संस्कृति और भाषा के संरक्षण में सक्षम समाज ही होता है विकसित -अर्चना

भोजपुरी संस्कारों से भी परिचय करवाएगी यह कार्यशाला- कुमार द्विजेंद्र

भोजपुरी कला यात्रा का हुआ आयोजन

सर्जना न्यास एवं संभावना विद्यालय के संयुक्त तत्त्वाधान में आयोजित हुआ कार्यक्रम

28 दिसंबर तक विद्यालय में आयोजित होगी कार्यशाला
30 दिसंबर को प्रतिभागियों द्वारा बनाये चित्रों की लगायी जाएगी प्रदर्शनी

खबरें आपकी, आरा। संभावना आवासीय उच्च विद्यालय के प्रांगण में मंगलवार को सर्जना न्यास एवं संभावना विद्यालय के संयुक्त तत्त्वाधान में भोजपुरी कला यात्रा का आयोजन किया गया। उदघाटन विद्यालय के प्रबंध निदेशक डाॅ. कुमार द्विजेन्द्र, प्राचार्या डॉ. अर्चना सिंह, साहित्यकार जनार्दन मिश्र, भोजपुरी रंगकर्मी कृष्णेन्दु यादव, चित्रकार राकेश कुमार दिवाकर, प्रशिक्षक-चित्रकार संजीव सिन्हा और संस्कृतिकर्मी सुनील पांडेय ने संयुक्त रूप से की।

previous arrow
next arrow
Slider


विद्यालय के बच्चों ने भोजपुरी मंगलाचरण गाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। स्वागत संबोधन में प्राचार्या डॉ. अर्चना सिंह ने कहा कि भोजपुरी कला यात्रा का विद्यालय में आयोजन भोजपुरी संस्कृति के प्रोत्साहन में मील का पत्थर साबित होगी। क्यूंकि वही समाज विकसित और प्रगतिशील हो सकता है, जो अपनी संस्कृति और भाषा के संरक्षण में सक्षम हैं। निदेशक कुमार द्विजेन्द्र ने बताया कि संभावना विद्यालय अपने स्थापना काल से ही ऐसी कार्यशालाएं और कार्यक्रम का आयोजन करता रहा है, जो भाषा-संस्कृति का संवर्धन करती हो। यह कार्यशाला भी बच्चों के रचनात्मक विकास में सहयोग के साथ साथ भोजपुरी संस्कारों से भी परिचय करवाएगी। जनार्दन मिश्र ने मंच से बच्चों का उत्साहवर्धन किया और भोजपुरी कला पर आधारित कार्यशाला के आयोजन के लिए सर्जना ट्रस्ट और संभावना विद्यालय के प्रति साधुवाद प्रगट किया।


‌विषय प्रवेश करते हुए संस्कृतिकर्मी सुनील पांडेय ने कहा कि भोजपुरी चित्रकला दरअसल लेखन शैली है और प्रकृति के रंगों से इसका गहरा सम्बन्ध है। चित्रकार राकेश कुमार दिवाकर ने अपने सम्बोधन में लोककला और शास्त्रीय कला के बीच के अंतर को बताया और भोजपुरी लोककला की विशेषताओं को रेखांकित किया। संचालन विद्यालय के उप प्राचार्य राघवेन्द्र कुमार वर्मा ने किया। धन्यवाद ज्ञापन सर्जना ट्रस्ट और भोजपुरी कला यात्रा के संयोजक रवि प्रकाश सूरज ने किया।

‌ज्ञात हो कि इस कार्यशाला में प्रशिक्षण ख्याति प्राप्त भोजपुरी चित्रकार संजीव सिन्हा देंगे। यह कार्यशाला 28 दिसंबर तक विद्यालय में आयोजित होगी और समापन समारोह में अमेरिका से आई चर्चित भोजपुरी गायिका स्वस्ति पांडेय भाग लेंगी। 30 दिसंबर को प्रतिभागियों द्वारा बनाये चित्रों की प्रदर्शनी लगाई जाएगी, जिसका उदघाटन प्रमोद कुमार, कला एवं संस्कृति मंत्री, बिहार सरकार करेंगे। 30 दिसंबर के कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण गोरखपुर से आये भोजपुरी फ्यूजन बैंड ‘बुद्ध से कबीर तक’ कि विशेष प्रस्तुति होगी। ‌आज के कार्यक्रम में अभिभावकों के अलावा विद्यालय के शिक्षक दीपक कुमार सिंह, शशिभूषण, विष्णु शंकर उपस्थित थे।

Play
Shadow
Slider
PlayPause
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *