Thursday, March 4, 2021
No menu items!
Home राजनीत आरा में युवा जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के साथ मारपीट, हाथ टूटा

आरा में युवा जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के साथ मारपीट, हाथ टूटा

JDU national leader जख्मी प्रिंस सिंह बजरंगी ने डीआईयू टीम पर लगाया मारपीट का आरोप

पुलिस का मारपीट से इंकार, एसपी बोले: साथी को बचाने के लिये लगा रहे झूठा आरोप

खबरे आपकी JDU national leader आरा शहर के नवादा थाना क्षेत्र के पश्चिमी ओवरब्रिज पर शनिवार की दोपहर युवा जदयू के राष्ट्रीय महासचिव प्रिंस सिंह बजरंगी के साथ मारपीट की गई। स्कॉर्पियो सवार लोगों ने जदयू नेता की कार रोक कर उनकी जमकर पिटाई कर दी। इसमें जदयू नेता जख्मी हो गये, उनका एक हाथ फ्रैक्चर हो गया। उनका इलाज सदर अस्पताल में कराया जा रहा है। जख्मी जदयू नेता ने डीआईयू टीम पर मारपीट करने का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस मारपीट किये जाने से इंकार कर रही है।

आरा शहर के विष्णु नगर में रहने वाले JDU national leader प्रिंस सिंह बजरंगी उर्फ गंभीर सर्वेश कुमार युवा जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के अलावे सह सासाराम विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी भी हैं। इधर, जख्मी जदयू नेता ने बताया कि शनिवार की दोपहर वह अपने साथी रोहित के साथ कार से कोईलवर के साइट जा रहे थे। तभी ओवरब्रिज पर स्कॉर्पियो सवार लोगों ने उसकी कार रोक ली। जदयू नेता के अनुसार स्कॉर्पियो में सवार लोग डीआईयू टीम के थे और सिविल ड्रेस में थे। इस दौरान कार से उतार कर उनके साथ मारपीट की जाने लगी। पिटाई कर दिये जाने के बाद डीआईयू इंचार्ज पहुंचे और बोलने लगे कि इनको छोड़ दो। गलत आदमी को पकड़ लिया गया है। उसके बाद सभी चले गये।

जदयू नेता के अनुसार अपराध और पुलिस के खिलाफ आवाज उठाने पर जिले के वरीय अफसर के निर्देश पर उनके साथ मारपीट की गयी है। कुछ दिनों पूर्व भी उनको झूठे मुकदमे में फंसाया गया था। उन्होंने कहा कि इस मामले को सरकार और पार्टी में सरकार में हाई लेवल तक ले जायेंगे। इधर, एसपी हर किशोर राय ने बताया कि जदयू नेता प्रिंस सिंह बजरंगी के एक साथी जमीन धोखाधड़ी में आरोपित है। डीआईयू टीम उनके साथी को गिरफ्तार करने गयी थी। जदयू नेता द्वारा साथी को बचाने के लिये पुलिस पर आरोप लगा रहे हैं। 

पांच माह पहले जदयू नेता और उनके साथी को मारी गयी थी गोली

आरा। विष्णु नगर में रहने वाले युवा जदयू के राष्ट्रीय महासचिव प्रिंस सिंह बजरंगी और उनके साथी पर पहले भी हमला किया गया था। पांच माह पहले 27 सितंबर को जगदेव नगर में दोनों को गोली मार दी गयी थी। उसमें जदयू नेता के साथी मिथुन सिंह की मौत हो गयी थी। वहीं जदयू नेता गंभीर रूप से जख्मी हो गये थे। जदयू नेता के अनुसार उस घटना के बाद उनको गार्ड दिया गया था। लेकिन कुछ दिनों के बाद गार्ड को वापस कर लिया गया। इसे लेकर उन्होंने वरीय अफसरों से बात की थी। उसके बाद जिले में बढ़ रही आपराधिक घटनाओं को लेकर उन्होंने पुलिस के खिलाफ प्रेस कांफ्रेंस भी की थी। उसके बाद से ही पुलिस उनसे खार खायी हुई है।

आठ वर्ष पूर्व भी प्रिंस बजरंगी सहित दो छात्र जदयू नेताओं पुलिस कस्टडी में हुई थी पिटाई

आरा। जदयू नेता प्रिंस सिंह बजरंगी का पुलिस के साथ रिश्ते खास अच्छे नहीं रहे हैं। करीब आठ साल पहले भी पुलिस कस्टडी में उनकी पिटाई हो चुकी है। तब काफी बवाल मचा था और भोजपुर एसपी व एएसपी का तबादला भी कर दिया गया था। मामला तीस नवंबर 2014 का है। उस समय प्रिंस सिंह बजरंगी और कुमुद पटेल जदयू छात्र समागम के नेता थे।

आरा में सीएम नीतीश के कार्यक्रम के दौरान मंच पर चढ़ने को लेकर दोनों छात्र नेताओं का पुलिस के साथ विवाद हो गया था। उस मामले में पुलिस प्रिंस सिंह बजरंगी और कुमुद पटेल को रात में घर से उठाकर ले गयी थी। दोनों नेताओं को बड़हरा थाने में बंदकर बेरहमी से पिटाई की गयी थी। सिगरेट से भी दोनों को जलाने का आरोप लगा था। उसके बाद आरा में जमकर बवाल मचा था। तब सरकार और पुलिस की काफी किरकिरी हुई थी। दोनों नेताओं की पिटाई को गंभीरता से लेते हुये नीतीश सरकार ने तत्कालीन एसपी राजेश कुमार और एसडीपीओ दीपक रंजन का तबादला कर दिया था।

फुटबॉल मैच का मुख्य आकर्षण कुंडेश्वर गांव के तीन बोरों खिलाड़ी नाइजीरिया देश के-रविवार को है फाइनल

निबंधन ऑफिस के कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत से डीड के कागजात में हेराफेरी और जाली हस्ताक्षर

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular