Monday, March 8, 2021
No menu items!
Home News हड़ताली आंगनबाड़ी सेविकाओं व सहायिकाओं ने किया प्रदर्शन

हड़ताली आंगनबाड़ी सेविकाओं व सहायिकाओं ने किया प्रदर्शन

बिहिया बाल विकास परियोजना कार्यालय Bihiya Anganwadi के समझ सरकार के विरोध में जमकर लगे नारे

बिहार:भोजपुर जिले के बिहिया स्थित बाल विकास परियोजना कार्यालय के समक्ष (Bihiya Anganwadi) आंगनबाड़ी सेविकाओ व सहायिकओ ने बिहार राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी यूनियन के बैनर तले किया रोषपूर्ण प्रदर्शन किया। साथ ही उन्होंने जमकर सरकार के विरोध में नारे लगाए।

आंगनबाड़ी कर्मियों के प्रति सरकार संवेदनशील नही-नमिता सिंह

उन्होंने एक स्वर से कहा की वर्तमान सरकार केंद्र हो अथवा राज्य की हमारी संस्था के प्रति असंवेदनशील है। जहां सरकार महिला कल्याण व सशक्तिकरण की बहुत दावे करती है। वही इस नारी प्रधान संस्था में हमलोगो के लिए ना सरकार के पास कोई संवेदना है न कोई प्रोग्राम है। जबकी हमलोग समाज के निचले पायदान पर गुजर बसर करने वाले गरीब लाचार महिला हो या पुरुष सबके कल्याण का काम करते है।

शाहपुर आलू व्यवसायी पिंकू गुप्ता के छोटे भाई भरत कुमार गुप्ता को उसके ममेरे भाई ने ही मारी थी गोली

आरा के काजी टोला गोली से जख्मी किराना दुकानदार का इलाज चिकित्सक डॉ. विकास सिंह ने किया

कुपोषण मिटाने से लेकर टीकाकरण ,पोषक सप्ताह के अलावे बहुत से कार्य का बोझ हमलोगो के ऊपर डाल दिया जाता है। बदले में एक न्यूनत मजदूरी जो सरकार के द्वारा निर्धारित किया गया है, वो भी हमे नही मिलता है। तीस पैंतीस साल कार्य करने के बाद सेवानिवृत्त होने पर एक रुपया भी नही दिया जाता है। जिसका उदाहण बिहार में ही लाखो आंगनवाड़ी सेविका-सहायिका जो सेवानिवृत्त हो चुकी है। आज भुखमरी के शिकार है।

यह सरकार द्वारा हिटलर साही का सबसे बड़े उदाहण है। हम सरकार से मांग करते है की हमे भी नियमित सरकारी कर्मचारी का दर्जा दिया जाय। नियमित वेतनमान सेवानिवृत होने पर एक उचित राशी का भी प्रबंध किया जाय। ताकि हम सभी एक सम्मानजनक जिंदगी जी सके।अगर राज्य सरकार हमारी उपरोक्त मांगो पर गम्भीरता से विचार नही करती है तो हमारा (Bihiya Anganwadi) हड़ताल अनिश्चित काल के लिए जारी रहेगा। बिहार राज्य आंगनवाड़ी बिहिया बेस के नेता नमिता सिंह ने कही।

प्रदर्शन के दौरान (Bihiya Anganwadi) फूलकुमारी देवी, कौशल्या देवी, सावित्री कुमारी, पुष्पा कुमारी, पिंकी देवी, नीलू कुमारी, आशा देवी, सावित्री कुमारी, सरस्वती देवी, प्रमिला देवी, मंजू देवी, धर्मशीला कुमारी, सुशीला देवी, ममता देवी, राजवंशी देवी सहित सैकड़ों आंगनवाड़ी सेविका सहायिका उपस्तिथ थी।

Facebook – दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल की पिटाई

नशा मुक्त भारत अभियान के पहले चरण में ‘कोटपा-2003’ के धाराओं के उल्लंघन करने वालोंं पर होगी सख्त कार्रवाई

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular