Saturday, February 27, 2021
No menu items!
Home अन्य चर्चित खबर बालू माफियाओं ने ट्रैक्टर से भोजपुर निवासी यूपी पुलिस के जवान को...

बालू माफियाओं ने ट्रैक्टर से भोजपुर निवासी यूपी पुलिस के जवान को रौंद डाला

यूपी की घटनाः

जिले के बड़हरा थाना क्षेत्र के बड़का लौहर गांव का रहने था जवान

अवैध बालू लदे ट्रैक्टर को पकड़ने के दौरान घटना को दिया गया अंजाम

जवान की मौत की सूचना से बड़का लौहर गांव में पसरा मातम

यूपी में अवैध बालू के कारोबार से जुड़े माफियाओं ने एक कांस्टेबल को ट्रैक्टर से रौंद डाला। उसमें जवान की मौके पर ही मौत हो गयी। मृत कांस्टेबल भोजपुर के बड़हरा थाना क्षेत्र के बड़का लौहर गांव निवासी सत्यदेव पांडेय का पुत्र रवि पांडेय है। वह यूपी पुलिस सेवा बल में कांस्टेबल था और इलाहाबाद के नैनी एग्रीकल्चर पुलिस चौकी में पोस्टेड था। घटना की सूचना मिलते ही बड़का लौहर गांव स्थित जवान के घर में कोहराम मच गया। पूरे गांव में भी मातम पसर गया।

सूचना मिलते ही जवान के पिता व चाचा गुड्‌डू पांडेय सहित अन्य लोग इलाहाबाद चले गये। घटना के संबंध में बताया जाता है कि जवान रवि पांडेय शुक्रवार को चौकी इंचार्ज के साथ डयूटी पर था। तभी अवैध बालू ढुलाई की सूचना मिली। इस पर दोनों बालू लदे ट्रैक्टर को पकड़ने के लिये पीछा करने लगे। इसी क्रम में मोहम्मदगंज के पास ट्रैक्टर चालक ने जवान को रौंदा दिया। इससे मौकै पर जवान की मौत हो गई। घटना की सूचना थाना द्वारा जवान के परिजनों को दी गयी। सूचना पाते ही प्रशासन के सहयोग से मृत जवान के पिता, चाचा तथा अन्य लोग इलाहाबाद पहुंचे और वहीं पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

शादी के छह साल बाद ही उजड़ गया ज्योति का सुहाग

बड़का लौहर गांव निवासी रवि पांडेय की मौत से घर में कोहराम मचा है। घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल था। पति के वियोग में ज्योति देवी बेहाल थी। शादी के महज छह साल बाद ही उसका सुहाग उजड़ गया। बताया जाता है कि रवि की 2011 में उत्तर प्रदेश पुलिस सेवा बल में बहाली हुई थी। उनकी शादी 2014 में मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के बसंतपुर गांव की ज्योति देवी के साथ हुई थी। उन्हें महज 3 साल की एक बेटी पीहू कुमारी है। रवि पांडेय दो भाई और एक बहन है। छोटा भाई बिहार पुलिस के एसटीएफ में कार्यरत हैं ।रवि के चाचा सरोज पांडेय सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि रवि बहुत ही मिलनसार और विनम्र स्वभाव का का लड़का था। हम लोगों के परिवार का एक बहुत बड़ा धरोहर था।

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular