Thursday, December 2, 2021
No menu items!
HomeNewsसाथी जवान के हमले में भोजपुर के राजमणि की मौत, घर में...

साथी जवान के हमले में भोजपुर के राजमणि की मौत, घर में कोहराम

Rajmani Yadav of Bhojpur-साथी जवान के हाथों मारा गया राजमणि बिहिया थाना के समरदह गांव का निवासी

खबरे आपकी आरा। छत्तीसगढ़ में रविवार की रात सीआरपीएफ कैंप में एक सनकी जवान द्वारा की गयी अंधाधूंध फायरिंग में भोजपुर जिले के राजमणि यादव की मौत हो गयी। वह मूल रूप से बिहिया थाना क्षेत्र के समरदह गांव निवासी स्व. रामजी सिंह का पुत्र थे। उनका परिवार कुछ वर्षो से जगदीशपुर थाना क्षेत्र के दुल्हीनगंज बाजार में रहता है। घटना सुकमा जिले के मराईगुडा थाना क्षेत्र में स्थित सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स की 50 बटालियन कैंप में हुई। सनकी जवान द्वारा की गयी ताबड़तोड़ फायरिंग में तीन अन्य जवानों की भी जान चली गयी है। जबकि तीन अन्य जवान घायल हैं।

Rajmani Yadav of Bhojpur-सुकमा के मराईगुडा थाना क्षेत्र स्थित सीआरपीएफ कैंप की रविवार रात की घटना

Rajmani Yadav of Bhojpur

मामूली विवाद में जवान ने एके-47 राइफल से अपने सात साथियों पर बरसायी गोलियां

इधर, सोमवार की सुबह घटना की सूचना मिलते ही जवान के घर में कोहराम मच गया। पूरे गांव में मातम पसर गया और शोक की लहर दौड़ गयी। सुबह होते ही जवान के घर लोगों की भीड़ जमा हो गयी। मिली जानकारी के मुताबिक रविवार की रात रितेश रंजन नामक जवान द्वारा अपने साथियों पर अपनी एके-47 राईफल से अंधाधूंध फायरिंग कर दी गयी। उसमें सात जवानों को गोली लग गयी। उसके बाद तत्काल सभी को अस्पताल ले जाया गया। जहां राजमणि यादव सहित चार जवानों को मृत घोषित कर दिया गया। इनमें तीन जवान बिहार के ही रहने वाले बताये जा रहे हैं। बताया जाता है कि जिस जवान ने गोलियां चलाई थी। वह रात में ड्यूटी पर तैनात था। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। वह भी बिहार का ही रहने वाला बताया जा रहा है। उससे पूछताछ की जा रही है। प्रारंभिक जानकारी में जवानों के बीच किसी विवाद में घटना को अंजाम देने की बात सामने आ रही है।

पढ़ें: सबको रूला कर चला गया भोजपुर का जाबांज बेटा 

नींद में सोई पत्नी को मिली मौत की खबर

सोमवार की अहले सुबह करीब तीन बजे मोबाइल की घंटी बजते ही जवान राजमणि यादव के घर में कोहराम मच गया। अचानक महिलाओं की चीत्कार से मोहल्ले के लोगों की नींद खुली, तो घटना की जानकारी मिली। उसके बाद भोजपुर के दुल्हिनगंज से समरदह और बक्सर जिले के मनिछपरा गांव तक शोक की लहर दौड़ गयी। छठ महापर्व की तैयारी के बीच सोमवार को पौ फटने से पहले मनहूस खबर मिलने से गांव का पूरा माहौल गमगीन हो उठा। लोग भागे-भागे जवान के घर पहुंचे और पूरी घटना की जानकारी लेने में जुट गये। बताया जा रहा है कि सोमवार की सुबह करीब तीन जवान राजमणि यादव की पत्नी रिंकी देवी के मोबाइल की घंटी बजी। कॉल रिसीव पर पति की मौत की सूचना मिली। गहरी नींद में रही रिंकी यह खबर सूनते ही चीख पड़ी। अचानक रोने की आवाज सुन कर अन्य लोगों नींद भी टूट गयी और घर में रोना-धोना मच गया। पत्नी, मां और बच्चों सहित परिवार के अन्य सदस्यों की चीत्कार से गांव और मोहल्ले का माहौल गमगीन हो उठा।

Rajmani Yadav of Bhojpur
Rajmani Yadav of Bhojpur

छुट्टी से पहले आ गयी मौत

आरा। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में तैनात सीआरपीएफ जवान राजमणि यादव 15 नवंबर को गांव दुल्हिनगंज आने वाला था। पत्नी और बच्चों सहित घरवाले उसकी राह देख रहे थे। लेकिन राजमणि के आने से पहले उसकी मौत का पैगाम घर तक आ गया। पौ फटने से पहले आया यह पैगाम राजमणि के घरवालों के लिए बम विस्फोट से कम नहीं रहा। देखते ही देखते घर में कोलाहल और हाहाकार मच गया। दोस्त विकास के अनुसार राजमणि दीपावली के मौके पर गांव आने वाला था। लेकिन किसी कारण से छुट्टी कैंसिल हो गयी। उसके बाद उसे 15 नवंबर को छुट्टी मिली। बताया जा रहा है कि रविवार को उनकी अपनी पत्नी से भी वीडियो कॉल से बातचीत हुई थी। तब उसने 15 को घर आने की बात कही थी।

मां के लिये बैग लाने की बात भी कही थी। वहीं काफी दिनों बाद उसके घर आने की खबर से पत्नी, मां और बच्चे खुश थे। लेकिन शायद भगवान को राजमणि के परिजनों की खुशी पसंद नहीं थी। गांव आने से एक सप्ताह पहले ही वह अपने ही साथी की गोलियों का शिकार हो गया। ग्रामीणों का कहना है कि शायद नीयती का खेल ही था कि राजमणि की छुट्टी कैंसिल हो गयी थी। अगर वह दीपावली पर गांव आ गया होता, तो शायद यह घटना नहीं हुई होती। इधर, सूचना मिलने पर शाहपुर विधायक राहुल तिवारी समरदह गांव पहुंचे परिजनों से मिले और श्रद्धांजलि दी। जगदीशपुर के पूर्व विधायक भाई दिनेश की ओर से भी जवान राजमणि यादव को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। दु:ख की इस घड़ी में भाई दिनेश ने उनके पूरे परिवार को इसे सहन शक्ति देने की प्राथना की।

पापा का सपना पूरा करेंगी बेटियां

राजमणि यादव की शादी 2006 में बक्सर के मड़ियां छपरा गांव की रिंकी देवी से हुई थी। 2011 में उनकी सीआरपीएफ में नौकरी हुई। उसके बाद से ही छत्तीसगढ़ में तैनात थे। उनको दो बेटी और तीन बेटे है। बेटियों में सलोनी और प्रिया है। वहीं प्रिंस, सत्यम और शिवम बेटे है। बड़ी बेटी सलोनी अभी 10 साल की है, जबकि प्रिया 8 साल की। राजमणि दोनों ही बेटियों को डॉक्टर बनाना चाहते थे। सलोनी और प्रिया ने कहा कि वो अपने पिता के सपनों को पूरा करना चाहती है। राजमणि यादव दो भाई में छोटे थे।

देश और राज्य की सुरक्षा में जुटा रहा पूरा परिवार

राजमणि यादव के पिता स्व. रामजी सिंह यादव बिहार पुलिस में एसआई थे। कुछ समय पहले ही उनका निधन हुआ था। राजमणि यादव के बड़े भाई मंजय यादव बिहार पुलिस में हवलदार है। उनकी पोस्टिंग अररिया जिले में है। राजमणि यादव जगदीशपुर प्रखंड के दुल्हीनजंग बाजार में घर बनाकर अपने परिवार के साथ रहते थे। जबकि भाई का परिवार समरदह में रहता है। मौत की खबर सुनने के बाद पूरा परिवार पैतृक गांव समरदह आ गया है।

- Advertisment -
Jain Ornaments ad
Raj Auto AD
Sambhawana School Ad
Kids Campus Mission School AD
Jain Ornaments ad
Raj Auto AD
Sambhawana School Ad
Kids Campus Mission School AD
Nagarmal Ad
Heart care centre ad
Modern x Ray AD
Maa sharde Ad
Nagarmal Ad
Heart care centre ad
Ad
Modern x Ray AD
Maa sharde Ad

Most Popular