Friday, August 7, 2020
No menu items!
Home मनोरंजन कला पखावज सम्राट संगीत शिरोमणि शत्रुंजय प्रसाद सिंह उर्फ बाबू ललन जी की...

पखावज सम्राट संगीत शिरोमणि शत्रुंजय प्रसाद सिंह उर्फ बाबू ललन जी की जयंती मनी

बिहार के शास्त्रीय संगीत में बाबू ललन जी के योगदान विषय पर ऑनलाइन वार्ता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

आरा। शहर के शीशमहल चौक स्थित शत्रुंजय संगीत विद्यालय ( जमीरा कोठी) के द्वारा आरा के प्रसिद्घ पखावज सम्राट संगीत शिरोमणि शत्रुंजय प्रसाद सिंह उर्फ बाबू ललन जी की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर बिहार के शास्त्रीय संगीत में बाबू ललन जी का योगदान विषय पर ऑनलाइन वार्ता कार्यक्रम किया गया।

जेल में बंद पत्रकार नवीन निश्चल हत्याकांड के मुख्य आरोपित की मौत

इस वार्ता के मुख्य वक्ता नई दिल्ली के पंडित विजय शंकर मिश्र ने कहा कि बाबू ललन जी एक महान संगीतद्वारक थे। बाबू ललन जी की कला कौशलता अद्भुत थी। 1940 के दशक में भारत का सबसे बड़ा संगीत सम्मेलन आरा में हुआ। आरा का नाम राष्ट्रीय मानचित्र पर बाबू ललन जी की बदौलत अंकित हुआ।

बिहार के शास्त्रीय संगीत में बाबू ललन जी के योगदान विषय पर ऑनलाइन वार्ता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

सपा के छात्र सभा के प्रदेश अध्यक्ष ने जगदीशपुर नपं के मुख्यपार्षद पर लगाए गंभीर आरोप

संगीत एवं नाट्य विभाग, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय की विभागाध्यक्ष प्रोफेसर (डॉ.) लावण्य कीर्ति सिंह काव्या ने कहा कि बाबू ललन जी बिहार के शास्त्रीय संगीत जगत के महान शख्शियत थे। ललन जी के नाम से पुरस्कार की घोषणा होनी चाहीय। समाज ने नहीं किया बाबू ललन जी के सांगीतिक कार्यो को उजागर।

बिहार के शास्त्रीय संगीत में बाबू ललन जी के योगदान विषय पर ऑनलाइन वार्ता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

 भोजपुर एसपी सुशील कुमार द्वारा नवादा एवं जगदीशपुर थाना इंचार्ज सहित 18 थाना इंचार्जो के वेतन भुगतान पर रोक

इटावा के चौधरी चरण सिंह महाविद्यालय के तबला के प्रोफेसर लाल बाबू निराला ने कहा कि बाबू ललन जी के सांगीतिक कार्यो की बदौलत आरा को संगीतज्ञों का तीर्थ और छोटकी बनारस जैसे नाम दिए गए।

संचालन करते हुए सुविख्यात कथक नर्तक बक्शी विकास ने कहा कि आज की पीढी का ललन जी से परिचित न होना दुखद है। ललन जी के प्रति सरकार और समाज का रवैया उदासीन रहा। इस शहर में शास्त्रीय संगीत और ललन जी के कार्यो की उपेक्षा क़े कारण अश्लील भोजपुरी संगीत फैला।

बिहार के शास्त्रीय संगीत में बाबू ललन जी के योगदान विषय पर ऑनलाइन वार्ता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

राकेश गोस्वामी हत्याकांड का खुलासा-बहन के साथ देख कातिल बन गया दोस्त,कर दी हत्या

इसके बाद विदुषी बिमला देवी ने राग मियां मल्हार में छोटा ख्याल ” बोले रे पपीहरा अब घन गरजे ” झूला गायन “झूला झूले नंदलाल संग राधा गुजरी” ठुमरी व दादरा प्रस्तुत कर समां बांधा। संचालन बक्शी विकास व धन्यवाद ज्ञापन नीरजा सिंह ने किया।

और भी पढ़े – खबरें आपकी-फेसबुक पेज

- Advertisment -
Shadow
Slider

Most Popular

भोजपुर से बडी खबरः कोरोना के 80 पॉजिटिव मरीज मिले

1814 लोगों का हुआ रैपिड टेस्ट, 80 लोग पाए गए पॉजिटिव आरा। भोजपुर जिले में शुक्रवार की शाम कोरोना को लेकर एक बड़ी खबर सामने...

आरा: बारिश के खुशनुमा मौसम में कजरी व झूला ने अद्भुत छटा बिखेरी

बारिश के खुशनुमा मौसम में कजरी व झूला ने अद्भुत छटा बिखेरी। अवसर था आरा एचडी जैन कॉलेज के प्रदर्श कला विभाग द्वारा आयोजित...

भोजपुर के उमरावगंज में बाइक के टक्कर से वृद्ध की मौत

सड़क किनारे बैठा था वृद्ध व्यक्ति, तभी बाइक ने मार दी टक्कर आरा।बिहिया(जितेंद्र कुमार) बहोरनपुर ओपी के करजा राजपुर सड़क पर बाइक धक्के से एक...

अभिषेक की उपलब्धि युवाओं के प्रेरणा- ई. संजय शुक्ल

इंजीनियर सह प्रख्यात चिंतक संजय शुक्ल ने अभिषेक को दी बधाई आरा। अगर सच्ची लगन हो और चाहत को पाना हो तो क्या नही हो...
Don`t copy text!