Saturday, October 23, 2021
No menu items!
HomeNewsकोरोना व लॉकडाउन को लेकर पुलिस कर्मियों का स्थानांतरण स्थगित

कोरोना व लॉकडाउन को लेकर पुलिस कर्मियों का स्थानांतरण स्थगित

पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी किया नया आदेश

आरा। राज्य में कोरोना के बढते संक्रमण व लॉकडाउन को देखते हुये पुलिस कर्मियों के स्थानांतरण को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। साथ ही कोरोना संक्रमित पुलिस कर्मियों के बेहतर इलाज के लिये नोडल अफसर भी बनाये गये हैं। इसे लेकर पुलिस मुख्यालय द्वारा आदेश जारी कर दिया गया है।

 पूर्व मुख्यमंत्री विन्देश्वरी दुबे के क्षेत्र में ढ़ह गया अंग्रेजो के जमाने का बना पुल

विरमित नहीं किये गये पुलिस अफसरों को मूल ऑफिस में सामंजन का आदेश

राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि विगत दिनों पुलिस अफसरों व कर्मियों का स्थानान्तरण किया गया हो, तो कोविड-19 के संक्रमण के वर्तमान स्थिति और लॉकडाउन को देखते हुए अगले आदेश तक उक्त आदेश के क्रियान्वयन को स्थगित रखा जाये। अर्थात स्थानान्तरित पदाधिकारी व कर्मी को विरमित नहीं किया जाय। यदि विरमित आदेश निर्गत हो चुका हो, किन्तु स्थानान्तरित पदाधिकारी व कर्मी भौतिक रूप से प्रस्थान नहीं किये हो तो उनका पुन: सामजन मूल कार्यालय में ही कर लिया जाय।

कोरोना जांच की खबर नही की तो मानकर चले रिपोर्ट निगेटिव- सीएस

कोरोना संक्रमित पुलिस कर्मियों के बेहतर इलाज के लिये बने नोडल अफसर

आदेश में कहा गया है कि अग्रिम पक्ति पर कार्यरत होने के कारण पुलिस बल में भी संक्रमित होने को घटना बढ़ रही है। पुलिस बल में कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार की रोकथाम व संक्रमित पुलिस अफसरों व कर्मियों की बेहतर उपचार के लिये महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। सभी क्षेत्रीय पुलिस महानिरीक्षक व पुलिस उप महानिरीक्षक अपने क्षेत्र अंतर्गत पुलिस बल में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम, उपचार व संक्रमण से संबंधित सभी मामलों के लिये नोडल पदाधिकारी नामित किये जाते हैं। ये अफसर अपने क्षेत्र अंतर्गत आनेवाले प्रत्येक जिले में एक समर्पित वाहन कोविड-19 से संक्रमित पुलिस अफसर व कर्मियों के आवागमन की व्यवस्था के लिये सुरक्षित रखेंगे।

कंटेनमेंट जोन में नियमों का उल्लंघन करने वालो के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराने का निर्देश

पुलिस मुख्यालय स्तर पर नोडल पदाधिकारी के रूप में पुलिस महानिरीक्षक (मुख्यालय) रहेगे, जो इस कार्य का अनुश्रवण करेंगे। किसी पुलिस पदाधिकारी व कर्मी के कोविड-19 से संक्रमण के फलस्वरूप गंभीर रूप से बीमार हो जाने की स्थिति में नोडल पदाधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि राज्य में कोविड-19 के लिये चिन्हित पांच अस्पतालों, जो पटना, भागलपुर व गया में अवस्थित है। इसमें से किसी एक निकटस्थ अस्पताल में संक्रमित पदाधिकारी व कर्मी का इलाज किया जाये।

इसके लिए नोडल पदाधिकारी उक्त अस्पतालों के प्रबंधन के साथ समन्वय स्थापित कर अग्रतर कार्रवाई करेंगे। पुलिस लाईन में स्थित कोई पुलिस अफसर व कर्मी कोविड-19 से संक्रमित हो तो उनके लिए अलग आवासन, मेस व शौचालय की व्यवस्था पुलिस लाइन के समीप ही की जाये।

और भी पढ़े – खबरें आपकी-फेसबुक पेज

- Advertisment -
ad
ad
ad
ad
ad (2)
AD
ad
ad (2)
Ad

Most Popular