्तीश की गयी। लेकिन पांच साल तक चली जांच के बाद भी हत्या में शामिल लोगों का सुराग नहीं मिल सका। इसे देखते हुए सीबीआई द्वारा सुराग देने वालों को इनाम देने की भी घोषणा की गयी। अभी कुछ दिनों पहले ही सीबीआई ने आरा में कई जगहों पर पोस्टर चिपका मुखिया हत्याकांड कोई भी व्यक्ति क्लू देने वालों को इनाम देने की बात कही गयी। इसके बावजूद किसी तरह की जानकारी नहीं मिल सकी। ऐसे में सीबीआई फिर से जांच तेज कर दी है।

  पुलिस ने वांटेड मुखिया प्रत्याशी के घर चिपकाया इश्तेहार


This slideshow requires JavaScript.




This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Don`t copy text! सम्पर्क करें डॉ कृष्ण कुमार,दिलीप ओझा,रवि
LATEST NEWS