Thursday, June 20, 2024
No menu items!
HomeNewsउदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हुआ चार दिवसीय छठ...

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हुआ चार दिवसीय छठ महापर्व

Chhath festival-बुधवार की शाम अस्ताचलगामी सूर्य को व्रतियो ने दिया था अर्घ्य

नदी, तालाब एवं पोखर पर उमड़ी रही व्रतियों की भीड़

Election Commission of India
Election Commission of India

घर की छतों पर भी लोगों ने डूबते एवं उगते सूरज को दिया अर्ध्य

छठी मैया के भक्ति गीतों पर झूमते रहे श्रोता

Ara Crime - CCTV of Firing -  आरा में फायरिंग का सीसीटीवी वीडियो
Ara Crime - CCTV of Firing - आरा में फायरिंग का सीसीटीवी वीडियो

खबरे आपकी आरा। शहर सहित भोजपुर पूरे जिले के विभिन्न प्रखंडों में गुरुवार को भगवान भास्कर का चार दिवसीय छठ महापर्व उदीयमान सूर्य को अर्ध्य देने के साथ ही श्रद्धा एवं शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। छठ को लेकर व्रतधारियों ने गुरुवार की सुबह नदी, तालाब, नहर, कुआं तथा पोखर के पास उदीयमान सूर्य को अर्ध्य देकर पूजा-अर्चना की। इसके अलावे कई लोगों ने घर की छतों पर ही उगते सूरज को अर्घ्य दिया। इस दौरान छठ व्रतियों ने मानव तथा विश्व कल्याण तथा वैश्विक महामारी कोरोना से मुक्ति कामना की। इसके पूर्व बुधवार को छठ व्रतियों ने अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को अर्घ्य अर्पित किया।

सात समुंदर पार ब्रिटेन के लंदन में छठ पर्व-प्रियंका ने की सूर्य की उपासना

Chhath festival-चौकस दिखा पुलिस-प्रशासन

पर्व को लेकर पुलिस-प्रशासन चौकस दिखा जगह-जगह दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई थी। नगर थाना इंचार्ज शंभू कुमार भगत, नवादा थाना इंचार्ज अविनाश कुमार इलाके में गश्त लगाते रहें। इसके अलावे क्रास मोबाइल के जवान और चीता मोबाइल भी गश्त करती दिखी।

पर्व को लेकर मंदिरों एवं घाटों पर की गई थी आकर्षक सजावट

लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी रंगोली

छठ महापर्व को लेकर शहर के विभिन्न घाटों, मंदिरों एवं सड़कों को दुल्हन की तरह सजाया गया था। शहर के गांगी नदी, कलक्ट्री घाट, चंदवा सूर्य मंदिर, छठिया पोखर, सूर्यपूरी, अहिरपुरवा, बरहबतरा, मझौंवा समेत तमाम सूर्य मंदिरों को छोटे-छोटे रंगीन बल्बों एवं फूलों से आकर्षक ढंग से सजाया गया था। छठ घाट की ओर जाने वाले मार्ग पर पूजा कमेटियो, स्वयं सेवकों एवं मोहल्ले वासियों ने मिलजुल कर रंगोली के माध्यम से अपनी कलाकारी का प्रदर्शन किया था। जो लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बना हुआ था। इसके अलावे प्रत्येक गली-मोहल्ले में छोटे-छोटे रंगीन बल्बों एवं दूधिया रोशनी से आकर्षक सजावट की गई थी।

पढ़े: लोक आस्था का महापर्व छठ की विशेषता: देव भाव के आगे मिट जाता है आपसी भेदभाव

- Advertisment -
khabre
khabre

Most Popular