Monday, April 15, 2024
No menu items!
Homeबिहारआरा भोजपुरडाक्टर के बदले स्टाफ कर रही थी ऑबर्शन, गर्भवती महिला की गयी...

डाक्टर के बदले स्टाफ कर रही थी ऑबर्शन, गर्भवती महिला की गयी जान

Rajni Devi died in Arrah/ Bihar:आरा नवादा थाना क्षेत्र के महावीर टोला स्थित निजी क्लीनिक में मंगलवार की रात अबॉर्शन के दौरान एक गर्भवती महिला की मौत हो गयी। मृत महिला तरारी थाना क्षेत्र के सेदहां गांव निवासी उपेंद्र चौधरी की 23 वर्षीया पत्नी रजनी देवी थी। उसके बाद परिजन भड़क उठे और जमकर हंगामा किया गया। सूचना मिलने पर नवादा थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और समझा-बुझाकर लोगों को शांत कराया। उसके बाद शव का पोस्टमार्टम करवाया गया।

महिला के देवर मोहन कुमार ने बताया कि उसकी भाभी रजनी देवी को चार माह की प्रेगनेंसी थी। वह दूसरी बार मां बनने वाली थी। मंगलवार की सुबह उसे तेज दर्द हुआ। उसके बाद गांव के ही एक व्यक्ति के कहने पर उन्हे शहर के महावीर टोला स्थित एक निजी क्लीनिक में लाया गया था। क्लीनिक के बाहर लगे बोर्ड पर शिवालय हेल्थ केयर, जबकि पर्चे पर भोजपुर हेल्थ केयर लिखा हुआ था। वे लोग मरीज को लेकर यहां पहुंचे, तो वहां पर कोई चिकित्सक मौजूद नहीं था। सिर्फ एक लेडिज और एक पुरुष स्टाफ मौजूद था।

डॉ. शैलेंद्र कुमार
Holi Anand
Dr. Prabhat Prakash
Vishvaraj Hospital, Arrah
डॉ. शैलेंद्र कुमार
Holi Anand
Dr. Prabhat Prakash
Vishvaraj Hospital, Arrah

दोनों ने जांच करने के बाद भाभी का अल्ट्रासाउंड कराने की सलाह दी। अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में पेट में ही बच्चे की मौत होने की बात कही गयी थी। उसके बाद दोनों स्टाफ द्वारा कहा गया कि मरीज का तत्काल ऑबर्शन करना होगा, वरना शरीर में पूरा जहर फैल जाएगा। डाक्टर के बारे में पूछने पर स्टाफ द्वारा कहा गया कि वे लोग अपना काम शुरू कर रहे हैं। डाक्टर साहब आ जाएंगे। मरीज को सुबह नौ बजे क्लीनिक में एडमिट किया था और शाम के तीन बजे डॉक्टर का कोई अता पता नहीं था। मौजूद स्टाफ द्वारा ही उसकी भाभी का ऑबर्शन किया जा रहा था। शाम के बाद मरीज की स्थिति काफी बिगड़ गयी। तब मौजूद सभी स्टाफ और अन्य मरीज वहां से अचानक गायब हो गए।

देवर का आरोप: ऑबर्शन के दौरान बच्चे को जबरन खींच रही थी महिला स्टाफ

सेदहां गांव निवासी मोहन कुमार ने बताया कि क्लीनिक में मौजूद स्टाफ ऑबर्शन के दौरान बच्चे को बेरहमी से खींच रहे थे। उसकी भाभी करीब ढाई घंटे तक बेहोश थी। क्लीनिक के कर्मचारी द्वारा परिजनों से 40 हजार रुपये पहले ही ले लिए गए थे। इसी बीच रात करीब आठ बजे मरीज की मौत हो गयी। उसके बाद कहा गया है एक लाख रुपये और जमा करना होगा। मरीज की स्थिति काफी खराब है। उसे पटना रेफर करना है। उसके बाद उनलोगों ने मरीज को देखा, तो उसकी मौत हो गयी थी। उसके बाद परिजनों ने निजी क्लीनिक में जमकर हंगामा किया। बताया जा रहा है कि महिला अपने दो भाई व दो बहनों में दूसरे स्थान पर थी। उसका का पति मजदूरी करता है। उसे एक पुत्री रहना कुमारी है। घटना के बाद उसके घर में कोहराम मच गया है।

मेडिकल बोर्ड गठित कर शव का किया गया पोस्टमार्टम

Rajni Devi died in Arrah: इलाज के दौरान महिला मरीज की मौत की पुलिस की ओर से जांच शुरू कर दी गयी है। उसके लिए शव का मेडिकल बोर्ड गठित कर पोस्टमार्टम कराया गया। जानकारी के अनुसार सिविल सर्जन के निर्देश पर महिला के शव के पोस्टमार्टम लिए चार सदस्यीय टीम गठित की गयी थी। उसमें ऑन ड्यूटी चिकित्सक केएस चौबे, डा. टीएन राज, डा. विकास सिंह और डा. मधुबाला सिन्हा शामिल थी।

एएसपी बोले: जांच के बाद की जायेगी उचित कार्रवाई

सहायक पुलिस अधीक्षक चंद्र प्रकाश ने कहा कि इलाज के दौरान महिला की मौत की घटनाएं हुई है। जो नवादा थाना क्षेत्र में हुई है। घटना के बारे परिजनों द्वारा बताया गया है कि महिला का आबर्शन कराया गया है। वह ननक्वालीफाई डॉक्टर द्वारा किया गया है। उसके कारण उसकी मौत हो गई है। उसमें प्राथमिकी दर्ज कर उचित कार्रवाई की जाएगी। उसमें जो भी कठोर डिसीजन लेने होंगे, वह लिए जायेंगे।

- Advertisment -
Vikas singh
Vikas singh
sambhavna
aman singh

Most Popular

Don`t copy text!