भोजपुरः कड़ी सुरक्षा के बीच राजद विधायक की अचल संपत्ति की मापी शुरू

सेक्स कांड में भूमिगत संदेश विधायक की अचल संपत्ति की जब्ती की कवायद

डीएम के आदेश पर मापी के लिये लगाये गये पांच अमीन, सीओ व बीडीओ भी मौजूद

पहले दिन अगिआंव अंचल के अगिआंव व खरईचा मौजा की जमीन की गयी मापी

अब तक की जांच में सामने आयी राजद विधायक की 12 एकड़ जमीन

खबरें आपकी, आराआरा व पटना के चर्चित सेक्स कांड में भूमिगत संदेश राजद विधायक अरुण यादव की अचल संपत्ति जब्त करने की कवायद तेज हो गयी है। इसके तहत गुरुवार को कड़ी सुरक्षा के बीच विधायक की चिन्हित जमीन की मापी शुरू की गयी। पहले दिन खरैंचा व अगिआंव मौजा की जमीन मापी की गयी। डीएम और एसपी के आदेश पर गुरुवार की दोपहर करीब 12 बजे अगिआंव सीओ परमेश्वर राम व बीडीओ कलावती कुमारी के नेतृत्व में जमीन की मापी शुरू की गयी।

previous arrow
next arrow
Slider

माना जा रहा है कि मापी एक-दो दिनों तक जारी रहेगी। बता दें कि सेक्स कांड में नाम आने के बाद से ही राजद विधायक फरार चल रहे हैं। कुर्की-जब्ती के बाद भी विधायक ने सरेंडर नहीं किया। इससे कोर्ट काफी खफा है और अचल संपत्ति जब्त करने का आदेश दिया है। कोर्ट के आदेश पर डीएम व एसपी द्वारा अगिआंव के सीओ से विधायक की पूरी संपत्ति की जांच कर ब्योरा देने देने का आदेश दिया गया था। इसके लिये इस केस के आईओ बुधवार को अगिआंव पहुंचे थे। तब उन्होंने सीओ व बीडीओ के साथ घंटों मंथन की थी।

सूत्रों के अनुसार जांच में प्रशासन को अबतक अगिआंव व खरैंचा मौजा में विधायक के नाम से भूखंड होने की जानकारी मिली है। इनमें एक काफी बड़ी बाउंड्री भी शामिल है। हालांकि अभी भी विधायक की संपत्ति की जांच चल रही है। वहीं, राजद विधायक के नाम से जमीन सामने आने के बाद मापी की कवायद शुरू की गयी। इसके लिये पांच अमीनों की टीम भी बनायी गयी है। जमीन की मापी के दौरान सुरक्षा के भी काफी पुख्ता इंतजाम किये गये थे। इसके लिये गड़हनी, नारायणपुर, अजीमाबाद व पवना थाना की काफी संख्या में पुलिस मौजूद थी।

गिरफ्तारी व केस की जांच में लापरवाही पर पुलिस को कई बार लग चुकी फटकार 

नाबालिग के साथ गंदा काम करने के मामले में कुर्की के बाद राजद विधायक द्वारा सरेंडर नहीं किये जाने पर कोर्ट का रूख काफी सख्त है। इस मामले में पॉक्सो कोर्ट के आदेश पर राजद विधायक के खिलाफ एक प्राथमिकी भी दर्ज करा दी गयी है। वहीं कोर्ट द्वारा विधायक सहित अन्य आरोपितों को अबतक गिरफ्तार नहीं करने व केस के अनुसंधान में लापरवाही को लेकर आईओ को भी कई बार फटकार भी लगायी जा चुकी है।

बता दें कि जुलाई माह में सेक्स कांड सामने आने के बाद चार लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी। बाद में संदेश राजद विधायक अरुण यादव, पटना के एक शराब का धंधेबाज, एक होटल का मेनेजर व लखनऊ के एक व्यक्ति का नाम जोडा़ गया। इनमें सेक्स कांड के धंधे से जुड़ी अनिता देवी, धंधे का मास्टर माइंड संजय पासवान उर्फ पंडित उर्फ जीजा, छोटू उर्फ संजीत और किशोरी के साथ गंदा काम करने वाले एक इंजीनियर को गिरफ्तार किया जा चुका है। उन चारों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की जा चुकी है। लेकिन विधायक को अबतक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। वहीं तीन अन्य आरोपितों का अबतक नाम का खुलासा भी नहीं हो सका है। इस पर ही कोर्ट काफी सख्त है।

Play
Shadow
Slider
PlayPause
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *