Saturday, March 6, 2021
No menu items!
Home News सरकार के गलत नीतियों के विरोध में डाक-कर्मचारी संघ ने दिया एक...

सरकार के गलत नीतियों के विरोध में डाक-कर्मचारी संघ ने दिया एक दिवसीय धरना

Postal workers – डाक विभाग में अनुकंपा नियुक्ति में 5% की सीमा को तत्काल हटाने की पुरजोर मांग

Postal workers आरा। सरकार की सरकारी कर्मचारियों के प्रति गलत नीतियों के विरोध में प्रधान डाकघर आरा के प्रांगण में अखिल भारतीय डाक- कर्मचारी संघ ग्रुप-सी प्रमंडल, आरा द्वारा प्रभात कुमार सिंह मंडलीय सहायक सचिव के नेतृत्व में एक दिवसीय हड़ताल एवं धरना प्रदर्शन किया गया। उक्त एक दिवसीय सांकेतिक हड़ताल में प्रधान डाकघर आरा, प्रमंडलीय कार्यालय, आरा एवं साथ ही साथ भोजपुर एवं बक्सर जिले के सभी डाकघरों के कर्मचारियों ने पूरे जोश एवं ऊर्जा के साथ अपने-अपने डाकघरों में तालाबंदी कर हड़ताल के समर्थन में धरना एवं प्रदर्शन किए।

प्रधान डाकघर आरा के प्रांगण में अखिल भारतीय डाक-कर्मचारी संघ ग्रुप-सी प्रमंडल द्वारा दिया गया धरना

उक्त Postal workers सांकेतिक हड़ताल को संबोधित करते हुए मनोरंजन कुमार सिंह ने कहा कि सरकार ने 1 जनवरी 2004 के बाद नियुक्त हुए सरकारी कर्मचारियों के लिए जो न्यू पेंशन स्कीम (NPS) लागू किया है। वह सरकारी कर्मचारियों के हित में नहीं है, अतः न्यू पेंशन स्कीम (NPS) को हटाकर सरकार को पुनः सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन स्कीम (OPS) बहाल करना चाहिए। कहा कि वर्तमान में जो कर्मचारी पुरानी पेंशन नीति के तहत आते हैं, उनका रिटायरमेंट के पश्चात अंतिम वेतन भुगतान का 50% पेंशन के रूप में मिलता है, जबकि न्यू पेंशन स्कीम के कर्मचारियों को ऐसी कोई निश्चित राशि मिलने की संभावना नहीं है। उनके द्वारा डाक विभाग में अनुकंपा नियुक्ति में 5% की सीमा को तत्काल हटाने की पुरजोर मांग सरकार से की गई।

Postal workers एक दिवसीय हड़ताल की मुख्य मांगे न्यू पेंशन स्कीम (NPS) हटाकर ओल्ड पेंशन स्कीम (OPS) लागू करने, अंतिम वेतन भुगतान का 50% पेंशन के रूप में निश्चित देना, सरकारी कर्मचारियों के फ्रिज किए गए DA का एरियर सहित भुगतान सुनिश्चित कराना, डाक विभाग में अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति में 5% की सीमा को तत्काल समाप्त करना, कोविड-19 के दौरान कार्यालय में अनुपस्थित रहे सरकारी कर्मचारियों के लिए विशेष आकस्मिक अवकाश स्वीकृत करना, कोविड-19 के कारण मृत कर्मचारियों के परिवार को 10 लाख क्षतिपूर्ति के रूप में देने, ग्रामीण डाक सेवक को सरकारी दर्जा प्रदान करना एवं उन्हें नियमित करने, MACP के लिए very good Bench Mark को तत्काल हटाने, सरकारी कर्मचारियों के लिए 5 साल पर वेतन पुनरीक्षण 01 जनवरी 2021 से लागू करने, सभी सरकारी सेवाओं में नए पद (Post) सृजन पर लगी रोक को तत्काल हटाना ताकि बेरोजगार नवयुवकों को रोजगार मिल सके, निजीकरण एवं Carporisation पर रोक लगाना, सरकारी कर्मचारियों को उनके सेवाकाल में कुल 5 प्रोन्नति प्रदान करना है।

एक दिवसीय हड़ताल एवं धरना प्रदर्शन में श्री नरेंद्र कुमार पांडेय, प्रमोद कुमार सिन्हा, कृष्ण बल्लभ पांडेय, मनोरंजन कुमार सिंह, त्रिलोकी नाथ चौबे, संतोष सहाय, अरुण कुमार मिश्रा, अजय कुमार सिंह, धर्मेंद्र, मनोज कुमार पासवान, आदित्य राज,अमित कुमार, टुनटुन सिंह, मोहम्मद मेराज, मुन्ना शंकर ओझा, मृत्युंजय कुमार, चंदन कुमार, अमित कुमार, राजीव, प्रकाश, सरोज कुमार, मुंजी पासवान इत्यादि कर्मचारियों ने भाग लिया।

Khabreapki.com देखें- खबरें आपकी – फेसबुक पेज – वीडियो न्यूज – अन्य खबरें

Komal Tola Narayanpur Bhojpur – पति ही निकला पत्नी का कातिल, विरोधी को फंसाने के लिये कर दी थी हत्या 

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular