Tuesday, November 29, 2022
No menu items!
HomeNewsबाढ़ पीड़ितों का दर्दे हाल: बाढ़ फूल और बती गुल

बाढ़ पीड़ितों का दर्दे हाल: बाढ़ फूल और बती गुल

Shahpur floods-अंचल क्षेत्र के करीब 60 गांवों की विधुत आपूर्ति ठप

दियारांचल क्षेत्र के लाइफ लाइन शाहपुर-कारनामेपुर सड़क पर चढ़ा बाढ़ का पानी, आवागमन बाधित

47 गांवों की 60 हजार आबादी व 6 हजार हेक्टेयर खड़ी फसल प्रभावित

खबरे आपकी बिहार/आरा/शाहपुर: बाढ़ फूल और बती गुल यही दर्दे हाल है बाढ़ पीड़ितों का। एक तो लोग बाढ़ से परेशान थे अब उनकी बिजली की बंद हो गई। वही शाहपुर दियारा क्षेत्र का लाइफ लाइन कहे जाने वाले शाहपुर-कारनामेपुर सड़क पर बाढ़ के पानी के चढ़ने से स्थिति और भयावह हो गई है। पूरा दियारा क्षेत्र का सड़क संपर्क प्रखंड मुख्यालय से पूरी तरह से कट चुका है। वाहनों का आवागमन लगभग बंद हो चुका है। सड़क पर बाढ़ का पानी इस भरौली पुल से लेकर 3 किलोमीटर रमदतही गांव तक भरा हुआ है। सड़क पर करीब 2 से 3 फीट पानी भरा हुआ है। ऐसे में उक्त सड़क से पैदल आना जाना भी खतरे से खाली नहीं है।

इधर क्षेत्र में रहने वाले लोगों का कहना है कि प्रशासन द्वारा कारनामेपुर, सोनबरसा, प्रसौन्डा के लिए एक भी नाव अब तक नहीं दिया गया है। जिसके कारण आम लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बाढ़ के पानी के लगातार बढ़ने से अब पशुओं के चारे की भी कमी होनी शुरू हो गई है। बेचारे किसान व पशुपालक जान जोखिम में डालकर बाढ़ के पानी से भरे खेतो से हरे चारे नाव के जरिये लाने को विवश हैं। जैसे-जैसे बाढ़ का पानी बढ रहा है। गरीबो के आशियानों को अपने साथ बहाते और उजाड़ते आगे बढ़ रहा है। परंतु इन घरों से बेघर हुए लोग इस आफत में लगातार विस्थापित होते जा रहे है।

पढ़े-अब डरावना लगने लगा है बाढ़ का पानी दियारांचल के कई गांवों में घुसा,मिट्टी कटाव से दहशत

आलीशान मकानों में रहने वालों को भी बाढ़ और बारिश ने चमकी के नीचे ला दिया है। इधर बक्सर-कोईलवर सुरक्षा तटबंध पर लालू डेरा के समीप तथा दामोदरपुर के समीप करीब 300 लोग विस्थापित होकर आश्रय लिए हुए है। जबकि पशुपालक अपने पशुओं को लेकर प्रखंड के विभिन्न पंचायतों के ऊंचे टीलेनुमा स्थानों पर शरण लिए हुए है।

Shahpur Block Zone - Power supply stalled due to floods

Shahpur floods-प्रखंड के 60 गांवों की बत्ती गुल

Shahpur floods-वही बाढ़ के कारण विधुत विभाग द्वारा लगभग 60 गांवों की विधुत आपूर्ति बंद कर दी गई है। जिसके लोगो की समस्या और बढ गई है। अब लोगो के मोबाइल चार्ज करने में भी परेशानी होने लगी है। शाहपुर विधुत उपकेंद्र के कनीय अभियंता शम्भु प्रसाद व लालू के डेरा उपकेंद्र के कनीय अभियंता शंकर लाल दास ने बताया कि बहुत सारे पोल बाढ़ के पानी मे डूब गए है। पानी और विधुत तार की के बीच मात्र 3 फीट का ही फासला है। ट्रांसफार्मर तक बाढ़ का पानी पहुंच गया है। उन्ही गांवों की विधुत आपूर्ति बंद की गई। जिसमे सेमरिया, बरिसवन, हरिहरपुर, सुहियां, बहोरनपुर, दामोदरपुर, लक्षुटोला पंचायत की विधुत आपूर्ति पूरी तरह से बंद है। जबकि लालू के डेरा, गौरा, करजा, डुमरिया पंचायत के करीब 14 गांवों की विधुत आपूर्ति बंद है।

पढ़े-छापेमारी करने गई भोजपुर पुलिस टीम पर बालू माफियाओं का हमला,आधा दर्जन गाड़िया क्षतिग्रस्त

Shahpur floods-शाहपुर अंचलाधिकारी पंकज कुमार झा ने बताया कि अंचल के कुल 20 पंचायतों में से 10 पंचायत लक्षुटोला, दामोदरपुर, बहोरनपुर, सुहियां, गौरा, करजा, बरिसवन, सेमरिया, हरिहरपुर तथा लालू का डेरा पूर्ण रूप से बाढ़ प्रभावित है। जबकि शेष 10 पंचायत आंशिक रूप से प्रभावित हो चुके है। कुल 47 गांव के लोग पूरी तरह से बाढ़ के पानी से घिर गया है। वही कुल 42 नावों का परिचालन हो रहा है। अबतक करीब 60 हजार लोग प्रभावित है और 625 पशु भी प्रभावित है। साथ ही करीब 6 हजार 6 सौ एकड़ खड़ी फसल बाढ़ से प्रभावित है। तटबंध पर आश्रय लिए बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए रात मे जेनरेटर से रौशनी का प्रबंध किया गया है। साथ पशुपालकों के बीच पशुओं के लिए चारे का वितरण किया गया।

पढ़े-डस्टबीन खरीद मनमानी- जिलाधिकारी ने अफसरों और पंचायत प्रतिनिधियों को चेताया

- Advertisment -

Most Popular