Saturday, March 6, 2021
No menu items!
Home राजनीत राजनीत में परिवारवाद के खिलाफ थे कर्पूरी ठाकुर

राजनीत में परिवारवाद के खिलाफ थे कर्पूरी ठाकुर

Karpoori Thakur : किसान, गरीब व पिछड़ों की सेवा में कर्पूरी जी ने बिताया पूरा जीवन

कर्पूरी जयन्ती के अवसर पर बिहिया में समारोह आयोजित

खबरे आपकी जीतेन्द्र कुमार बिहिया नगर स्थित रामानन्द तिवारी महिला कॉलेज परिसर में रविवार को Karpoori Thakur कर्पूरी जयन्ती समारोह का आयोजन किया गया. समारोह की अध्यक्षता जदयू के प्रखंड अध्यक्ष श्रीराम महतो ने तथा संचालन पार्टी के अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रखंड अध्यक्ष शिवनारायण धानुक ने किया. मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में जदयू के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य झूलन गोड़ व जदयू नेता शशिकांत पाण्डेय मौजूद थे.

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कार्यकर्ताओं ने बिहार के भूतपूर्व मुख्यमंत्री जननायक कर्पूरी ठाकुर के कृतित्व व व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि किसान, गरीब, पिछड़ों की सेवा में अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया. कर्पूरी जी समतामूलक समाज व समरस समाज के सबसे बड़े पुरोधा एवं स्वतंत्रता सेनानी थे.

कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री रहते हुए भी उनकी सादगी बेमिसाल व लोगों के लिए अनुकरणीय है. राजनीत में युवाओं के आगे आने के पक्षधर परन्तु परिवारवाद के खिलाफ थे कर्पूरी ठाकुर ! अपने पुत्र रामनाथ ठाकुर को टिकट देने की बात पर कर्पूरी जी ने साफ माना कर दिया था ! कहा था अगर मैं लडूंगा तो रामनाथ नहीं लड़ेगा!

soldier suicide in Ara-आरा में महिला सिपाही ने की खुदकुशी

इस अवसर पर वक्ताओं ने जननायक कर्पूरी ठाकुर के सपने को साकार करने के लिए राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने आम जनता के हित में कई काम धरातल पर उतारने का किया है. महिलाओं को व अतिपिछड़ों को आरक्षण देकर उन्हें सशक्त बनाया है तथा राज्य में शराब बन्दी लागू कर अमन-चैन का माहौल कायम किया है. समारोह में महेन्द्र तुरहा, सच्चितानन्द सिंह, अजय साह, ध्रुव कुमार, शिवमुनी महतो, बालयोगेश्वर सिंह, चन्द्रभूषण सिंह, रमेश गुप्ता, राकेश शर्मा, इन्द्रजीत कुमार, सन्नी कुमार, राकेश यादव, सुखनन्दन सिंह, रविन्द्र सिंह समेत दर्जनों लोग मौजूद थे.

पहले बाइक को रोका, फिर बोला जाओ और मार दी गोली

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular