Thursday, March 4, 2021
No menu items!
Home खेल क्रिकेट क्षत्रिय स्कूल के पूर्ववर्ती छात्रों ने जमाया ट्रॉफी पर कब्जा

क्षत्रिय स्कूल के पूर्ववर्ती छात्रों ने जमाया ट्रॉफी पर कब्जा

Friendship trophy मैन ऑफ द मैच से नवाजे गये राकेश हलचल

खबरे आपकी Friendship trophy आरा : गणतंत्र दिवस के अवसर पर शहर के जैन कॉलेज स्थित खेल मैदान पर एक दिवसीय क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया। फ्रेंडशिप कप 2021 टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में आरा शहर के हित नारायण क्षत्रिय विद्यालय के पूर्ववर्ती छात्रों की टीम ‘क्षत्रियन ने विरोधी टीम को धराशायी करते हुए चमचमाती ट्रॉफी पर अपना कब्जा जमाया।

सिविल कोर्ट की टीम को पांच विकेट से हराया

क्षत्रियन टीम का मुकाबला आरा सिविल कोर्ट की टीम से था। 16-16 ओवर के हुए इस रोमांचक मुकाबले में क्षत्रियन को 119 रनों का लक्ष्य मिला, जिसे टीम ने 5 विकेट खोकर 14वें ओवर में ही हासिल कर लिया। मैच के दौरान दोनों टीम की तरफ से शानदार गेंदबाजी, बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण देखने को मिला।

क्षत्रियन टीम की कप्तानी पूर्ववर्ती छात्र संघ के संयोजक अमरेन्द्र कुमार ने की, जबकि सिविल कोर्ट की टीम की कप्तानी सागर कुमार कर रहे थे। क्षत्रिय स्कूल की टीम ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला लिया था। सिविल कोर्ट ने निर्धारित ओवरों में 118 रन बनाए जिसे विपक्षी टीम ने दो ओवर शेष रहते ही हासिल कर लिया।

मैन ऑफ द मैच का खिताब क्षत्रियन टीम के राकेश कुमार हलचल को दिया गया। टीम की जीत में बल्लेबाज संतोष कुमार, जय प्रकाश सिंह उर्फ मंटू, अभिनय प्रकाश का भी बल्ले से सराहनीय योगदान रहा। जबकि गेंदबाजी में कप्तान अमरेन्द्र कुमार, राकेश कुमार हलचल के अलावा और कुमार राकेश ने शानदार प्रदर्शन किया।

चार लड़कों पर रेप करने और बंधक बनाये जाने का लगा आरोप

खिलाड़ियों को शील्ड, मोमेंटो और मेडल देकर किया गया सम्मानित

मैच के दौरान टीम का हौसला बढ़ाने विद्यालय के प्राचार्य योगेंद्र प्रसाद सिंह, पूर्व प्राचार्य सीताराम सिंह, आरा शहर के विख्यात चिकित्सक और विद्यालय के पूर्ववर्ती छात्र डॉ. विजय गुप्ता, डॉ. रामकृष्ण, अवधेश कुमार पांडेय, प्रो. चंदन कुमार, रामकुमार सिंह भी पहुंचे थे। मैच के आयोजन में विद्यालय के पूर्ववर्ती छात्र मुकेश प्रकाश का भी सराहनीय योगदान और सहयोग रहा सभी अतिथियों ने दोनों टीमों को बधाई दी, साथ ही खिलाड़ियों को शील्ड, मोमेंटो और मेडल देकर सम्मानित किया।

Prof. Kamalanand Singh 1956 में नेशनल अवार्ड से हुए थे सम्मानित

- Advertisment -
Slider
Slider

Most Popular