धर्म

विवेक व बुद्धि को शुद्धि होने के लिए साधना होना जरूरी- जीयर स्वामी

साधना हमारे जीवन का वह आर्टिकल है जिसके द्वारा अपने जीवन को साध लेते है

खबरें आपकी:- विवेक और बुद्धि को शुद्ध होने के लिए मानव जीवन में साधना होना जरूरी है.यह बाते मंगलवार की शाम नासरीगंज प्रखंड के पड़री गांव में चल रहे ज्ञान यज्ञ महामहोत्सव के सातवें दिन पूज्य श्री जीयर स्वामी जी महाराज ने प्रवचन के दौरान कही.उन्होंने कहा कि साधना हमारे जीवन का वह आर्टिकल है.वह कंडिशन है.वह स्टेटस है.वह थ्योरी है जिसके द्वारा अपने जीवन को साध लेते है सुलझा लेते है.सामाधान कर लेते है.पहला साधना शरीर व संतान आदि के प्रति मोह का त्याग करना

उन्होंने कहा कि अपने हर कर्मो को, हर व्यवहारों को हर आचरणों,अपने शरीर द्वारा,अपने वाणी द्वारा, अपने आत्मा द्वारा, आत्मा के स्वभाव द्वारा, मन द्वारा, बुद्धि द्वारा, इंद्रियों द्वारा जो कर्म करे. वह कर्म और कर्म का फल दोनों को भगवान नारायण को समर्पित कर दे.तो वह कर्म हमारी साधना है.हमारी पूजा है.हमारी आराधना हो जाती है

Related posts

रामलीला को ले 28 को गाजे-बाजे के साथ निकाली जाएगी भव्य शोभायात्रा

Dilip Kumar Ojha

रामलीला में भगवान श्रीराम व लक्ष्मण वनगमन की हुई प्रस्तुति

Dilip Kumar Ojha

हजरत मखदूम शाह शरफुद्दीन याहिया मनेरी रहमतुल्ला अलैह के मजार पर उर्स व मेला रविवार से शुरू

Dilip Kumar Ojha

महाशिवरात्रि को लेकर मंदिरों एवं शिवालयों में उमड़ी भक्तों की भीड़

Khabreapki Studio

भक्ति भाव से मना अनंत चतुर्दशी का त्योहार

Dilip Kumar Ojha

भोजपुरः नदी घाटों पर पहुंचने लगे छठ व्रती

Dilip Kumar Ojha
Don`t copy text!