Sunday, May 26, 2024
No menu items!
Homeअन्यतकनीकी अनुसंधान से मिली सफलता, हथियार सहित चार गिरफ्तार

तकनीकी अनुसंधान से मिली सफलता, हथियार सहित चार गिरफ्तार

Rajpur Imadpur:डकैती की साजिश में पकड़े गये पूर्व माले नेता को गोली मारने की तीन वांटेड सहित चार बदमाश

दो देसी पिस्टल, एक कट्टा, 17 गोली, दो मैगजीन और चार मोबाइल बरामद

Election Commission of India
Election Commission of India

पूर्व माले नेता को गोली मारने में शामिल अन्य बदमाशों की धरपकड़ को छापेमारी

खबरे आपकी आरा। भोजपुर जिले के Rajpur Imadpur इमादपुर थाना क्षेत्र के राजपुर सोन के पास से पुलिस ने पूर्व माले नेता ददन पासवान को गोला मारने में तीन आरोपितों सहित चार अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। चारों को डकैती की साजिश करते शनिवार की रात गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से दो देसी पिस्टल, एक कट्टा, अलग-अलग बोर की 17 गोली, दो मैगजीन और चार मोबाइल बरामद किया गया है।

Shobhi Dumra - News
Vishnu Nagar Ara Crime
Shobhi Dumra - News
Vishnu Nagar Ara Crime
previous arrow
next arrow

चारों बदमाशों की गिरफ्तारी से पूर्व माले नेता को गोली मारने का हुआ खुलासा

गिरफ्तार अपराधियों में इमादपुर थाना क्षेत्र के राजपुर गांव निवासी टींकू यादव, पश्चिमी इंग्लिश निवासी गोविंद कुमार, रोहतास के बिक्रमगंज थाना क्षेत्र के नौवां निवासी रोशन सिंह उर्फ छोटू सिंह सासाराम मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बहरार गांव निवासी विकास यादव शामिल हैं। चारों पर पहले से ही लूट, डकैती, आर्म्स एक्ट और हत्या के प्रयास जैसे मामले दर्ज हैं। गोविंद कुमार, रोशन सिंह उर्फ छोटू और विकास यादव माले नेता को गोली मारने में शामिल थे। तीनों ने माले नेता को गोली मारने में शामिल होने की बात भी स्वीकार की है। इनकी गिरफ्तारी से पूर्व माले नेता को गोली मारने का भी पूरा खुलासा हो गया।

Rajpur Imadpur: इमादपुर थाना क्षेत्र के राजपुर स्थित सोन के समीप शनिवार की रात पकड़े गये चारों 

Rajpur Imadpur SP Bhojpur
SP Bhojpur

एसपी विनय तिवारी ने रविवार को प्रेस कांफ्रेंस में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शनिवार की रात राजपुर सोन के पास डकैती की साजिश और हथियार की तस्करी को लेकर कुछ अपराधियों के जमा होने की सूचना मिली। इस आधार पर पीरो एसडीपीओ राहुल सिंह के नेतृत्व में टीम गठित की गयी। टीम राजपुर सोन के पास पहुंची, तो अपराधी भागने लगे। इस पर पुलिस ने खदेड़ को गिरफ्तार कर लिया। तलाशी के दौरान हथियार बरामद की गयी। 

बरामद हथियार और घटना स्थल से मिले खोखे की होगी एफएसएल जांच

Rajpur Imadpur: डकैती की साजिश करने में गिरफ्तार चारों अपराधियों के खिलाफ आर्म्स एक्ट और आपराधिक षड़यंत्र करने की प्राथमिकी दर्ज की गयी है। चारों को फिलहाल इसी में जेल भेजा जा रहा है। माले नेता को गोली मारने में सभी को रिमांड किया जायेगा। गिरफ्तार अपराधी माले नेता ईमादपुर कांड में गिरफ्तार चारों अप्राथमिकी अभियुक्त हैं। इनके पास से हथियार से ही माले नेता को गोली मारने की बात सामने आ रही है। इसकी जांच की जा रही है। इसके लिये बरामद हथियार और माले नेता को गोली मारने के घटनास्थल से मिले खोखे की एफएसएल भेजा जाएगा। एफएसएल जांच करायी जा रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद चार्जशीट दाखिल की जाएगी। बता दें कि माले नेता को गोली मारे जाने के बाद घटनास्थल से सात खोखा और एक बुलेट मिला था।

हत्या के प्रतिशोध में ददन पासवान को थी टपकाने की प्लानिंग

पूर्व माले नेता ददन पासवान को हत्या के प्‌रतिशोध में टपकाने की साजिश थी। उसी कारण उस पर गोली चलाई गयी थी, लेकिन संयोग से उसकी जान बच गयी थी। डकैती की साजिश करते चार अपराधियों की गिरफ्तारी और पूछताछ के बाद एसपी ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इमादपुर थाना क्षेत्र के बिहटा बस स्टैंड के समीप 23 नवंबर की सुबह पूर्व माले नेता ददन पासवान को प्रतिशोध में गोली मारी गई थी। संयोग से उसकी जान बच गई। उस मामले में कमलेश यादव और माखन यादव षडयंत्रकर्ता थे।

उन्होंने बताया कि घटना को अंजाम देने के लिए अपराधी सुबह करीब साढ़े चार बजे से ही ददन पासवान के गतिविधियों में लग गए थे। वह जैसे चाय की दुकान पर पहुंचे, तभी उन पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी गयी। घटना के बाद सभी अपराधी औरंगाबाद और रोहतास भाग निकले। एसपी ने बताया कि गिरफ्तार सभी अपराधी पहले गांव में ही रहते थे। लेकिन प्रतिशोध के कारण उसने ठिकाना बदल लिया था और वह दूसरे जगह चले गये थे।

Rajpur Imadpur इधर, पुलिस के अनुसार पूर्व इमादपुर थाना क्षेत्र में श्री गोविंद यादव की हत्या कर दी गई थी। उसके प्रतिशोध में झरी पासवान को गोलियों से भून दिया गया था। झरी पासवान की हत्या के प्रतिशोध में घटना के 4 घंटे के बाद प्रमोद यादव की हत्या कर दी गई थी। प्रमोद यादव की हत्या का बदला लेने के लिये ददन पासवान को गोली मारी गई थी। बता दें कि इमादपुर थाने के जगजीवनापुर गांव में वर्ष 2006 में अगवा कर पांच बच्चों की अपहरण कर हत्या कर दी गई थी। सभी का शव सोन में फेंक दिया गया था। उसमें कुछ का शव बरामद भी नहीं हो सका था। उसी समय से थाना क्षेत्र में शोध प्रतिशोध का ज्वाला भडक रहा था। हालांकि बाद में कुछ वर्ष तक इलाका शांत रहा जिसे लोगों ने राहत की सांस ली।  

दो अपराधियों ने निभाई थी लाइनर की भूमिका

पूर्व माले नेता को गोली मारने में दो अपराधियों ने लाइनर का काम किया था। एसपी ने बताया कि इनमें एक पश्चिमी इंग्लिश निवासी गोविंद कुमार है। वह बाइक सवार अपराधियों के साथ था। जबकि दूसरा लाइनर ददन पासवान के साथ दुकान पर खड़ा था। उसने ही अपराधियों को यह कह कर सूचना दी थी कि “आ गया है”। इसके बाद बाइक सवार अपराधी पहुंच गए और ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी।

तकनीकी अनुसंधान से मिली सफलता

आरा। एसपी ने बताया कि ददन पासवान को गोली मारने के मामले में नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई थी। उससे कुछ क्लू मिल गया था। इसके बाद टीम ने तकनीकी अनुसंधान कर साक्ष्य जुटायी। उन्होंने बताया कि झरी पासवान की हत्या के मामले में कमलेश जेल गया था। उसी दौरान उसकी गिरफ्तार विकास और मंगरु से दोस्ती हुई थी। कमलेश और माखन पहले बालू के घाट पर काम कर रहे थे। वहां बिक्रमगंज के नौंवा गांव निवासी रोशन सिंह उर्फ छोटू सिंह उनका पार्टनर रहा था। उसे भी ददन पासवान को गोली मारने के मामले में गिरफ्तार किया गया है

तनाव पाटने और शांति के लिये होगी बैठक

आरा। एसपी ने बताया कि इमादपुर थाना क्षेत्र के बिहटा में काफी दिनों से शोध प्रतिशोध की लड़ाई चल रही है। इसमें हाल के वर्षों में तीन लोग मारे गए हैं। उन्होंने बताया कि इसको लेकर जल्द ही प्रतिनिधियों और सम्मानित लोगों के साथ मीटिंग किया जाएगा। उसमें डीएम समेत अन्य अफसर मौजूद रहेंगे। बैठक में इलाके में किस तरह शांति व्यवस्था हो। इस पर चर्चा की जाएगी तथा लोगों से सुझाव मांगा जाएगा सौहार्द का वातावरण विकसित हो। इसके लिए कार्य किया जाएगा।

पुरस्कृत होगी पुलिस टीम

एसपी ने बताया की छापेमारी दल में शामिल पुलिस टीम को पुरस्कृत किया जाएगा। पुलिस टीम में एसडीपीओ राहुल सिंह, नगर थाना इंचार्ज शंभू कुमार भगत, इमादपुर थाना इंचार्ज प्रभाष कुमार, हसन बाजार ओपी इंचार्ज शिवेंद्र कुमार, डीआईयू के अवधेश कुमार, सुधीर कुमार, सिपाही अविनाश और अमित शामिल थे।

KRISHNA KUMAR
KRISHNA KUMAR
Journalist
- Advertisment -
Vikas singh
Vikas singh
Vikas singh
Vikas singh

Most Popular

Don`t copy text!