Wednesday, February 24, 2021
No menu items!
Home News Crime घर में घुस कर नाबालिक से गैंग रेप, माता-पिता सहित किशोरी को...

घर में घुस कर नाबालिक से गैंग रेप, माता-पिता सहित किशोरी को बनाया बंधक

Gang raping : आरोपितों पर पैसे देकर मुंह बंद रखने का दबाव देने की बात कह रहा पीड़ित परिवार 

खबरे आपकी Gang raping आरा: भोजपुर में घर में घुस कर एक नाबालिक से गैंग रेप किये जाने की घटना सामने आयी है। किशोरी और उसके माता-पिता को बंधक बनाये जाने और मारपीट किये जाने की बात भी कही जा रही है। वहीं पैसे के बल पर मुंह बंद रखने का दबाव दिये जाने का भी आरोप लगाया गया है।

एसपी को आवेदन दे किशोरी ने की कार्रवाई व आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग 

किशोरी द्वारा सोमवार को एसपी को आवेदन देकर इसकी शिकायत दर्ज करायी है। घटना चौरी थाना क्षेत्र के एक गांव की 18 जनवरी की है। उसी गांव के चार लड़कों पर घटना को  अंजाम देने का आरोप लगा है। वहीं स्थानीय पुलिस पर केस नहीं करने का भी आरोप है।

चौरी थाना क्षेत्र के एक गांव की 18 जनवरी की रात की घटना

गांव के ही चार लड़कों पर रेप करने और बंधक बनाये जाने का लगा आरोप

एसपी को दिये गये आवेदन में कहा गया है कि 18 जनवरी को किशोरी के माता-पिता अपने रिश्तेदार के घर गये थे। किशोरी अपनी छोटी बहन के साथ अकेली थी। रात करीब नौ बजे गांव के ही चार लड़के उसके घर में घुस गये। उसके बाद चारों ने बारी-बारी से उसके साथ गलत काम किया।

Black marketing : डिलर व ऑटो चालक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

सूचना देने पर अगले दिन उसके माता व पिता घर आये। लेकिन इस बीच आरोपितों द्वारा उसे और उसके माता-पिता को अपने घर में बंधक बना लिया गया। इस दौरान पैसे देकर मुंह बंद रहने की हिदायत भी दी गयी। 24 जनवरी को उन सभी को छोड़ा गया। उसके बाद किशोरी पिता के साथ थाने पहुंची। लेकिन थाना के अफसरों द्वारा केस करने से मना कर दिया गया।

हालांकि स्थानीय पुलिस द्वारा इससे साफ इनकार किया गया है। स्थानीय थाने के अफसरों का कहना है कि इस तरह की शिकायत लेकर कोई थाने नहीं पहुंचा है। इस तरह की घटना की किसी द्वारा थाने में आवेदन भी नहीं दिया गया है। पीड़ित परिवार द्वारा केस नहीं किये जाने का गलत इलजाम लगाया जा रहा है। आवेदन मिलने पर जांच कर कर्रवाई की जायेगी। 

स्थानीय स्तर पर पंचायती कर मामले को दबाने का किया गया था प्रयास

Gang raping आरा : नाबालिग से रेप की घटना सामने आने के बाद स्थानीय स्तर पर पंचायती कर मामले को दबाने का प्रयास किया गया था। पंचायती के दौरान किशोरी के परिजन को आरोपितों द्वारा 3 लाख 72 हजार रुपये देने की बात तय हुई थी। इसे लेकर सादे कागज पर एक पंचनामा भी तैयार किया गया था।

उसमें आरोपित द्वारा अपनी गलती स्वीकार करने की बात लिखी गयी है। साथ ही तीन लाख 72 हजार रुपये देने को कहा गया था। 25 जनवरी की शाम तक पैसे देने का समय निर्धारित किया गया था। पंचनामे के अनुसार पैसे नहीं देने पर कार्रवाई करने को मजबूर होने की बात भी लिखी गयी थी। 23 जनवरी की डेट में तैयार पंचनामे पर आठ लोगों के हस्ताक्षर भी हैं।

हथियार एवं कारतूस के साथ कुख्यात दीपक पांडेय गिरोह का एक सदस्य गिरफ्तार

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular