जैन सर्किट से जुड़ा श्री 1008 महावीर स्वामी जल मंदिर

आरा का यह जल मंदिर भगवान महावीर की मोक्ष स्थली पावापुरी (जिला वैशाली) स्थित जल मंदिर की प्रतिकृति है:-परेश चंद्र जैन

1008 महावीर स्वामी जैन जल मंदिर आरा नगरी के प्रमुख एवं प्राचीनतम जैन मंदिरों में से एक है

खबरें आपकी,आरा। शहर के शिवगंज स्थित श्री 1008 महावीर स्वामी जैन मंदिर (अधीनस्थ श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पंचायती मंदिर, आरा) बिहार सरकार की पर्यटन विभाग की योजना अंतर्गत जैन सर्किट से जुड़ गया है। विक्रम संवत् 1966 ईसवी सन् 1909 में बाबू अभय कुमार चंद्र उर्फ मझलू बाबू सुपुत्र स्व. बाबू विमल दास जी जैन द्वारा निर्मित श्री 1008 महावीर स्वामी जैन जल मंदिर आरा नगरी के प्रमुख एवं प्राचीनतम जैन मंदिरों में से एक है। जैन सर्किट से जोड़ने संबंधी जानकारी श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पंचायती मंदिर आरा के मंत्री सुबीश चंद्र जैन द्वारा दी गई।

previous arrow
next arrow
Slider

बता दें कि इसके पूर्व बिहार राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से धरहरा स्थित बाहुबली दिगंबर जैन मंदिर तथा मसाढ़ ग्राम स्थित श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर को भी पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का निर्णय बिहार सरकार द्वारा लिया गया है। सरकार के इस निर्णय का सकल दिगंबर जैन समाज द्वारा स्वागत किया है तथा इसके लिए पर्यटन विभाग के मंत्री कृष्णदेव कुमार ऋषि एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का आभार व्यक्त किया है।

जैन समाज आरा के परेश चंद्र जैन ने बताया कि आरा का यह जल मंदिर भगवान महावीर की मोक्ष स्थली पावापुरी (जिला वैशाली) स्थित जल मंदिर की प्रतिकृति है। सरोवर के मध्य स्थित भगवान महावीर का यह जल मंदिर समस्त धर्मावलंबियो की आस्था का स्थान है। यहां दूर-दूर से जैन तथा जैनेत्तर समाज द्वारा भगवान महावीर की पूजा अर्चना की जाती आ रही है तथा यह मनोकामना पूर्णअतिशयकारी जल मंदिर की ख्याति चारों ओर फैली है। कुछ महीने पूर्व स्वयं पर्यटन मंत्री श्री ऋषि एवं पर्यटन विभाग के निदेशक द्वारा स्वयं यहां आकर पूजा-अर्चना की गई थी। मंदिर के जीर्णोद्धार का कार्य प्रगति पर है और जल्द ही यह अपने भव्य रूप के साथ नगर की शोभा तथा पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा।

Play
Shadow
Slider
PlayPause
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *