Monday, June 21, 2021
No menu items!
Homeमनोरंजनकलाबुद्ध के आदर्शो से स्वस्थ समाज का निर्माण संभव-बक्शी विकास

बुद्ध के आदर्शो से स्वस्थ समाज का निर्माण संभव-बक्शी विकास

खबरे आपकी बिहार/आरा: Ara artists बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर प्रो. श्याम मोहन अस्थाना द्वारा लिखित चर्चित नृत्य नाटिका “बुद्धम शरणम गच्छामि” के वर्चुअल प्रदर्शन ने इस कोरोना महामारी में लोगों को मानवता की ओर आकर्षित किया। इस नृत्य नाटिका का निर्देशन कथक गुरु बक्शी विकास ने किया।

Ara artists
नृत्य नाटिका में सामाजिक कुरीतियों व चांडालिका की व्यथा को बखूबी दिखाया

Ara artists-नृत्य नाटिका में सामाजिक कुरीतियों व चांडालिका की व्यथा को बखूबी दिखाया

कलाकारों में अमित कुमार, रविशंकर, राजा कुमार, सोनम कुमारी, सृष्टि प्रिया, पुष्पांजली राज, शालिनी, हर्षिता विक्रम एवं शिवानी सिंह ने अपने नृत्य व अभिनय से श्रोताओं को खासा आकर्षित किया। इस नृत्य नाटिका में सामाजिक कुरीतियों व चांडालिका की व्यथा को बखूबी दिखाया गया है। वहीं चांडालपुत्री व राजकुमार के प्रेम प्रणय ने आंनद विभोर किया। इस नृत्य नाटिका ने बुद्ध के संदेशों के माध्यम से मानवता एक उदारता उभर कर सामने आया।

पढ़े :- आरा की संगीत प्रेमी युवतियां ऑनलाइन सिख रही है कथक नृत्य के गुर

इस गुरु बक्शी विकास ने कहा कि वर्तमान कोविड काल में हमें जीवन का मूल्य समझना होगा और एक दूसरे की मदद करनी होगी। बुद्ध के जीवन पर आधारित इस नृत्य नाटिका की प्रस्तुति का यही हमारा उद्देश्य भी हैं। हर इंसान को अपने अंदर उदारता के स्वभाव को विकसित करने की आवश्यकता है। भगवान बुद्ध के आदर्शो पर चलने से एक स्वस्थ समाज का निर्माण किया जा सकता है। भगवान बुद्ध की वास्तविक कथाए आज भी प्रासंगिक हैं।

पढ़े :- सड़क और दियारे के बाद अब नदी के रास्ते बालू की ढुलाई पर भोजपुर और पटना प्रशासन की नजर

पढ़े :- रफ़्तार का कहर : वाहनों की चपेट में आने से भोजपुर में औसतन हर दिन एक की मौत

पढ़े :-पटना-बक्सर फोरलेन: गीधा स्थित मंदिर एवं कायमनागर स्थित मज़ार दूसरी जगह होगा शिफ्ट

- Advertisment -
khabreapki.com-politics
AD
Ad-school-
khabreapki.com-politics

Most Popular