Thursday, February 22, 2024
No menu items!
HomeNewsCrimeनाबालिग यौन उत्‍पीड़न कांड में फरार संदेश के पूर्व राजद विधायक का...

नाबालिग यौन उत्‍पीड़न कांड में फरार संदेश के पूर्व राजद विधायक का सरेंडर

नाबालिग यौन उत्‍पीड़न कांड में फरार संदेश के पूर्व राजद विधायक का सरेंडर

तीन साल से फरार पूर्व विधायक अरुण यादव ने शनिवार को आरा के पाक्सो कोर्ट में किया समर्पण
कोर्ट के आदेश पर चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गये पूर्व विधायक
अब 29 जुलाई को मामले में होगी सुनवाई, शुरू होगा केस का ट्रायल
आरा। बिहार के बहुचर्चित नाबालिग यौन उत्‍पीड़न कांड में फरार संदेश विधानसभा के पूर्व राजद विधायक अरुण यादव ने सरेंडर कर दिया। पिछले तीन साल से ही फरार चल रहे पूर्व विधायक ने शनिवार को आरा के पाक्सो के विशेष कोर्ट सह एडीजे षष्ठम अरविंद कुमार सिंह के न्यायालय में समर्पण कर दिया। उसके बाद कोर्ट के आदेश पर पूर्व विधायक को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस मामले में चार आरोपित पहले ही बरी हो चुके हैं। सिर्फ पूर्व विधायक अरुण यादव ही फरार चले थे। पाक्सो कोर्ट की स्पेशल पीपी सरोज कुमारी ने की ओर से जानकारी दी गयी। उन्होंने बताया कि अब इस मामले में 29 जुलाई को सुनवाई होगी। उसके बाद केस में आगे की कार्यवाही शुरू होगी। इधर, पूर्व विधायक के सरेंडर करने की सूचना मिलते ही कोर्ट के पास राजद समर्थकों की भीड़ उमड़ पड़ी। बता दें कि 18 जुलाई 2019 को आरा की एक किशोरी से पटना में देह व्‍यापार का धंधा कराने का मामला सामने आया था। किशोरी के देह व्यापार कराने वाले गिरोह के चंगुल से भाग कर आरा आने के बाद उसके भाई द्वारा नगर थाने में रेप और पाक्सो एक्ट के तहत एक प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी। उसमें अनिता देवी और संजीत कुमार उर्फ छोटू को आरोपित किया गया था। पीड़‍िता की ओर से कोर्ट में दर्ज 164 के पहले बयान में मनरेगा के इंजीनियर अमरेश कुमार और संजय कुमार उर्फ जीजा को आरोपित किया था। जबकि दूसरे बयान में राजद के पूर्व विधायक अरुण यादव आरोपित किए गए थे। उस मामले में चार आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। जबकि पूर्व विधायक फरार चल रहे थे। इस मामले में उनके खिलाफ कुर्की और संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई भी की गयी थी। हालांकि बाद में गवाहों के मुकरने और साक्ष्‍य के अभाव में कोर्ट द्वारा अनिता देवी, संजीत कुमार, अमरेश कुमार और संजय कुमार को बरी कर दिया गया था।

MD WASIM
MD WASIM
Journalist
- Advertisment -

Most Popular