Tuesday, November 29, 2022
No menu items!
Homeअन्यचर्चित खबरमाले नेता हत्या कांड- पुलिस छावनी में तब्दील रहा किरकिरी बाजार

माले नेता हत्या कांड- पुलिस छावनी में तब्दील रहा किरकिरी बाजार

Male leader murder-काम करने निकले माले नेता का तीन दिन बाद खेत से मिला शव

तीन लोगों पर घर से बुलाकर ले जाने के बाद हत्या करने का आरोप

पत्नी बोली: काम करने की बात कह बुलाकर ले गये थे दो लोग

शाम को खोजने गयी थी डांट कर भगाया, शुक्रवार सुबह मिला शव

खबरे आपकी आरा। अजीमाबाद के चिल्हर गांव निवासी माले नेता नेमोलाल मांझी को काम के बहाने बुला कर ले जाने के बाद हत्या की गयी है। इसे लेकर माले नेता की पत्नी विलायती देवी द्वारा थाने में दिये गये आवेदन में यह आरोप लगाया गया है। कहा गया है कि 25 अगस्त की सुबह गांव के ही सुरेंद्र सिंह और गौतम सिंह उसके घर पहुंचे और पति को काम करने के लिये ले गये थे। देर शाम तक जब उसके पति घर नहीं लौटे, तो वह जानकारी लेने सुरेंद्र सिंह के घर गयी। तब सुरेंद्र सिंह द्वारा कहा गया कि नेमोलाल घर चला गया है। तुम घर जाओ, वह पहुंच जायेगा। पढ़ें- तयशुदा शादी जब लेनदेन में लटका – पुलिस थाने में अरेंज मैरिज बना प्रेम विवाह

इस दौरान मौजूद बड़गांव निवासी रिंकू सिंह द्वारा डांट कर उसे भगा दिया गया। लेकिन उस दिन के बाद से उसका पति घर नहीं लौट सका। उसे लेकर काफी खोजबीन की गयी। लेकिन कहीं पता नहीं चला। इस बीच शुक्रवार की सुबह खेत में शव मिलने की सूचना मिली। हत्या की सूचना पर इंस्पेक्टर नागेश्वर यादव और थाना प्रभारी चिल्हर गांव पहुंचे और छानबीन की। दोनों अफसर घटना स्थल का भी मुआयना किया। वहां से हएक आधार कार्ड की छाया प्रति बरामद की गई। साथ ही घटना स्थल से कुछ दूरी से मृतक के हाथ के अंगूठे का नाखून सहित चमड़ा पाया गया। उस आधार पर पुलिस जांच कर रही है। माना जा रहा है कि पुलिस को कुछ क्लू भी मिले हैं। इधर, शव की हालत पोस्टमार्टम के लिये पटना भेज दिया गया। 

Male leader murder – धान की सोहनी करने गये मजदूरों ने खेत में देखा शव

आरा। शुक्रवार की सुबह गांव के ही कुछ मजदूर धान की सोहनी करने खेत की ओर गये थे। इसी दौरान खेत में माले नेता का शव दिखा। शव को देख मजदूर ठिठक गये और उनके होश उड़ गये। उसके बाद यह बात जंगल में आग की तरह पूरे गांव में फैल गयी। देखते ही देखते ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठी हो गई। सूचना मिलने पर परिजन पहुंचे और शव कि पहचान की। वहीं शव की हालत देख ग्रामीण और माले कार्यकर्ता आक्रोशित हो उठे और किरकिरी में स्टेट हाइवे को जाम कर दिया। 

थानाध्यक्ष के खिलाफ लोगों में दिखा जबरदस्त गुस्सा

Male leader murder-आरा। माले नेता की हत्या के बाद सड़क पर उतरे ग्रामीणों और कार्यकर्ताओं में थानाध्यक्ष के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा था।  लोग थानाध्यक्ष अंशु कुमारी पर सूचना देने के बावजूद प्राथमिकी और कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगा रहे थे। इससे नाराज लोग थानेदार को बर्खास्त करने की मांग भी कर रहे थे। अगिआंव के विधायक मनोज मंजिल भी थानेदार के रवैये से नाराज दिखे। लोगों का कहना था कि गुरुवार को ही थानेदार को घटना सूचना दी गयी थी। उसके बावजूद पुलिस द्वारा खोजबीन की गयी। शाम में भी प्राथमिकी दर्ज करने को लेकर आवेदन दिया जा रहा था, लेकिन केस नहीं किया गया। लोगों का कहना था कि अगर पुलिस द्वारा समय पर कार्रवाई की गयी होती, तो शायद नेमोलाल की जान बच गयी होती। हालांकि थाना प्रभारी का कहना है मृतक की पत्नी ओर कुछ ग्रामीणों द्वारा शिकायत की गयी थी। उस आधार पर गांव में जाकर खोजबीन की गयी थी। कहा कि परिजनों द्वारा प्राथमिकी के लिए किसी भी प्रकार का आवेदन नहीं दिया गया था। 

हत्या के खिलाफ नौ घंटे तक जाम रहा नासरीगंज-सकड्डी स्टेट हाईवे 

Male leader murder-आरा। माले नेता की हत्या की खबर मिलते ही लोग आक्रोशित हो उठे। माले के नेतृत्व में लोग सुबह करीब सात बजे ही शव के साथ रोड पर उतर गये। किरकिरी के पास लोग बीच सड़क पर बैठ जाम कर दिया। जाम कर रहे माले कार्यकर्ता हत्यारों को अविलंब गिरफ्तार करने, स्पीडी ट्रायल चलाकर सजा दिलाने, स्थानीय थानाध्यक्ष को बर्खास्त करने और मृत माले नेता के आश्रितों को मुआवजा देने की मांग कर रहे थे। वहीं हत्या और जाम की सूचना पर थाना प्रभारी अंशु कुमारी पूरे दलबल के साथ मौके पर पहुंच गयी।  लोगों को समझाने का प्रयास भी किया। लेकिन लोग बात सुनने को तैयार नहीं थे। तब अगिआंव इस्पेक्टर नागेश्वर यादव, बीडीओ सुनील सिंह, और सीओ चंद्रशेखर पहुंचे। लेकिन लोग हत्यारों की गिरफ्तारी, मुआवजा, नौकरी और एसपी को बुलाने की  मांग पर अड़ गये। पढ़ें- राखी के दिन नाग-नागिन लेकर बहन के घर पहुंचा था भाई, नागिन ने डसा

मूसलाधार बारिश के बीच भी लोग रोड पर डटे रहे। बाद एसडीपीओ अशोक कुमार आजाद पहुंचे। उन्होंने विधायक सहित अन्य लोगों से बात की। तत्काल आरोपितों की गिरफ्तारी व मुआवजा देने का आश्वाशन दिया। मौके पर बीडीओ द्वारा मुआवजे का चेक दिया गया। उसके बाद शाम करीब चार बजे मामला शांत हो सका। मौके पर विष्णु मोहन, दशई राम, सुनील पासवान, सहार प्रखंड सचिव उपेन्द्र राम,  पोसवा पंचायत मुखिया प्रतिनिधि जयकुमार यादव, बड़गांव मुखिया विनोद चौधरी, जितेंद्र यादव, शत्रुघ्न पासवान, भगीरथ राम,गोरख राम, नगेन्द्र साव,भूषण यादव, सुदय राम, गंगा राम, श्रीभगवान राम, रौशन कुशवाहा, रमेश यादव सहित दर्जनों नेता सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे। 

Male leader murder

हत्या राजनीतिक और पुलिस अपराधी गठजोड़ की देन: विधायक

Male leader murder-अगिआंव विधायक मनोज मंजिल ने माले नेता नेमूलाल की हत्या को राजनीतिक हत्या बताया है। उन्होंने कहा कि सामंती ताकतों व पुलिस की गठजोड़ के कारण माले नेता की हत्या की गयी है।  कहा कि इस क्षेत्र में पूर्व में भी माले नेताओं की हत्या कर दी गई है। लेकिन पुलिस द्वारा लीपापोती की काम की गई। विधायक ने कहा कि  नेमोलाल की अगुआई में कई आंदोलन हुये हैं। इससे घबरा कर उनकी हत्या की गयी है। इन हत्याओं से माले का आंदोलन दबने वाला नहीं है। 

पूरे दिन छावनी में तब्दील रहा किरकिरी बाजार

Male leader murder- शुक्रवार को अजीमाबाद थाने का किरकिरी बाजार पूरे दिन छावनी में तब्दील रहा। पहले थाना प्रभारी द्वारा शव उठा रोड जाम हटवाने की काफी कोशिश की गयी। लेकिन जब जाम कर रहे विधायक संघ अन्य लोग नहीं मानें तो अगिआंव इंस्पेक्टर सहित नारायणपुर थाना प्रभारी निकुंज भूषण सहित अन्य थानों की पुलिस पहुंच वार्ता करने की कोशिश की। वहीं एऐहतियात के तौर पर काफी संख्या में पुलिस बल को भी बुला लिया गया था।

पढ़ें- अस्पताल पहुंच सीएम नीतीश कुमार एवं तेजस्वी यादव ने पूर्व सांसद की बीमार पत्नी का जाना हाल

MD WASIM
MD WASIM
Journalist
- Advertisment -

Most Popular