अनुज भरत से मिलकर गदगद हुए प्रभु श्रीराम

अनुज भरत से मिलकर गदगद हुए प्रभु श्रीराम

शांतिपूर्वक संपन्न हुआ भरत मिलाप कार्यक्रम

शोभायात्रा में जुटा रहा दर्शकों का हुजूम

आरा। रामलीला मैदान परिसर में रविवार की रात्रि भरत मिलाप का आयोजन किया गया। जहां विभिन्न मोहल्लों से निकाली गई झांकी रामलीला मैदान पहुंची। झांकी सह शोभायात्रा रामलीला मैदान से रविवार की रात्रि शुरू हुआ। जो शहर के जैन स्कूल, डिंस टैंक, धर्मन चौक, महादेवा, बड़ी मठिया, शिवगंज रोड, गोपाली चौक, शीशमहल चौक होते हुए रामगढ़िया पहुंचा। जहां राम- जानकी मंदिर में भव्य आरती हुआ। तत्पश्चात प्रसाद का वितरण हुआ। भरत मिलाप कार्यक्रम को ले सड़क के दोनों ओर लोगों का जनसैलाब उमड़ा रहा।

कार्यक्रम में शिवगंज समेत कई अन्य जगह से झांकी निकाली गई। बताया जाता है कि विजयादशमी के दिन रावण का वध कर भगवान श्रीराम ने लंका पर विजय प्राप्त किया। तत्पश्चात श्रीराम भाई लक्ष्मण, भक्त हनुमान, अंगद व सुग्रीव को ले पुष्पक विमान से अयोध्या के लिए प्रस्थान करते हैं। इधर, श्रीराम के आने की अवधि का एक दिन शेष रह जाने पर भरत जी दुखी मन से विचार करते हैं, कि मेरे प्राणों का एक दिन शेष रह गया है। प्रभु श्रीराम नहीं आते हैं, तो मुझे जीवित रहने का अधिकार नहीं है। मैं अपने प्राणों का परित्याग कर दूंगा।

उसी समय हनुमान ब्राह्मण के वेश में भरत जी के पास आते हैं और उन्हें प्रभु श्रीराम के आने की सूचना देते हैं। गुरु वशिष्ठ को नगर द्वार पर देख लक्ष्मण सहित श्रीराम धनुष- बाण छोड़ उनके चरण स्पर्श करते हैं। तत्पश्चात भगवान श्रीराम अपने अनुज भरत से मिलते हैं। अनुज से मिलकर भगवान श्रीराम गदगद हो जाते हैं।

इस कार्यक्रम में नगर रामलीला समिति के अध्यक्ष प्रेम पंकज उर्फ ललन, उपाध्यक्ष शंभू नाथ प्रसाद, सन्नी शाहाबादी, शंभू नाथ केसरी, कोषाध्यक्ष मदन प्रसाद, मीडिया प्रमुख डॉ. रमेश कुमार सिन्हा उर्फ कर्ण जी मीडिया सह प्रमुख संजीव पांडेय, सोशल मीडिया प्रमुख पर्यावरण प्रेमी आनंद कुमार, उदय आनंद, जयप्रकाश बुटाई, सोनू कुमार, शालू कुमार चौरसिया, गौतम कुमार उर्फ राजा, पवन कुमार सहित काफी संख्या में रामलीला समिति के पदाधिकारी एवं सदस्य शामिल थे।

चाक-चौबंद दिखी पुलिसिया व्यवस्था

आरा। भरत मिलाप सह झांकी को ले पुलिस-प्रशासन चौकस दिखी। झांकी के गुजरने वाले रूट पर जगह-जगह महिला-पुरुष पुलिस कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई थी। वहीं शहर के तकरीबन दो दर्जन स्थानों पर दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी के साथ सशस्त्र बलों की तैनाती की गई थी। इस दौरान पुलिस प्रशासन के अफसर इलाके में घूम-घूम कर जा ले रहे थे।


Don`t copy text!
LATEST NEWS
%d bloggers like this: