Wednesday, May 18, 2022
No menu items!
Homeअन्यचर्चित खबरबालू माफियाओं ने बैंक कर्मी समेत दो की गोली मार की हत्या

बालू माफियाओं ने बैंक कर्मी समेत दो की गोली मार की हत्या

Kamaluchak sand ghat firing: अवैध बालू खनन का वर्चस्व को लेकर घटना को दिया अंजाम

पुलिस ने दोनो शवो का सदर अस्पताल में कराया पोस्टमार्टम

घटनास्थल पर पहुंच मामले की छानबीन में जुटी पुलिस

कोईलवर थाना क्षेत्र के कमालुचक बालू घाट पर शुक्रवार की शाम घटी घटना

खबरे आपकी बिहार आरा: भोजपुर जिले के कोईलवर थाना क्षेत्र के राजापुर दियारा स्थित कमालुचक बालू घाट पर एक बार फिर बालू माफियाओं की बंदूकें गरजी है। जहां बालू माफियाओं द्वारा अवैध बालू खनन एवं वर्चस्व को लेकर बैंक कर्मी समेत दो लोगो की गोली मारकर हत्या कर दी। सरेशाम हुई इस घटना के बाद गांव एवं आसपास के इलाके में सनसनी फैल गई है। घटना की सूचना मिलते ही एएसपी सह सदर एसडीपीओ हिमांशु एवं कोइलवर थाना इंचार्ज दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और शवों को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम सदर अस्पताल में करवाया। इसके पश्चात पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी एवं मामले की छानबीन में जुट गई है।

जानकारी के अनुसार मृतकों में उत्तर प्रदेश के कमहरिया कला जिले के महाराजगंज थाना क्षेत्र के बेलभरिया गांव निवासी खेदु के 34 वर्षीय पुत्र दुर्गेश है। वह पेशे से क्लर्क था। वर्तमान में वह आरा के नवादा थाना क्षेत्र के जज कोठी स्थित मण्णापुरम बैंक में क्लर्क के रूप में कार्यरत था। जबकि दूसरा मृतक मूल रूप से पटना जिले के नौबतपुर थाना क्षेत्र के नौबतपुर निवासी जगपति नारायण शर्मा के 40 वर्षीय पुत्र संजीत कुमार है। वह वर्तमान में नवादा थाना क्षेत्र के रामनगर चंदवा हाउसिंग मोहल्ले में रहते थे। वह पेशे से मुंशी थे।

Kamaluchak sand ghat firing: पचास की संख्या में हथियारबंदों ने लोगों की भीड़ पर की ताबड़तोड़ फायरिंग

Kamaluchak sand ghat firing

इधर, मृतको के मित्र दीपक सिंह ने ‘खबरे आपकी’ को बताया कि उनके पार्टनर कामेश्वर राय का कोईलवर थाना क्षेत्र के राजापुर गांव दियारा स्थित कमालुचक बालू घाट का टेंडर हुआ था। उसी बालू घाट का शुभारंभ करने को लेकर सभी लोग कमालुचक बालू घाट पर पूजा करवा रहे थे, जहां करीब ढाई सौ की संख्या में लोग आए हुए थे। उसी समय दूसरे पक्ष के पचास की संख्या में हथियार बंद लोग वहां आ धमके और ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगे। फायरिंग होते ही लोगों के बीच भगदड़ मच गई। तभी भगदड़ में भागने के दौरान दोनों लोगों की गोली लग गई। जिससे दोनों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जिसके बाद अपनी जान बचाकर सभी लोग कोईलवर थाना पहुंचे और इसकी जानकारी कोईलवर थाना पुलिस को दी। जिसके बाद भारी संख्या में पुलिस बल घटनास्थल पर पहुंची और शवो को पोस्टमार्टम के लिए आरा सदर अस्पताल ले आई।

मृतकों के मित्र दीपक सिंह ने वर्चस्व कायम रखने एवं अवैध बालू खनन को लेकर सत्येंद्र पांडेय नामक व्यक्ति एवं उसके अन्य साथियों पर गोली मारकर हत्या करने एवं कई राउंड फायरिंग करने का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस अपने स्तर से मामले की छानबीन कर रही है। बताया जाता है कि तक संजीत कुमार के परिवार में मां उषा देवी, पत्नी श्वेता देवी, एक दिव्यांग पुत्री सृष्टि कुमारी एवं एक पुत्र शौर्य प्रकाश है। घटना के बाद मृतकों के घर में कोहराम मच गया है। इस घटना के बाद मृतकों के परिवार का रो-रोकर बुरा हाल था।

- Advertisment -

Most Popular