Sunday, June 23, 2024
No menu items!
Homeबिहारबक्सरबिहार में बिजली कटौती क्यों? पावर-शेडिंग पर फोरम में दर्ज कराएं शिकायत

बिहार में बिजली कटौती क्यों? पावर-शेडिंग पर फोरम में दर्ज कराएं शिकायत

power cut in Bihar: केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह शुक्रवार को पटना दौरे पर थे। इस दौरान उन्होने बाढ़ सब-डिवीजन में NTPC के सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट (STPP) के पहले चरण की 660 मेगावाट इकाई का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जब बिहार को भरपूर बिजली दी जा रही है, तो फिर राज्य में बिजली कटौती क्यों हो रही है, ये नीतीश सरकार को बताना चाहिए। बिजली कटौती के चलते ही कटिहार में बवाल हुआ था। और पुलिस ने गोलीबारी की थी।

power cut in Bihar: बिहार को मिल रही भरपूर बिजली के बावजूद कटौती क्यों?

केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने कहा कि बिहार भारत के उन तीन राज्यों में से एक है जो अभी भी बिजली कटौती का सहारा ले रहा है, बावजूद इसके कि भारत पिछले 9 सालों में बिजली की कमी से बिजली अधिकता वाले देश में बदल गया है। 26 जुलाई को लगातार बिजली कटौती और अनियमित बिजली सप्लाई के विरोध में कटिहार जिले के बारसोई उप-मंडल मुख्यालय में ब्लॉक कार्यालय पर 1,000 लोगों की भीड़ के हिंसक हो जाने से दो लोगों की मौत हो गई थी। मंत्री आरके सिंह ने कहा कि 1 अगस्त को नई इकाई के चालू होने के बाद, राज्य को अब एनटीपीसी से 7,000 मेगावाट की औसत दैनिक मांग के मुकाबले लगभग 7,100 मेगावाट बिजली मिल रही है। इसके वितरण और ट्रांसमिशन नेटवर्क को मजबूत करने के लिए केंद्र से राज्य को मौद्रिक सहायता का उल्लेख किया गया है। उन्होंने राज्य सरकार से राज्य के लोगों को निर्बाध बिजली देने और किसी भी समस्या को केंद्र को बताने का आग्रह किया।

समारोह में शामिल नहीं हुए ऊर्जा मंत्री और ललन सिंह
आपको बता दें राज्य के ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, जिन्हें कार्यक्रम की अध्यक्षता करनी थी, और मुंगेर से जदयू के लोकसभा सांसद राजीव रंजन उर्फ ​​लल्लन सिंह निमंत्रण के बावजूद, समारोह में शामिल नहीं हुए। ऊर्जा मंत्री के विभाग से बताया कि वो अस्वस्थ्य हैं। इस कार्यक्रम में नॉर्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक आदित्य प्रकाश, राज्य के ऊर्जा विभाग के एकमात्र वरिष्ठ प्रतिनिधि थे।

बिजली कटौती पर फोरम में दर्ज कराएं शिकायत
उन्होंने कहा कि बिजली मंत्रालय ने राज्यों से 2.34 लाख मेगावाट की अधिकतम लोड मांग के मुकाबले 4.21 लाख मेगावाट बिजली पैदा करने की क्षमता होने के बावजूद राज्यों से बिजली कटौती के कारण बताने को कहा था। लोगों को जागरूक करते हुए, उन्होंने कहा कि अगर उन्हें लगता है कि राज्य में बिजली वितरण कंपनियां पावर-शेडिंग का सहारा ले रही हैं, तो वे केंद्रीय शिकायत निवारण फोरम में आवेदन दर्ज करें और इसकी एक प्रति मुझे भेजें।

अब बिहार को मिलेगी ज्यादा बिजली
3300 मेगावाट की कुल नियोजित क्षमता वाली बाढ़ सुपर थर्मल पावर परियोजना में चरण-1 में 1980 मेगावाट और चरण-2 में 1320 मेगावाट शामिल है। सभी इकाइयां सुपरक्रिटिकल तकनीक पर आधारित हैं। जो बिजली उत्पादन के लिए एक कुशल तकनीक है। बिहार को बाढ़ परियोजना से लगभग 2337 मेगावाट मिलेगा। वर्तमान में, एनटीपीसी बाढ़ बिहार को 1935 मेगावाट की आपूर्ति करता है।

एनटीपीसी के प्रवक्ता विश्वनाथ चंदन ने कहा, केंद्रीय ऊर्जा मंत्री द्वारा आज समर्पित की गई इकाई बाढ़ संयंत्र की चौथी 660 मेगावाट की पर्यावरण-अनुकूल सुपरक्रिटिकल प्रौद्योगिकी-आधारित इकाई है, जिसने 1 अगस्त 2023 से वाणिज्यिक बिजली उत्पादन शुरू कर दिया है, पांचवीं और अंतिम इकाई अगले साल तैयार हो जाएगी।

- Advertisment -
Ara Crime - CCTV of Firing - आरा में फायरिंग का सीसीटीवी वीडियो
Ara Crime - CCTV of Firing - आरा में फायरिंग का सीसीटीवी वीडियो
Ara Crime - CCTV of Firing - आरा में फायरिंग का सीसीटीवी वीडियो
Ara Crime - CCTV of Firing - आरा में फायरिंग का सीसीटीवी वीडियो

Most Popular