Friday, February 26, 2021
No menu items!
Home राजनीत बिहार में पहली बार शाहनवाज हुसैन बने मंत्री, उर्दू में ली शपथ

बिहार में पहली बार शाहनवाज हुसैन बने मंत्री, उर्दू में ली शपथ

Shahnawaz Hussain : अटल बिहारी वाजपेयी कैबिनेट में सबसे युवा केंद्रीय मंत्री का रिकॉर्ड बना चुके शाहनवाज हुसैन बने बिहार में मंत्री

खबरे आपकी Shahnawaz Hussain आरा: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कैबिनेट में शामिल होकर सबसे युवा मंत्री बनने का रिकार्ड बना चुके शाहनवाज हुसैन अब बिहार सरकार में पहली बार मंत्री बने। शाहनवाज हुसैन बिहार राजभवन में चल रहे नीतीश मंत्रिमंडल के नए मंत्रियों का शपथ ग्रहण समारोह में सबसे पहले उन्‍होंने उर्दू में शपथ ली। अक्सर देखा गया है कि राजनीति की धारा प्रदेश से केंद्र की ओर बहती है, लेकिन शाहनवाज हुसैन के मामले में यह केद्र से राज्‍य की ओर चली है। विगत विधानसभा चुनाव में एक भी मुस्लिम उम्‍मीदवार को टिकट नही देने वाली भाजपा ने शाहनवाज को नीतीश मंत्रिमंडल में शामिल कराकर दूर का बड़ा दांव खेला है। 

बता दें कि बिहार के समस्‍तीपुर एक छोटे से गांव में जन्‍में, पटना और दिल्‍ली से पढ़ाई पूरी करने वाले शाहनवाज का बचपन से राजनीति में आने का सपना था। बचपन के इस सपने को पूरा करने के लिए शाहनवाज ने अपनी पूरी ताकत लगा दी। बताते हैं कि 1997 में एक कार्यक्रम के दौरान शाहनवाज का भाषण सुनकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि ये लड़का बहुत अच्‍छा बोलता है। यदि संसद में पहुंचा तो महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारी निभा सकता है।

Ram temple construction fund हेतु रामलीला समिति एवं आरा व्यवसायियों की संयुक्त बैठक

1998 के चुनाव में भाजपा ने उन्‍हें किशनगंज से राजद उम्‍मीदवार तस्‍लीमुद्दीन के खिलाफ उतारा। शाहनवाज वो चुनाव हार गए लेकिन करीब ढाई लाख वोट पाने से उनका हौसला बढ़ गया। 1999 में दोबारा हुए चुनाव में वह किशनगंज से सांसद बने। पहली बार संसद में पहुंचे और एनडीए की सरकार में राज्‍यमंत्री भी बन गए। शाहनवाज को फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज, यूथ अफेयर, और स्पोर्ट्स जैसे विभाग मिले। 2001 में उन्हें कोयला मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया गया और सितंबर 2001 में नागरिक उड्डयन पोर्टफोलियो के साथ प्रोन्‍नति देते हुए उन्‍हें कैबिनेट मंत्री बना दिया गया।

Shahnawaz Hussain भारत के सबसे कम उम्र के कैबिनेट मिनिस्टर बनने के साथ-साथ अटल सरकार का मुस्लिम चेहरा बन कर उभरे। 2003 से 2004 तक उन्होंने कैबिनेट मंत्री के रूप में कपड़ा मंत्रालय संभाला।2004 के आम चुनाव में हार के बाद शाहनवाज 2006 में उपचुनाव में भागलपुर सीट से जीतकर दोबारा लोकसभा पहुंचे। 2009 में भागलपुर से शाहनवाज को एक बार फिर जीत मिली लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्‍हें हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद 2019 में पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया। लेकिन वह पार्टी का चेहरा बने रहे।

आरा शहर में पार्किंग और नो पार्किंग जोन के प्रस्ताव पर नगर निगम की स्वीकृति

अब Shahnawaz Hussain को बिहार की राजनीति में उतारकर भाजपा ने बड़ा दांव खेला है। इसके साथ ही पार्टी ने बिहार में बड़ा मुस्लिम चेहरा दे दिया है। ऐसा चेहरा जो राष्‍ट्रीय स्‍तर पर बड़ी बेबाकी और मजबूती से भाजपा का पक्ष रखता रहा है। जाहिर है, नीतीश सरकार के मंत्री के साथ-साथ बिहार में भाजपा संगठन की मजबूती के लिए भी शाहनवाज की बड़ी भूमिका होने वाली है। 

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular