Saturday, October 16, 2021
No menu items!
HomeNewsCrimeआरा डबल मर्डर कांड में आठ लोगों पर हत्या करने की प्राथमिकी 

आरा डबल मर्डर कांड में आठ लोगों पर हत्या करने की प्राथमिकी 

Ara Double murder-ऑटो खरीदने को लेकर सौ रुपये का उपजा विवाद और मार दी गयी गोली

खबरे आपकी आरा। एसपी विनय तिवारी ने बताया कि शुरुआती जांच में सिर्फ सौ रुपये के विवाद में हत्या करने की बात सामने आ रही है। उन्होंने बताया कि रमेश यादव द्वारा ऑटो खरीदी गयी गयी थी। उस ऑटो पर राहुल यादव की भी नजर थी और वह उसे खरीदना चाहता था। वह रमेश यादव द्वारा ऑटो खरीदे जाने से नाराज था। उसके एवज में वह रमेश यादव से सौ रुपये मांग रहा था। इसे लेकर उसका रमेश यादव से विवाद हुआ था। उसी विवाद में शनिवार की सुबह वह कुछ लोगों के साथ रमेश यादव के दरवाजे पर पहुंचा और झगड़ा करने लगा। इसी क्रम में गोली मार दी गयी।

एसपी ने बताया कि अभी तक जांच में पता चला है कि राहुल यादव को उसके ही पक्ष के लोगों द्वारा चलायी गोली लगी है। पूरे मामले की जांच की जा रही है। इस मामले में राहुल यादव और बद्री यादव को हिरासत में लिया गया है। पूछताछ की जा रही है। अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिये भी छापेमारी की जा रही है।बताया जा रहा है कि रमेश यादव के किसी रिश्तेदार ने कबाड़ से ऑटो खरीदी थी। 

सुबह में बड़े भाई को धमकी दी, बाद में दरवाजे पर चढ़ मार दी छोटे भाई को गोली

सुबह जेब से पैसे निकालने का विरोध करने पर दी गयी दी देख लेने की धमकी

Ara Double murder-आरा रघुटोला डबल मर्डर कांड को लेकर नामजद प्राथमिकी दर्ज की गयी है। इसमें रघुटोला के ही आठ लोगों पर हत्या करने का आरोप लगाया गया है। मृत रमेश यादव के पिता राम बाबू यादव के फर्दबयान पर प्राथमिकी की गयी है। उसमें गांव के ही श्रीभगवान यादव, बद्री यादव, बुधराम यादव तीनों (भाई) विक्की यादव, शंभू यादव, कमलेश यादव, दीपक यादव और राहुल को आरोपित किया गया है। इनमें विक्की यादव बद्री यादव, तो कमलेश यादव बुधराम यादव का पुत्र है। विक्की यादव और शंभू यादव पर गोली मारने का आरोप लगा है। फर्दबयान में रामबाबू यादव की ओर से कहा गया है कि शनिवार की सुबह उनका बेटा कमलेश यादव रोड की तरफ गया था। उस दौरान बद्री यादव द्वारा उसकी जेब से पैसे निकालने का प्रयास किया गया था। तब कमलेश द्वारा विरोध किया गया था। उसे लेकर बद्री यादव द्वारा देख लेने की धमकी दी गयी थी। उसके बाद करीब 11 बजे सभी हथियार लेकर उनके दरवाजे पर धमक गये और गाली-गलौज करने लगे। इस पर रमेश यादव ने विरोध किया, तो उसे गोली मार दी।

बीच-बचाव करने में चली गयी अधेड़ जनार्दन यादव की जान

Ara Double murder-प्राथमिकी के अनुसार गोली की आवाज सुन बगलगीर जनार्दन यादव बीच-बचाव करने पहुंचे। उन्होंने गोली मार रहे लोगों को रोकने का प्रयास किया, तो उनको ही गोली मार दी गयी। गोली लगते ही रमेश यादव और जनार्दन यादव वह जमीन पर गिर पड़े। उसके बाद सभी आरोपित फायरिंग करते भाग निकले। उसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से दोनों को असपताल लाया गया। जहां डॉक्टर डॉ.एसके प्रसाद द्वारा दोनों को मृत घोषित कर दिया गया।

मेडिकल बोर्ड बना किया गया शव का पोस्टमार्टम 

Ara Double murder रघुटोला निवासी रमेश यादव और जनार्दन यादव के शव का मेडिकल बोर्ड द्वारा पोस्टमार्टम किया गया। इस दौरान दोनों के शव में फंसे एक-एक बुलेट बरामद किये गये। जिसे पुलिस ने साक्ष्य के तौर पर सुरक्षित रख लिया गया है। जानकारी के अनुसार पुलिस की पहल पर 

सिविल सर्जन डॉ.एलपी झा द्वारा पोस्टमार्टम के लिये

तीन सदस्य डॉक्टर की टीम गठित की गयी। उसमें ऑन ड्यूटी चिकित्सक डॉ.जितेन्द्र कुमार, डॉ.महावीर प्रसाद गुप्ता और डॉ.एस किशुन शामिल थे। पोस्टमार्टम के दौरान दोनों शव से एक-एक गोली का बुलेट बरामद हुआ बताया जा रहा है कि रमेश यादव के सीने में दोनों साइड एक-एक गोली लगी थी। वहीं जनार्दन यादव को एक गोली दाहिने साइड कंधे, दूसरी गोली बायें हाथ में लगी थी, जो आर पार हो गई थी। जबकि तीसरी गोली बाये साइड गर्दन में लगी थी।

Ara Double murder-दोहरे हत्याकांड से रघुटोला में सनसनी, घरों में कोहराम

Ara Double murder

Ara Double murder-दिनदहाडे़ डबल मर्डर और ताबड़तोड़ फायरिंग से रघु टोला में सनसनी मच गयी। गांव में दहशत कायम हो गयी और लोग घरों में दुबक गये। वहीं दोनों मृतकों के घरों में कोहराम मच गया। घटना के बाद किसी का सुहाग उजड़ गया, तो बेटा और पिता छीन गया। बताया जाता है कि मृतक जनार्दन यादव चार भाइयों में दूसरे स्थान पर थे।उनके परिवार में पत्नी मुना देवी, पुत्र अभिषेक यादव, टूना यादव और रामबाबू यादव हैं। जबकि रमेश यादव अपने चार भाई और दो बहन में सबसे बड़ा था। उसके परिवार में पत्नी संगीता देवी, दो पुत्र आशीष, आदित्य एवं में पुत्री अंजली है। घटना के बाद मृतकों के घर में कोहराम मच गया है। घटना के बाद दोनों के घरों के परिजनों का रो- रोकर बुरा हाल था।

पढ़ें- जब काशी विश्वविद्यालय को अस्पताल बना देने की धमकी दी थी गवर्नर ने..

- Advertisment -
ad
ad
ad
ad
ad (2)
AD
ad
ad (2)
Ad

Most Popular