Monday, September 20, 2021
No menu items!
Homeराजनीतनिलंबन नहीं थानेदार सहित दोषी पुलिसकर्मियों पर दर्ज हो हत्या का मुकदमा:...

निलंबन नहीं थानेदार सहित दोषी पुलिसकर्मियों पर दर्ज हो हत्या का मुकदमा: राजद

Shobha Devi case-जगदीशपुर राजद विधायक बोले, कहा: नहीं संभल रहा लॉ एंड ऑर्डर

खबरे आपकी आरा। पीरो थाना क्षेत्र के मोथी गांव निवासी शोभा देवी की पुलिस कस्टडी में मौत पर जिले की राजनीति गरमा गयी है। इस घटना के जरिये राजद ने नीतीश सरकार पर  हमला बोला है। जगदीशपुर के विधायक राम विशुन सिंह उर्फ लोहिया ने कहा कि सूबे में अफसरशाही चरम पर है। भोजपुर एसपी जवाब देना चाहिये कि उनके पीरो थाना प्रभारी द्वारा किस आधार पर शोभा देवी को गिरफ्तार कर कस्टडी में पिटाई की गयी। जबकि किसी घटनाक्रम में उनका एफआईआर में नाम नहीं था। उन्होंने सभी दोषी पुलिसकर्मी पर आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा करने की मांग करते हुये कहा कि निलंबन कोई कार्रवाई नहीं है।

पढ़ें- तयशुदा शादी जब लेनदेन में लटका – पुलिस थाने में अरेंज मैरिज बना प्रेम विवाह

विधायक द्वारा एसपी पर नहीं मिलने का आरोप भी लगाया। कहा कि वह कई मामलों में मिलना चाहते हैं लेकिन एसपी मिलते नहीं है। कहा कि एक घटना में वांटेड रवीन्द्र महतो खुलेआम घूम रहा है और पुलिस तमाशबीन बनी है। विधायक ने कहा कि थाना प्रभारी लोग सही से काम नहीं कर रहे हैं। लॉ एंड ऑर्डर संभल नहीं रहा है। थानों में फाइलों का अंबार लगा हुआ है। कहा कि एसपी को सभी थाना प्रभारियों को बढ़िया से काम करने का सख्ती से आदेश देना होगा। ताकि लोगों को समय पर और उचित न्याय मिल सके।

 पढ़ें- आरा में भी दिखेगी लाल और हरी लाइट,नये ट्रैफिक नियमों का करें पालन

Shobha Devi case

राजद जिलाध्यक्ष ने कहा: पीरो थाने की घटना नये पुलिस एक्ट का नतीजा 

Shobha Devi case-वहीं राजद जिलाध्यक्ष वीरबल यादव ने भी पीरो की घटना की घोर निंदा की। कहा कि पीरो थाने की घटना बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नये पुलिस एक्ट का नतीजा है। इसके कारण गरीबों-पिछड़ों-अतिपिछड़ों पर पुलिस का अत्याचार बढ़ गया है। प्रेस वार्ता में राजद प्रदेश महासचिव मनोज सिंह, अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष विनोद चंद्रवंशी, पूर्व जिप सदस्य रीता देवी, छात्र राजद के प्रदेश उपाध्यक्ष आलोक रंजन, विधि प्रकोष्ठ के भोजपुर प्रधान महासचिव राम कुमार सिंह समेत अन्य  थे। इधर, एसपी ने कहा कि पूरी घटना की न्यायिक जांच करायी जा रही है। उसमें जो भी मामला आयेगा। उसके आधार पर कार्रवाई की जायेगी।

पढ़ें- जब काशी विश्वविद्यालय को अस्पताल बना देने की धमकी दी थी गवर्नर ने..

- Advertisment -
ad
ad23
Ad

Most Popular