विवेक व बुद्धि को शुद्धि होने के लिए साधना होना जरूरी- जीयर स्वामी

साधना हमारे जीवन का वह आर्टिकल है जिसके द्वारा अपने जीवन को साध लेते है

खबरें आपकी:- विवेक और बुद्धि को शुद्ध होने के लिए मानव जीवन में साधना होना जरूरी है.यह बाते मंगलवार की शाम नासरीगंज प्रखंड के पड़री गांव में चल रहे ज्ञान यज्ञ महामहोत्सव के सातवें दिन पूज्य श्री जीयर स्वामी जी महाराज ने प्रवचन के दौरान कही.उन्होंने कहा कि साधना हमारे जीवन का वह आर्टिकल है.वह कंडिशन है.वह स्टेटस है.वह थ्योरी है जिसके द्वारा अपने जीवन को साध लेते है सुलझा लेते है.सामाधान कर लेते है.पहला साधना शरीर व संतान आदि के प्रति मोह का त्याग करना

उन्होंने कहा कि अपने हर कर्मो को, हर व्यवहारों को हर आचरणों,अपने शरीर द्वारा,अपने वाणी द्वारा, अपने आत्मा द्वारा, आत्मा के स्वभाव द्वारा, मन द्वारा, बुद्धि द्वारा, इंद्रियों द्वारा जो कर्म करे. वह कर्म और कर्म का फल दोनों को भगवान नारायण को समर्पित कर दे.तो वह कर्म हमारी साधना है.हमारी पूजा है.हमारी आराधना हो जाती है

PlayPause
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *