Monday, April 12, 2021
No menu items!
Home News दीपू हत्याकांड : जेल में बंद कुख्यात रंजीत चौधरी और भतीजे प्रकाश...

दीपू हत्याकांड : जेल में बंद कुख्यात रंजीत चौधरी और भतीजे प्रकाश सहित छह पर प्राथमिकी

Deepu murder case – मृत दीपू चौधरी के पिता के बयान पर नवादा थाने में दर्ज करायी गयी प्राथमिकी

कुख्यात सीरियल किलर के रूप में चर्चित पवन चौधरी भी आरोपित

आरोपितों की धरपकड़ में जुटी पुलिस, हर ठिकानों पर चल रही छापेमारी

खबरे आपकी बिहार/आरा शहर के पकड़ी सर्किट हाउस रोड में कुख्यात बूटन चौधरी के भतीजे दीपू चौधरी की हत्या Deepu murder case में प्राथमिकी दर्ज करा दी गयी है। दीपू के पिता उपेंद्र चौधरी के बयान पर छह लोगों के खिलाफ केस किया गया है। इसमें जेल में बंद कुख्यात रंजीत चौधरी, उसके भतीजे प्रकाश चौधरी, मोहन चौधरी, सीरियल किलर के रूप में चर्चित पवन चौधरी, हरेकृष्ण चौधरी और हरेराम चौधरी आरोपित किये गये हैं। सभी उदवंतनगर थाना क्षेत्र के बेलाउर गांव के रहने वाले हैं। इधर, प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस आरोपितों की धरपकड़ में जुटी है। इसके लिये उनके हर ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। हालांकि 24 घंटे से अधिक समय के बाद भी इस मामले में पुलिस के हाथ खाली हैं। प्राथमिकी में कहा गया है कि उपेंद्र चौधरी छोटे बेटे दीपू चौधरी के अलावे गांव के ही सुमित चौधरी और अजय चौधरी उर्फ गुड्‌डू के साथ बुधवार को अपने छोटे भाई बूटन चौधरी से मिलने कोर्ट गये थे। दोपहर करीब डेढ़ बजे चारों बाइक से लौट रहे थे। इस बीच पकड़ी चौक पर पवन चौधरी, प्रकाश चौधरी, मोहन चौधरी, हरेकृष्ण और हरेराम चौधरी ने हमला कर दिया। इस दौरान सभी द्वारा फायरिंग की जाने लगी। इसमें दीपू चौधरी और अजय चौधरी को गोली लग गयी। इलाज के लिये पटना ले जाने के दौरान दीपू की मौत हो गयी। 

जेल में रची गयी हत्या की साजिश, रंजीत चौधरी पर षड़यंत्र का आरोप

Deepu murder case बेलाउर निवासी दीपू चौधरी की हत्या की साजिश जेल में रची गयी थी। रंजीत चौधरी द्वारा षड़यंत्र किया गया था। दीपू के पिता उपेंद्र चौधरी द्वारा दर्ज प्राथमिकी में यह आरोप लगाया गया है। बूटन चौधरी के भाई उपेंद्र चौधरी की मानें तो कुख्यात रंजीत के इशारे पर प्रकाश और पवन सहित ने अपने शागिर्दों के साथ घटना को अंजाम दिया है। बताया जा रहा है कि रंजीत चौधरी पर पहले भी जेल में रहने के बाद भी आपराधिक गतिविधियों में शामिल रहने के आरोप लगते रहे हैं। कहा जाता है कि रंजीत चौधरी के इशारे पर ही उसके गूर्गे रंगदारी और हत्या की घटनाओं को अंजाम देते हैं। इधर, दीपू हत्याकांड में नाम आने के बाद पुलिस रंजीत चौधरी पर शिकंजा कसने और पूछताछ की तैयारी में जुट गयी है।

पढ़े :- बूटन के भतीजे को मारी गयी पांच गोलियां

प्रकाश, पवन और हरेकृष्ण ने बारी-बारी से दीपू को मारी गोली

Deepu murder case बुधवार को शहर के पकड़ी में गैंगवार, प्रतिशोध और बदले की कार्रवाई का वीभत्स रूप दिखा। जहां गोली लगने के बाद नाली में गिरे दीपू चौधरी पर भी ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई जाती रही। प्रकाश, पवन और हरेकृष्ण चौधरी द्वारा उसे बारी-बारी से गोली मारी गयी। दीपू के पिता द्वारा दर्ज प्राथमिकी में इस बात का जिक्र किया गया है। कहा गया है कि कोर्ट से लौटते समय पकड़ी चौक पर दीपू चौधरी और अजय चौधरी पर हमला कर दिया गया। अचानक गोली चलते देख दीपू चौधरी सर्किट हाउस रोड जबकि अजय उर्फ गुड्‌डू  पकड़ी गांव की ओर भागने लगे। इस पर आरोपितों द्वारा पीछा किया जाने लगा। इस क्रम में पहले प्रकाश चौधरी ने दीपू को गोली मारी। इससे दीपू चौधरी गिर पड़ा। उसके बाद पवन चौधरी और हरेकृष्ण चौधरी द्वारा उसके सिर में गोली मार दी गयी। हरेराम चौधरी द्वारा भाग रहे अजय चौधरी उर्फ गुड्‌डू को गोली मार दी गयी। इससे उसे हाथ में गोली लग गयी। 

पढ़े :- बूटन व रंजीत की रंजिश में गिर चुकी हैं दर्जन भर लाशें

दीपू चौधरी के पिता समेत दो ने भाग कर बचायी जान

आरा पकड़ी चौक के पास बुधवार की दोपहर रंजीत चौधरी के गिरोह द्वारा दीपू चौधरी और उसके पिता सहित अन्य को भी टारगेट किया गया था। लेकिन दीपू के पिता सहित दो लोगों ने किसी तरह भाग कर अपनी जान बचायी। इस दौरान गिरने से सुमित चौधरी के पैर में चोट भी आयी है। प्राथमिकी में उपेंद्र चौधरी ने कहा है कि बेटे दीपू के साथ वह भी अजय और सुमित के साथ थे। पकड़ी चौक पर हमले के दौरान सभी भागने लगे। इस क्रम में प्रकाश के भाई मोहन चौधरी की नजर सुमित और उन पर पड़ी। तब वह दोनों को खदेड़कर गोली चलाने लगा। लेकिन दोनों ने भाग अपनी जान बचायी। 

Deepu murder case-criminal
फोटो-दीपू चौधरी की हत्या के बाद पुनः उसी दिशा में बाइक लेकर भागते दोनों अपराधी

दोनो हाथ में पिस्टल लहराते उसी दिशा में भागे पवन व प्रकाश

Deepu murder case आरा शहर में बुधवार को दिनदहाडे़ गोलीबारी और हत्या करने के बाद पवन चौधरी और प्रकाश चौधरी सर्किट हाउस होते ही भाग निकले। पवन चौधरी बाइक चला रहा था, जबकि प्रकाश चौधरी पीछे बैठा था। प्रकाश चौधरी के दोनों हाथ में पिस्टल था। सीसीटीवी फुटेज से यह बात सामने आयी है। सीसीटीवी फुटेज में दो अपराधियों द्वारा दीपू को खदेड़ते और गोली मारते भी देखा जा रहा है। कहा जा रहा है कि उसमें एक पवन और दूसरा प्रकाश चौधरी है। हत्या के बाद दोनों को बाइक से भागते भी देखा जा रहा है। उसमें बाइक पर पीछे बैठे अपराधी के दोनों हाथ में पिस्टल और पीठ पर बैग दिख रहा है। उसे दोनों हाथ उपर कर पिस्टल लहराते और जश्न मनाते जाते देखा जा रहा है।  

सीरियल किलर के नाम से चर्चित है पवन चौधरी, दर्ज हैं दो दर्जन अपराधिक मामले

Deepu murder case दीपू चौधरी हत्याकांड में नामजद आरोपित पवन चौधरी सीरियल किलर के नाम से चर्चित है। वह मूल रूप से उदवंतनगर थाना के बेलाउर गांव का निवासी है। उस पर हत्या और रंगदारी के कई मामले दर्ज हैं। भोजपुर के नवादा, उदवंतनगर और चांदी थाना के अलावे उस पर पटना के थानों भी केस दर्ज हैं। वह जेल में बंद कुख्यात रंजीत चौधरी गैंग का शूटर बताया जाता है। दो वर्ष पूर्व पवन ने शहर के कई कोचिंग संचालकों से रंगदारी मांग कर पुलिस को खुली चुनौती दी थी। बताया जाता है कि पवन चौधरी पर भोजपुर जिला समेत कई राज्यों में लगभग दो दर्जन अपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। इनमें हत्या, रंगदारी, लूट, डकैती जैसे कई संगीन मामले हैं। उसे 16 अप्रैल 2019 को गिरफ्तार किया गया था। 

Deepu murder case-criminal-shot
किलर

दो साल पहले मोतिहारी में पकड़ा गया था प्रकाश चौधरी

कुख्यात प्रकाश चौधरी को 22 मई 2019 को मोतिहारी से गिरफ्तार किया गया था। तब उसके साथ नीरज उर्फ नेपाली भी पकड़ा गया था।.दोनों को मोतिहारी शहर के छतौनी बस स्टैंड स्थित एक होटल से गिरफ्तार किया गया था। पटना एसटीएफ व भोजपुर जिला पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में यह बड़ी सफलता मिली थी। प्रकाश चौधरी के आपराधिक इतिहास को देखते हुए राज्य सरकार ने 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। दोनों अपराधियों पर आरा के नवादा , चांदी, उदवंतनगर, संदेश के अलावा पटना जिले के बिहटा व दानापुर में कई केस दर्ज हैं। भोजपुर के पीरो थाना क्षेत्र के जैसीडीह गांव के समीप आठ जून 2018 को पैक्स अध्यक्ष नागेश पांडेय उर्फ छोटुन पांडेय को गोलियों से छलनी करने के मामले में भी कुख्यात का नाम आया था।  

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular