गोवर्धन पूजा के उपलक्ष्य में खेल-कूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

खेल-कूद हमें जीवन की परेशानियों, तनावों एवं चिंताओं से मुक्त कर देती है:-संजय

खेल-कूद प्रतियोगिता का पुरस्कार बितरण जाप(लो.)के प्रदेश सचिव संजय यादव और देश के पूर्व एवं वर्तमान सैनिको द्वारा किया गया।

खबरें आपकी,आरा/पीरो (लहराबाद )गाँव मे गोवर्धन पूजा के शुभ अवसर पर वर्षो से चली आ रही परम्परा को आगे बढ़ाते हुए इस बार फिर से खेल-कूद का आयोजन किया गया।गाँव की पुरानी परम्परा के अनुसार गाँव के जो भी नवयुवक गाँव से बाहर रहकर देश के कोने-कोने मे अपनी सेवा दे रहे है वो इस पूजा के दिन होने वाली प्रतियोगिता मे बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं और देश के होनहार भविष्य को खेल-कूद., दौड़, ऊँची कूद, लम्बी कूद, कुस्ती का आयोजन करते हैं और इन सभी खेलों मे प्रतिभागियों को पुरस्कृत कर उनका हौशला बढ़ाते हैं.

previous arrow
next arrow
Slider

खेल-कूद प्रतियोगिता का पुरस्कार बितरण जाप(लो.)के प्रदेश सचिव संजय यादव और देश के पूर्व एवं वर्तमान सैनिको द्वारा किया गया।

इस अवसर पर प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए संजय यादव ने कहाँ की मानव-जीवन में अनेक प्रकार की परेशानियाँ और तनाव है । लोग विभिन्न प्रकार की चिंताओं से घिरे रहते हैं । खेल-कूद हमें इन परेशानियों, तनावों एवं चिंताओं से मुक्त कर देती है । खेल-कूद को जीवन का आवश्यक अंग मानने वाले जीवन में आने वाली समस्याओं का सामना करने में सक्षम होते हैं ।

संत रामकृष्ण परमहंस का कथन है कि ईश्वर ने संसार की रचना खेल-खेल में की है । अर्थात् परमात्मा को खेल बहुत पसंद है । तो फिर परमात्मा की कृति मनुष्य खेलों से क्यों दूर रहे! खेल खेलकर ही लोग जान सकते हैं कि जीवन एक खेल है । जीवन को बहुत गंभीर और तनावयुक्त नहीं बनाना चाहिए सभी हँसते-खेलते जिएँ तो संसार की बहुत-सी परेशानियाँ मिट जाएँ । अत: जीवन में खेल-कूद का महत्त्वपूर्ण स्थान होना चाहिए ।
खेल-कूद स्वास्थ्यवर्धक होते हैं ये शरीर के विभिन्न अंगों के उचित संचालन में मददगार होते हैं । खेलने से शरीर का व्यायाम होता है तथा पसीने के रूप में शरीर में जमा जल बाहर निकल आता है । खेल-कूद शरीर और मन में ताजगी लाता है । इनसे मांसपेशियाँ सुगठित हो जाती हैं । मन की ऊब मिटाने और चित्त में प्रसन्नता लाने के लिए खेलों की जितनी भूमिका है उतनी शायद अन्य किसी चीज की नहीं । यही कारण है कि अलग- अलग समाज और देश में विभिन्न प्रकार के खेलों को पर्याप्त महत्त्व दिया जाता है ।
विद्यालयो तथा अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों में खेल-कूद को शिक्षा का एक आवश्यक अंग माना जाता है । खेलों से संबंधित अनेक प्रकार की प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती हैं । विद्‌यालयों में वार्षिक खेल समारोह होते हैं । हर दिन एक घंटी खेल की घंटी होती है । खेल-प्रशिक्षक इस घंटी में बच्चों को तरह-तरह के खेल खेलना सिखाते हैं । बच्चे उत्साहित होकर खेलते हैं तथा तनाव से मुक्त होकर पुन : पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करते हैं ।
बाल्यकाल और खेलों का गहरा नाता होता है । बच्चे खेलों के माध्यम से नई-नई बातें सीखते हैं । खेल उनका साहस और आत्म-विश्वास बढ़ाते हैं । खेलों से उनका तन सुगठित होता है । दूसरे बच्चों के साथ खेलते हुए वे आपस में स्वस्थ प्रतियोगिता करना एवं सहयोग करना सीखते हैं । उनमें धैर्य, सहिष्णुता, ईमानदारी, निष्ठा जैसे गुणों का उभार होता है । वे चुस्त एवं फुर्तीले बनते हैं । खेलों में मिली हार और जीत से वे नए-नए गुण एवं अनुभव प्राप्त करते हैं । वे हार से सबक लेते हैं और कमियों को दूर करते हैं जीत उन्हें नए-उत्साह और प्रेरणा से भर देती है।
खेल-कूद का व्यक्तित्व के विकास में बहुत योगदान है । इनसे शारीरिक और मानसिक क्षमता में बढ़ोतरी होती है । खुले मैदानों में होने वाले खेल खेलकर व्यक्ति स्वस्थ बना रह सकता है । खुली ताजी हवा फेफड़ों में अधिक प्रवेश करती है । व्यक्ति निरोगी रहता है। उसकी झिझक मिटती है, वह समाजोपयोगी कार्यों र्में सहभागिता करता है ।
आजकल अच्छे खिलाड़ियों को बहुत सम्मान प्राप्त है । उसे धन भी प्रचुर मात्रा में मिलता है । सरकार एवं निजी संस्थाएँ उन्हें अपने यहाँ अच्छी नौकरी पर रखती हैं। समाज में उन्हें उचित आदर मिलता है
उपर्युक्त कारणों से खेल-कूद का महत्त्व दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है । बालकों, बालिकाओं तथा युवाओं को प्रतिदिन कोई न कोई खेल अवश्य खेलना चाहिए । जब देश के बच्चे और युवा स्वस्थ रहेंगे तो देश के निर्माण में बहुत सहायता मिलेगी. इन सभी बातों को दुहराते हुए श्री यादव ने कहाँ की शिक्षा के साथ ही साथ खेल का भी बहुत बड़ा योगदान हैं हर व्यक्ति के जीवन मे.!
खेल-कूद प्रतियोगिता के आयोजन मे अरुण लाल यादव, हरद्वार जी, मुन्ना, वरुण, सुनील, सन्नी, कमलेश, धर्मेंद्र, हरेंद्र सहित अन्य का योगदान सराहनीय रहा।

Play
Shadow
Slider
PlayPause
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *