Monday, April 12, 2021
No menu items!
Home धर्म पर्व-त्योहार रंगो की जगह फुलो से खेले होली-डाॅ. केएन सिन्हा

रंगो की जगह फुलो से खेले होली-डाॅ. केएन सिन्हा

Holi 2021- प्रेम और भाईचारे का त्योहार है होली

खबरे आपकी बिहार/आरा:- Holi 2021 होली का माहौल चल रहा है। होली का त्यौहार इस २८-२९ मार्च को मनाया जायेगा। २८ मार्च को होलिका दहन और २९ मार्च को रंगो वाली होली खेली जाएगी। यह पर्व भारत का महत्वपूर्ण और सबसे बड़ा पर्व है, जिसे धर्म, जाति एवं ऊंच-नीच का भेद भुलाकर सभी भारतीय मनाते हैं। एक उमंग सा माहौल रहता है। जीवन में सतरंगी खुशियों का उमंग आता है। लोग मन से तन से चंगे हो जाते हैं। लेकिन आज कोरोना काल में होली का उमंग सार्वजनिक रूप से कुछ फीका-फीका सा है, क्योंकि हम सभी को कोरोना बीमारी के कारण अपने आप को जीवित एवं सुरक्षित रखना है।

कोरोना गाइडलाइन का पालन कर मनाएं होली

इस बाबत चिकित्सक डाॅ. केएन सिन्हा ने बताया की कोरोना का जो गाइडलाइन है। हमें उसका पालन करना चाहिए। हमेशा मास्क लगाकर रहना। सेनिटाइजर का प्रयोग करना। लोगों से समाजिक दूरी बना कर रखना। यह सब करते हुए हमें एक सुरक्षित होली को मनाना है। होली की उमंग में कभी-कभी रंगभंग भी हो जाता है और रंग के प्रभाव से बहुत से क्षणिक और पुराने रोग भी हो जाते हैं।

होली की भाग दौड़ में कभी-कभी दुर्घटनाएं हो जाती है। आंखों में रंग जाने से कभी-कभी आंख भी खराब होने का डर रहता है और चमड़े की बीमारी भी होने का डर रहता है। होली के खराब रंग से इसलिए सुरक्षित रूप से होली को मनाना है और हर्बल रंग का प्रयोग करना है। कई जगह होली में रंग के बदले में बहुत लोग फूलों से होली खेलते हैं। वह काफी आनंददायक होता है, उससे कोई क्षति होने का डर नहीं रहता है। मैं भोजपुर जनपद के शाहाबाद के जनपद के लोगों को हार्दिक शुभकामनाएं होली की शुभकामनाएं देता हूं, ताकि वह तन से मन से स्वस्थ रहें उमंग में रहें और उन्नति करें।

पढ़े :- मां काली की आठ दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा यज्ञ का आयोजन 3 अप्रैल से

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular