Monday, July 26, 2021
No menu items!
HomeNewsपवना बवाल कांड - तीन घंटे तक पुलिस और पब्लिक में होती...

पवना बवाल कांड – तीन घंटे तक पुलिस और पब्लिक में होती रही जोर-आजमाईस

Pawna scandal – भीड़ का गुस्सा या बालू माफियाओं की साजिश

रणक्षेत्र बना पवना बाजार, कभी पुलिस तो कभी भीड़ दिखी भारी, देर तक होती खदेड़ा-खदेड़ी

रनी नहर से शुरू हुआ बवाल पवना बाजार तक पहुंचा और होने लगी दौड़ा-दौड़ी

उपद्रव मचा रही भीड़ ने राहगीरों को भी नहीं छोड़ा, दो का सर फूटा

खबरे आपकी बिहार/आरा/पवना: Pawna scandal बालू लदा ट्रैक्टर पलटने से चालक सहित दो युवकों की मौत के बाद पवना बाजार शनिवार को रणक्षेत्र में बदल गया। पुलिस और पब्लिक के बीच तकरीबन तीन घंटे तक जोर आजमाईस होती रही। दोनों के बीच खदेड़ा-खदेड़ी होती रही। इस दौरान कभी भीड़ पुलिस को तो कभी पुलिस भीड़ पर भारी दिखी। इससे पवना बाजार में अफरातफरी मची रही। बताया जा रहा है कि करीब 11 बजे बालू लदा ट्रैक्टर रनी के पास नहर में पलट गया। इससे ट्रैक्टर के चालक और सवार युवक की मौत हो गयी। सूचना मिलने पर पवना थाना प्रभारी रितेश दूबे दल-बल के साथ मौके पर पहुंच गये। पुलिस अभी शव की पहचान ही कर रही थी। तभी भीड़ ने पुलिस पर हमला बोल दिया। इस दौरान थाना की गाड़ी का शीशा भी तोड़ दिया। भीड़ को बेकाबू होते देख पुलिस मौके से भाग निकली। तब भीड़ शव लेकर पवना बाजार पहुंच गयी और सड़क जाम कर दिया गया।

Pawna scandal
Pawna scandal


जाम की सूचना पर पुलिस के साथ सीओ चंद्रशेखर पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयाश शुरू कर दिया गया। लेकिन भीड़ बात मानने को तैयार नहीं थी। इस दौरान भीड़ द्वारा फिर से पुलिस पर रोडे़बाजी की जाने लगी। इस पर पुलिस द्वारा भी लाठियां भांजी जाने लगी। इससे लोग भागने लगे। लेकिन कुछ ही देर के बाद भीड़ द्वारा दुबारा हमला कर दिया दिया गया। रोडे़बाजी के साथ लाठी-डंडे से लैस भीड़ द्वारा पुलिस को खदेड़-खदेड़ कर पीटा जाने लगा। इसी दौरान होमगार्ड जवान की पिटाई कर उसका राइफल छीन लिया गया। इसे देख पुलिस फिर बैकफुट पर आ गयी और भाग निकली। इसी दौरान सीओ की गाड़ी भी फूंक दी गयी। राहगीरों की भी पिटाई की गयी। इसमें दो लोगों का सर फूट गया। इसके बाद सदर एसडीओ वैभव श्रीवास्तव और आरा सदर एसडीपीओ पंकज रावत के नेतृत्व में काफी संख्या में पुलिस पहुंची और भीड़ को खदेड़ स्थिति नियंत्रित की गयी। शाम करीब तीन बजे स्थिति पूरी तरह नियंत्रित होने के बाद दोनों शव को पोस्टमार्टम के लिये आरा भेजा गया।

रायफल छीनने के बाद लौटे उपद्रवी, सीओ की गाड़ी को फूंका
Pawna scandal – रोड़ेबाजी और मारपीट कर रायफल छीनने के बाद एक युवक द्वारा होमगार्ड जवान की राइफल छीन ली गयी। इसके बाद राइफल लहराते भीड़ फिर पवना चौक पर पहुंची। उसके बाद सीओ की गाड़ी जला दी गयी। हालांकि सीओ का ड्राइवर मिथलेश कुमार द्वारा गाड़ी को वहां से निकलने की प्रयास किया गया। लेकन भीड़ अंधाधुंध गाड़ी के शीशे तोड़ने लगे, जिससे चालक अपना जान बचा कर भाग निकला। उसके बाद भीड़ ने गाड़ी को आग के हवाले कर दिया। इससे गाड़ी धू-धूकर जल उठी। कुछ हु दूरी पर खड़ी अगिआंव इंस्पेक्टर की गाड़ी को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। इस उपद्रव के दौरान बाजार की सारी दुकानें बंद हो गयी और खरीदारी करने आये लोग भाग निकले। इस कारण बाजार में सनाटा छा गया।

Pawna scandal
Pawna scandal

भीड़ का आरोप पुलिस के खदेड़ने के कारण ट्रैक्टर पलटने से गयी जान
Pawna scandal – चालक सहित दो युवकों की मौत के बाद उपद्रव मचा रही भीड़ पुलिस पर आरोप लगा रही थी। भीड़ का कहना था कि पुलिस के खदेड़ने के कारण भागने में ट्रैक्टर नहर में पलट गया। इससे दोनों की मौत हो गयी। भीड़ की मानें तो दोनों नारायणपुर घाट से बालू लेकर जा रहे थे। तभी पवना थाना की गश्ती गाड़ी द्वारा ट्रैक्टर को पकड़ने के लिये पीछा किया जाने लगा। इसी आपाधापी में ट्रैक्टर पलट गया। इधर, पुलिस का कहना है कि दोनो अवैध बालू लेकर जा रहे थे। तभी पुलिस की गाड़ी दिख गयी। इससे डर कर तेजी से ट्रैक्टर लेकर भागने लगे। इसी में ट्रैक्टर नहर में जा गिरा।

पुलिस के पीछे हटते ही भीड़ मचाने लगी उपद्रव
Pawna scandal – रोड़ेबाजी के दौरान उपद्रवियों ने पुलिस को खदेड़-खदेड़ कर पीटा। इस दौरान एक जवान से रायफल भी छीन ली गयी। इसके बाद पुलिस कर्मी के बैकफुट पर आ गये। उसके बाद तो उपद्रवियों ने पवना बाजार में जम कर उत्पात मचाया। कुछ उपद्रवी हाथ मे डंडा लेकर दुकान बंद करवा रहे थे। राहगीर को भी पीटा जा रहा था। इस देख बाजार की दुकानों के शटर गिरने लगे।

घटना के घंटे भर बाद लाइन से पहुंची अतिरिक्त पुलिस बल
पुलिस पर हमला, उपद्रव और सीओ की गाड़ी जलाये जाने के घंटे भर बाद सदर एसडीओ व पुलिस लाइन से दंगा निरोधक दस्ता, एम्बुलेंस, बज्र वाहन सहित अतरिक्त पुलिस बल मौके पर पहुंची। भारी मात्रा में पुलिस बल को देख मौके से उपद्रवी भाग निकले। उसके बाद पुलिस ने शव को पोस्मार्टम आरा भेज दिया और आवागमन बहाल हो सका।

एसडीओ के नेतत्व में फ्लैग मार्च और छपेमारी
आरा। बवाल और उपद्रव के बाद सदर एसडीओ के नेतृव में पवना बाजार सहित अन्य गांवों में धरपकड़ के लिए छपेमारी की गई। वहीं रोड पर भी टीम बनाकर फ्लैग मार्च किया गया। माइकिंग कर दुकानों को खोलने का अनुरोध किया गया। उसके बाद दुकान खुलीं।

राइफल बरामद, हिरासत में लिये गये कई संदिग्ध
उपद्रव के बाद छपेमारी में पवना गांव से चार संदिग्ध को पकड़ा गया है। पुलिस सभी को हिरासत में पूछताछ कर रही है। वही संदेश थाना के कोरी गांव में छपेमारी कर पुलिस से लूटी गई राइफल भी बरामद कर ली गयी है। पुलिस उपद्रव में शामिल अन्य लोगों की पहचान और धरपकड़ में जुटी है। इसके लिये टीम बनाकर छापेमारी की छापेमारी की जा रही है।

रोड़ेबाजी में इंस्पेक्टर सहित आधा दर्जन पुलिस कर्मी जख्मी
उपद्रवियों की रोड़ेबाजी और मारपीट में टाउन थानाध्‌यक्ष सहित आधा दर्जन पुलिस वाले जख्मी हुये हैं। इनमें जयराम सिंह, इंदुशेखर, रंजीत कुमार व धर्मेंद्र कुमार सहित अन्य शामिल हैं। चार जवानों का इलाज अगिआंव पीएचसी में कराया गया जबकि अन्य को इलाज के लिये आरा भेज दिया गया ।

रोडेबाजी में नगर थानाध्यक्ष का पैर हुआ फ्रैक्चर

Pawna scandal – पवना में रोड़ेबाजी के दौरान जख्मी आरा नगर थानाध्यक्ष अविनाश कुमार का दाहिना पैर फ्रैक्चर हो गया, उनका इलाज आरा सदर अस्पताल में कराया गया। इसके बाद उनके पैर का एक्सरे हुआ। जिसमें पैर फ्रैक्चर होने की पुष्टि हुई। इसके बाद उनके पैर पर प्लास्टर चढ़ाया गया।

पांच मई को होने वाली थी विकास की शादी, दोनों के घर में मचा हाहाकार

ट्रैक्टर हादसे में चालक सहित दो युवकों की मौत से उनके घरों में कोहराम मच गया। बताया जाता है कि मृत अजीत पासवान तीन भाई व तीन बहन में मांझिल था। उसके परिवार में मां विजान्ती देवी, पत्नी उषा देवी, दो भाई मनीष, नीतीश व तीन बहन रूबी, रिंकी और अंशु है। बताया जा रहा है उसकी पिछले साल ही शादी हुई थी। वहीं विकास कुमार दो भाइयों में बड़ा था। उसकी पांच मई को शादी होने वाली थी। लेकिन डोली निकलने से पहले ही उसकी अर्थी उठ गई। विकास कुमार के परिवार में मां, एक भाई और एक बहन है। दोनों के परिवार के सभी सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल था।

Pawna scandal
Pawna scandal

पवना बवाल कांड: भीड़ का गुस्सा या बालू माफियाओं की साजिश

चर्चा जोरों पर: माफियाओं के इशारे पर तो नहीं पुलिस पर किया गया हमला?

हर एंगल से जांच में जुटी पुलिस
Pawna scandal – पवना बाजार में मचा बवाल सिर्फ भीड़ का आक्रोश था या कुछ बालू माफियाओं की साजिश। इसकी चर्चा जोर से होने लगी है। पुलिस भी इस बात से इनकार नहीं कर रही है। इस एंगल से पुलिस जांच भी कर रही है। लोगों की मानें तो घटना के पीछे किसी की साजिश नजर आ रही है। क्योंकि हाल के दिनों में ऐसा उपद्रव नहीं देखा गया था। शनिवार को भीड़ द्वारा जिस तरह से उपद्रव मचाया गया, उसमें सिर्फ पब्लिक का गुस्सा नहीं दिख रहा था। बता दें कि दो युवकों की मौत के बाद भीड़ तीन घंटे तक उपद्रव मचाती रही। काफी संख्या में पुलिस के बाद भी रोडे़बाजी करना लोगों के गले नहीं उतर रहा है। पुलिस से राइफल छीन लेना, सीओ की गाड़ी जला दी गयी। सिर्फ पब्लिक द्वारा नहीं किया जा सकता है। बता दें कि जिले में बालू और शराब माफिया काफी सक्रिय हैं। इनके द्वारा अक्सर पुलिस पर हमले भी किये जाते रहे हैं।

- Advertisment -
AD
Ad
Akash Yadav Murder Shahpur
Akash Yadav Murder Shahpur Bihar

Most Popular